मीडिया धीरे-धीरे मनोरंजन बनेगा, कोरा मीडिया नहीं रह जाएगा।

1
30
आज सुबह-सुबह युवा और प्रखर मीडिया विश्लेषक विनीत कुमार का यह लेख पढ़ा. साझा तो तभी करना चाहता था लेकिन साझा करते-करते रात हो गई. देखिये हमारा मीडिया कहां जा रहा है- जानकी पुल.
—————————————————————————————————— 
आदित्य बिड़ला समूह ने इंडिया टुडेबिजनेस टुडे जैसी पत्रिकाएं प्रकाशित करने वाली कंपनी लिविंग मीडिया इंडिया के साढ़े सत्ताईस फीसद शेयर खरीद लिए हैं। इसकी बदौलत टीवी टुडे नेटवर्कजिसका 57.46 फीसद लिविंग मीडिया के पास था और उस पर मालिकाना हक अरुण पुरी का ही हैअब उसमें भी आदित्य बिड़ला समूह का व्यावसायिक दखल हो गया है। 

टीवी टुडे नेटवर्क आजतकदिल्ली आजतकहेडलाइंस टुडेतेज जैसे समाचार चैनलों सहित ओए 104.8 एफएफ रेडियो का प्रसारण करता है। आदित्य बिड़ला से पहले ही टीवी टुडे नेटवर्क के शेयर अनिल अंबानी की कंपनी रिलांयस कैपिटल के पास 13.36 फीसद और टाटा म्युचुअल फंड के पास 1.36 फीसद हैं। 

शेयर खरीदने के दौरान आदित्य बिड़ला समूह के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिड़ला ने वक्तव्य दिया कि निवेश के लिहाज से आने वाले समय में मीडिया फायदेमंद सौदा है। इससे पहले इसी साल तीन जनवरी को मुकेश अंबानी की कंपनी रिलांयस इंडस्ट्रीज ने कहने को एक स्वायत्त संस्था बना कर करीब सत्रह सौ करोड़ रुपए नेटवर्क-18 में निवेश किया तो यही तर्क दिया था। इतना ही नहींइससे पहले भी दिसंबर महीने में दिल्ली की पेट्रोरसायनउर्वरक और मनोरंजन उद्योग से जुड़ी कंपनी अभय ओसवाल समूह ने 24.24 करोड़ रुपए निवेश करके एनडीटीवी के 14.2 फीसद शेयर खरीदे तो घोषणा की कि आने वाले समय में इससे कंपनी को मुनाफा होगा।


जाहिर हैकोई भी कॉरपोरेट कंपनी बिना मुनाफे की संभावना के मीडिया संस्थानों में निवेश नहीं करेगी। लेकिन मीडिया की व्यावसायिक रिपोर्ट पर गौर करें तो मौजूदा दौर में इसमें निवेश किया जाना किसी भी तरह से फायदेमंद सौदा दिखाई नहीं देता। फिक्की-केपीएमजी पिछले तीन साल से अपनी वार्षिक रिपोर्ट में बताते आए हैं कि मीडिया- खासकर समाचार चैनल- किसी भी लिहाज से फायदे का धंधा नहीं रह गया है। हां इससे ठीक उलट मनोरंजन चैनलों का कारोबार ज्यादा फायदेमंद है। दो-तीन समाचार चैनलों को छोड़ दें तो अधिकतर की हालत बहुत अच्छी नहीं है।

इतना ही नहींमीडिया संस्थानों की बैलेंस शीट पर गौर करें तो स्पष्ट होगा कि समय के साथ वे लड़खड़ा रहे हैं। टीवी टुडे नेटवर्क लिमिटेड की बैलेंस शीट साफ बताती है कि वह पहले के मुकाबले घाटे की तरफ बढ़ रहा है। कंपनी ने 31 मार्च 2012 की रिपोर्ट में बताया है कि उसके मुनाफे में तेईस फीसद की गिरावट आई है और जनवरी-मार्च 2011 में जो मुनाफा 9.50 करोड़ रुपए का थावह अब घट कर 7.33 करोड़ रुपए हो गया।

मुकेश अंबानी ने जब राघव बहल के मीडिया संस्थान नेटवर्क-18 में करीब सत्रह सौ करोड़ रुपए निवेश कियाउस समय संस्थान करीब पांच सौ करोड़ रुपए के कर्ज में डूबा था। इसी तरह ओसवाल ग्रुप ने एनडीटीवी के शेयर जिस वक्त खरीदेउस समय संस्थान करीब 10.7करोड़ रुपए के नुकसान पर था। शेयर की कीमत पहले के मुकाबले बहुत ही कममात्र 25.45 रुपए रह गई थी। जाहिर है तीनों संस्थानों में कॉरपोरेट कंपनियों ने उस वक्त निवेश कियाजब वे घाटे में चल रहे थे। कहने को कहा जा सकता है कि उन्होंने इस उम्मीद में पैसे लगाए हैं कि आने वाले वक्त में स्थिति बेहतर हो सके। लेकिन क्या मामला सिर्फ इतना ही है

