समुद्र में जाकर क्या हो जाता है वह?

1
36

यह कवि आरसी प्रसाद सिंह की जन्मशताब्दी का भी साल है. इस अवसर पर उनकी कुछ मैथिली कविताओं का हिंदी अनुवाद किया है युवा कवि त्रिपुरारि कुमार शर्मा ने- जानकी पुल.


1.      ऋतुराजदर्शन
बसंत ऋतु का आगमन हो चुका है
अमलतास के डालीडाली पर
पत्तीपत्ती पर
जैसे कोई लालहरापीले रंग का
महकता हुआ बाल्टी
उढ़ेल गया है
मंदमंद दक्खिनी हवा से
फूले हुए सरसों के खेत में
जैसे कोई भरा हुआ पीला पोखर
लहरा रहा हो
आम के मंजर से चू रहा है रस
किसी पागल की तरह
भिनभिनाती है मधुमक्खियाँ
हजारोंहजार
बागबगीचे में खिले हुए हैं फूल
अधरों को गोलगोल धुमाए
ठहाका लगाते हुए,
सुगंध के प्रत्येक लहर पर
रसराज के साक्षात् शोभादर्शन से
मेरा प्राण आम्रपाली की तरह
नाचनाच कर
गीत गुनगुनाने लगा है। 
राजमार्ग पर स्वछ्न्द चला जा रहा है
ऋतुराज का स्वर्णिम रथ;
रथ के ऊपर फड़फड़ा रहा है
पलाश के फूल का लाल झंडा
और झंडे के आगेपीछे
अनेकों प्रकार के पक्षियों का झुण्ड
चहचहा रहे हैं
इंन्द्रनुष बनाते हुए।
मैं चम्पाचमेली केस्वर्गीयसौभाग्यपर
पूरीपृथ्वीकेसाम्राज्यपर
आनंदसेबिभोरहोकरनाचहीरहाथा
कितभीथमगई दृष्टि  
केसरियाबागके
एकउपेक्षितकोनेमें
ऊभड़खाबड़, अस्तव्यस्त
खड़ाथाएकबबूलकावृक्ष।
किसीअनाथकीतरहमलीन
जीर्णजर्जर, दीनहीन
कहींभीएकपत्तानहीं
ठीकसाही की तरह
पूरीदेहपरभराहैकाँटा
जैसेआक्रोशकीबर्छीलिए
वर्तमानयुगबोधमें
मचलरहाहै
युवाक्रांतिकादिशाहीनस्वर।


2.      संक्रांति
क्रांति घटित होती है
आकस्मिक रूप से
जैसे कोई अन्य प्राकृतिक घटना।
न ही लाई जाती है,
न बनाई जाती है,
न गढ़ी जाती है,
बर्तन की तरह,
किसी कुम्हार की चाक पर।
क्रांति स्वयंभू होती है,
जैसे आंधीबाढ़,
जैसे ज्वालामुखीविस्फोट,
जैसे उल्कापात।
वह कोई दीप नहीं है,
जिसे जलाया जा सके।
वह किसी चूल्हे की आग नहीं है,
जिसे सुलगाया जा सके।
और न ही वह कोई बाज़ार की वस्तु है,
जिसे पैसेदोपैसे देकर खरीदा जा सके।
नहीं है वह किसी खेत की घासफूस,
जिसे उपजाया जा सके।
वह हाथ की दीयासलाई नहीं है,
आकाश की बिजली है।
अपनेआप अचानक से
जल उठती है।
और जल उठती है पूरी दुनिया में
क्रांति नहीं है
कोई योजनाबद्ध कार्यक्रम।
योजना और विस्फोट
जीवन के दोनों छोरों पर
जैसे जन्म और मृत्यु।
किसी पाहुन की तरह
अनागत का द्वार तोड़ कर
अंदर आ जाती है अचानक
बिना किसी पूर्व सूचना के।
क्रोधी दुर्वासा की तरह
गुस्से से थरथर काँपते हुए।
क्रांति बुलाई नहीं जाती है,
आ जाती है
गर्भ के बच्चे की तरह
अपनेआप;
प्रसवपीड़ा के बाद
समय की पूर्णाहुति होते ही।
सावधान! सावधान!
जोर लगाना गलत है!
भ्रूणहत्या पाप है!


3.      अर्थी का अर्थ
एक मुर्दा जानवर
मैं ढो रहा हूँ।
भारी है,
कंधा दुख रहा है,
किंतु, मैंने जो उठा रखी है लाश
अब भी ढोए जा रहा हूँ।
हो गया हूँ अस्तव्यस्त,
दर्द से बेहाल,
गंध से दूषित नाक थरथरा रही है
थका हुआ, फिर भी जा रहा हूँ।
अजब है मेरी ममता
रो रहा हूँ मगर जा रहा हूँ।
एक कंधा दुखने पर
दूसरे कंधे पर रख लेता हूँ;
कंधा बदलने के दौरान ही पता चलता है
कि अब यह मुर्दा नहीं है।
किंतु, यही मूल जीवन की अर्थी है
जिसे मैं हमेशा से ढो रहा हूँ
हमेशाहमेशा से
पता नहीं, मंज़िल कौनसी है?
और कब तक ढोना है? 


4.      असीम का आह्वान
एक शांत और सुस्थित झील को
कंकड़ का टुकड़ा
कर देता है अशांत!
एक शब्द
मुँह से बाहर आते ही
तरंगित कर देता है
सम्पूर्ण वायुमंडल को।
एकएक लहर उठकर
चाहती है किनारे के आँचल को छूना
चाहे वह कितनी ही दूर क्यों न हो
क्यों एक-एक कण
आकुल-व्याकुल है
असीम को आलिंगन करने के लिए
अनंत समय की सीमा को लांध कर
?
किस रहस्य के उद्घाटन के लिए
कली-कली का प्राण तड़फड़ा रहा है
पंखुड़ी के कारागार में
?
किसका प्रेम यह
अनंत
, आर-पार लहरा रहा है?
जिसमें डूबकर सिर तक
उतर रही है कलकल करते हुए
पर्वतशिखर से नदनदी निर्झर
पत्थर की गहरी नींद को तोड़कर?
समुद्र की थाह लेने के लिए
चलता है नमकपुत्र?
सूर्य को आलिंगन करने के लिए
पंख फड़फड़ा रहा है मोम का जूगनू!
जैसे कहा जा सकता है
कि समुद्र में जाकर क्या हो जाता है वह?
आग की बाँहों में समाकर
क्या हो जाती है मोमप्रतिमा?
गुड़ का स्वाद जानते हुए भी
कोई गूंगा
क्या कह सकता है?
और कपूर के सुगंध को चाटकर
अपनेआप शांत हो जाती है ज्योतिशिखा,
तब कौन बच जाता है
अपना अनुभव कहने के लिए?

1 COMMENT

  1. अनुवाद सा नहीं लग रहा लगता है जैसे कविता ही मूल रू में पढ़ रही हूँ….

    बधाई त्रिपुरारी कुमार को.
    और आभार आपका..प्रभात जी…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here