कोई अदालत है प्रेम जैसे

4
35

वरिष्ठ कवि नंदकिशोर आचार्य का नया कविता संग्रह आया है ‘केवल एक पत्ती ने’, ‘वाग्देवी प्रकाशन, बीकानेर से. उसी संग्रह से कुछ कविताएँ आज प्रस्तुत हैं- जानकी पुल.
  
अभिधा में नहीं
जो कुछ कहना हो उसे
–खुद से भी चाहे—
व्यंजना में कहती है वह
कभी लक्षणा में
अभिधा में नहीं लेकिन
कभी
कोई अदालत है प्रेम जैसे
कबूल अभिधा में जो
कर लिया
–सजा से बचेगी कैसे!
हर कोई चाहता है
साधू ने भरथरी को
दिया वह फल—
अमर होने का
भरथरी ने रानी को
दे दिया
रानी ने प्रेमी को अपने
प्रेमी ने गणिका को
और गणिका ने लौटा दिया
फिर भरथरी को वह
—भरथरी को वैराग्य हो
आया
वह नहीं समझ पाया:
हर कोई चाहता है
अमर करना
प्रेम को अपने.
मेरी तरह
सीने में गहरे
सूखी धरती के
बहती रहती है जलधार
सदा बसा रहता है
अपनी स्मृतियों में
उजाड़
आकाश के कानों में
गूंजा ही करती सब समय
सन्नाटों की पुकार
इन सबने क्या
मेरी तरह
किया था कभी
तुम से प्यार?
यादों में
एक उदास गंध है
सूख कर झरे सपनों की
दरख़्त के
खुशबू के रंगों की
यादों में
डूबा है जो.
सपना जो नहीं होता
झूठा है वह सच
सपना नहीं जो होता—
सपने में ही जीना
सपने को चाहे सच होना है उसका
झूठ को जियो कितना ही
सच नहीं होता वह
जिऊँ चाहे सपने-सा
तुम्हें
सच तुम ही हो मेरा.
सपने में- एक
देखा सपने में
मैंने
अपने को
देखते हुए सपना
–और ईश्वर हो गया
जागता हुआ सपने में.
सपने में—दो
सपने में देखा जो
तुमने
अपना सपना देखते
मुझको
सुला लिया उस को
गहरी नींद में अपनी

4 COMMENTS

  1. vattsala pandey said…
    jis prakar nadi ke bheetar ek aur nadi bahati hai,
    samandar mei ek aur samudra hilor bharta hai, usi
    prakar Nand Kishor Acharya ki kavitaon mei prem –
    darshan, tark, virah, vedana adi se bhare hokar bhi har bar ek naye rang se parichit karvati hai.
    Unki kavitaon mei koi stri nahi, koi deh nahi, koi endrikta nahi phir bhi sab hai, lekin anubhuti ke roop mei. vahan kisi bahari saundary ki darkar nahi hai vah to svatah prvahman hai. har pathak ki kalpna stri,saundary aur prem khud gadhti hai.
    July 17, 2011 7

  2. श्रीमान बहुत अच्छी कवितायेँ ….साझा करने के लिए आभार….

  3. har koi chahta hai amar karna … kitni sundar bhavna hai . in sabne bhi kiya tha kya meri tarah tumhe pyaar. prem ki anoothhi rachna. abhaar.

LEAVE A REPLY

eight + seventeen =