पहली बात तो यह कि मीडिया संस्थान धड़ाधड़ अपने शेयर कॉरपोरेट के हाथों बेच कर जल्दी से जल्दी न केवल कर्ज-मुक्त होना चाहते हैंबल्कि इसका उन्हें मुनाफा भी होता है। वे इससे अपना व्यावसायिक विस्तार भी कर लेते हैं। रिलांयस इंडस्ट्रीज ने जब नेटवर्क-18 में सत्रह सौ करोड़ रुपए निवेश किए तो संस्थान न केवल कर्ज-मुक्त हो गयाबल्कि उसने देश के सबसे प्रमुख क्षेत्रीय टीवी समूह इटीवी का अधिग्रहण भी कर लिया।

लेकिन इससे यह बात बिल्कुल स्पष्ट है कि इन मीडिया संस्थानों को विज्ञापन और मासिक शुल्क से आने वाले राजस्व से भरोसा पूरी तरह खत्म हो गया है। या फिर कॉरपोरेट करार के आगे यह खेल बहुत ही छोटा दिखने लगा है। वैसे भी अगर अपने घाटे की भरपाई के लिए ये विश्लेषण करते हैंनए सिरे से व्यावसायिक रणनीति तय करते हैंकंटेंट पर मेहनत करते हैंवितरण पर ध्यान देते हैं तो इसके लिए उन्हें न केवल काफी मेहनत करनी होगी बल्कि भारी रकम भी निवेश करनी होगी। इसके मुकाबले कॉरपोरेट के हाथों शेयर बेचना कहीं ज्यादा आसान काम है। इसमें उन्हें बिना लंबे इंतजार के कर्ज से मुक्ति और कई बार मुनाफा भी हो सकता है।

ऐसा करते हुए एक सवाल उठता है कि दूसरे व्यावसायिक घराने एक-एक कर पहले से स्थापित मीडिया संस्थानों में इतनी भारी रकम निवेश करते हैंतो उनकी साख क्या रह जाएगीक्या आने वाले समय में मीडिया संस्थान इन कॉरपोरेट घरानों और हमदर्द घरानों के खिलाफ खबरें प्रसारित करने की स्थिति में होंगे

संभव है कि ऐसे सवालों को भावुकता मान कर खारिज कर दिया जाए या फिर एक जवाबी सवाल खड़ा कर दिया जाए कि करार के पहले मीडिया संस्थान भला कब विरोध में खबरें प्रसारित कर रहे थे?

ऐसे सवाल फिर भी रहेंगे। लेकिन दूसरा सवालइससे कहीं ज्यादा गंभीर है। कि क्या ऐसा करके मीडिया संस्थानों ने अपनी साख के दम पर कमाई करने का मौका कॉरपोरेट घरानों को नहीं दे दियाभारी घाटे के बीच अगर कॉरपोरेट फिर भी इन मीडिया संस्थानों के शेयर खरीद रहा है तो इसका सीधा मतलब है कि उसकी नजर सिर्फ उसकी मौजूदा व्यावसायिक सेहत पर नहीं हैबल्कि ऐसा करके वह साथ ही लंबे समय में अर्जित उसकी साख भी खरीद ले रहा है जिसे अपने बूते वह शायद ही कभी हासिल कर पाता। और यह भी कि इस तरह वह अपने नए कारोबार के लिए भविष्य भी सुरक्षित कर रहा है।

लिविंग मीडिया इंडिया ने जब आजतक की शुरुआत की थीमुनाफे के बीच भी उसकी अपनी साख थी। ऐसा करते हुए वह मीडिया का बिजनेस मॉडल गढ़ रहा था। उसकी साख का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उस दौरान रॉयटर ने जब टीवी चैनलों का सर्वे किया तो आजतक को दूरदर्शन से दस फीसद ज्यादा विश्वसनीय बताया।

दरअसलइन टीवी कंपनियों ने खबरों और मीडिया की साख के बूते जो बाजार खड़ा कियाउसे धीरे-धीरे कॉरपोरेट के उस बाजार पर कब्जा करना था जहां वह रीयल एस्टेट से लेकर फिल्म निर्माणकेबल वितरणआॅनलाइन शॉपिंगमोबाइलसॉफ्टवेयर जैसे दूसरे कारोबार भी कर सके। उसके मुनाफे को अपने मूल व्यवसाय मीडिया में लगा सके ताकि दूसरी कॉरपोरेट कंपनियों पर उसकी निर्भरता कम से कम हो।

यह प्रिंट मीडिया के दौर से अलग रणनीति थी जहां इस्पातकपडे, सीमेंट आदि का धंधा करने वाला मालिक ही प्रेस भी चलाता था। इन संस्थानों ने मीडिया के अलावा कई दूसरे व्यवसाय भी शुरू किए। लेकिन इस तरह से घाटे की भरपाई के लिए कॉरपोरेट के हाथों करोड़ों रुपए के अपने शेयर बेचने का मतलब है कि उनके मूल व्यवसाय (मीडिया) का बिजनेस मॉडल चरमरा गया है। वे कॉरपोरेट के इलाके में क्या काबिज होतेउलटे कॉरपोरेट बडे ही आक्रामक तरीके से उनके इलाके में सेंधमारी करने लग गया।

घाटे में चल रहे इन मीडिया संस्थानों के पास लंबे समय से अर्जित साख हैजिसे बाजार की भाषा में ब्रांड कह सकते हैं। इधर कॉरपोरेट की दिलचस्पी मीडियाप्रोडक्शन हाउससिनेमा के प्रति तेजी से बढ़ी है। इसका सीधे तौर पर एक फायदा तो यह है कि इस समुदाय में किसी न किसी तरह शामिल होने का मतलब है किन्हीं भी तरह की गड़बड़ियों के सामने आने की संभावना का बहुत ही क्षीण हो जाना। वैसे भी एक ‘वॉचडॉग’ दूसरे ‘वॉचडॉग’ को कभी नहीं काटता। दूसरेआने वाले समय में जब वे मीडिया और मनोरंजन के धंधे में उतरेंगे,जो कि तेजी से शुरू हो गया हैतो हो सकता है उन्हें मार्केटिंग के स्तर पर बहुत अधिक मेहनत न करनी पडे। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने नेटवर्क-18 के साथ करार ही इसलिए किया कि आने वाले समय में जब उसकी कंपनी इन्फोटेल 4-जी के जरिए आॅनलाइल मोबाइल कंटेंट के धंधे में उतरे तो सामग्री के स्तर पर उसे कोई मेहनत न करनी पडेÞ। आदित्य बिड़ला समूहजिसने साल 2003 में अपनी कंपनी एप्पलाउज एंटरटेनमेंट के बैनर तले ‘ब्लैक’ फिल्म बनाई थीउसे और मजबूत करना चाहता हैमनोरंजन के कारोबार को बढ़ाना चाहता है। इधर अभय ओसवाल ग्रुप ने भी एनडीटीवी से करार इसलिए किया कि वह मनोरंजन उद्योग में कायदे से हाथ आजमाना चाहता है। जाहिर हैयह सब उसी रणनीतिफिक्की-केपीएमजी की रिपोर्ट और बिजनेस पंडितों की भविष्यवाणी का नतीजा है कि आने वाले समय में मनोरंजन उद्योग में भारी उछाल आएगा और मीडिया धीरे-धीरे मनोरंजन बनेगाकोरा मीडिया नहीं रह जाएगा।

इन रिपोर्टों और भविष्यवाणियों का असर तो हमें अभी से टीवी स्क्रीन और अखबार के पन्नों पर दिखाई दे रहा है। लेकिन यह एक खतरनाक स्थिति होगी कि जैसे-जैसे कॉरपोरेट और मीडिया में निवेश करने वाली कंपनियां अपने मूल व्यवसाय में मार खाती जाएंगी,मीडिया की स्थिति बदतर होती चली जाएगी। लेकिन अगर मजबूत होगी तो समाज के जरूरी सवाल भी उतने ही हाशिए पर धकेल दिए जाएंगे।

यह सिर्फ दर्शकों-पाठकों के स्तर का नुकसान नहीं हैबल्कि स्वयं मीडिया के भीतर बड़ा नुकसान हैजिसने कभी खबरों का कारोबार करते हुए एक बिजनेस मॉडल खड़ा करने की रणनीति बनाई थी। सरकार क्रॉस मीडिया ओनरशिप (यानी जो अखबार चला रहा हैवह मीडिया के बाकी माध्यमों को नहीं चला सकता) पर कुछ गंभीरता से सोच पाती और 360 डिग्री मीडिया के मालिकाना हक पर कुछ कदम उठातीउससे पहले ही 360 डिग्री कारोबार का दौर चल पड़ा है।


मूलतः जनसत्ता में प्रकाशित, 4 जून 2012 )

1 COMMENT

  1. Vineet ke likhe ki tareef karte hue sankoch hota hai ki log kahenge, achha mutual appreciation club bana rakha hai. Par majboor hoon. Yah lekh poonji ke khel ka bahut paina vishleshan hai. Vineet, nissandeh, hamare samay ke sabse umda media-analysts mein se hain… aur atirikt khushi is baat kee ki wo baanyen khare hain.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here