महान चित्रकार जे. स्वामीनाथन की कविताएं

6
39
मशहूर चित्रकार जे. स्वामीनाथन ने हिंदी में सात कविताएं लिखी थी. महज इन सात कविताओं की बदौलत उनका हिंदी कविता में अपना मुकाम बनना चाहिए. नहीं बना तो यह हमारे साहित्यिक समाज की कृपणता है. यहाँ प्रस्तुत है उनकी सातों कविताएं. इनको प्रस्तुत करने का विशेष प्रयोजन यह है कि कल इन कविताओं पर हमारे समय के बेहतरीन चित्रकार अखिलेश का लेख प्रस्तुत किया जायेगा जो स्वामीनाथन की कविताओं को लेकर है. मेरे जानते स्वामीनाथन की कविताओं पर वह पहला ही लेख होगा. फिलहाल आप स्वामीनाथन की कविताओं का आनंद लीजिये- प्रभात रंजन 

============================

1
गाँव का झल्ला

हम मानुस की कोई जात नहीं महाराज
जैसे कौवा कौवा होता है, सुग्गा, सुग्गा
और ये छितरी पूँछ वाले अबाबील, अबाबील
तीर की तरह ढाक से घाटी में उतरता बाज, बाज
शेर, शेर होता है, अकेला चलता है
सियार, सियार
बंदर सो बंदर, और कगार से कगार पर
कूद जाने वाला काकड़, काकड़
जानवर तो जानवर सही
बनस्पति भी अपनी-अपनी जात के होते हैं
कैल, कैल है, दयार, दयार
मगर हम मानुस की कोई जात नहीं
आप समझे न
मेरा मतलब इससे नहीं कि ये मंगत कोली है
मैं राजपूत
और वह जो पगडंडी पर छड़ी टेकता
लंगड़ाता चला आ रहा है इधर
बामन है, गाँव का पंडत
और आप, आपकी क्या कहें
आप तो पढ़े-लिखे हो महाराज
समझे न आप, हम मानुस की कोई
जात नहीं
हम तो बस, समझे आप,
कि मुखौटे हैं, मुखौटे
किसी के पीछे कौवा छुपा है
तो किसी के पीछे सुग्गा
सुयार भतेरे, भतेरे बंदर
और सब बच्चे काकड़ काकड़या हरिन, क्यों महाराज
शेर कोई-कोई, भेड़िए अनेक
वैसे कुछ ऐसे भी, जिनकी आँखों में कौवा भी देख लो
सियार भी, भेड़िया भी
मगर ज़्यादातर मवेशी
इधर-उधर सींगें उछाल
इतराते हैं
फिर जिधर को चला दो, चल देते हैं
लेकिन कभी-कभी कोई ऐसा भी टकराता है
जिसके मुखौटे के पीछे, जंगल का जंगल लहराता है
और आकाश का विस्तार
आँखों से झरने बरसते हैं, या ओंठ यूँ फैलते हैं
जैसे घाटी में बिछी धूप
मगर यह हमारी जात का नहीं
देखा न मंदर की सीढ़ी पर कब से बैठा है
सूरज को तकता, ये हमारे गाँव का झल्ला ।

2.
पुराना रिश्ता
परबत की धार पर बाँहें फैलाए खड़ा है
जैसे एक दिन
बादलों के साथ आकाश में उड़ जाएगा जंगल
कोकूनाले तक उतरे थे ये देवदार
और आसमान को ले आए थे इतने पास
कि रात को तारे जुगनू से
गाँव में बिचरते थे
अब तो बस
जब मक्की तैयार होती है
तब एक ससुरा रीछ
पास से उतरता है
छापेमार की तरह बरबादी मचाता है
अजी क्या तमंचे, क्या दुनाली बंदूक
सभी फ़ेल हो गए महाराज
बस, अपने ढंग का एक ही, बूढ़ा खुर्राट
न जाने कहाँ रह गया इस साल
3.
सेव और सुग्गा
मैं कहता हूँ महाराज
इस डिंगली में आग लगा दो
पेड़ जल जाएँगे तो कहाँ बनाएँगे घोंसले
ये सुग्गे
देखो न, इकट्ठा हमला करते हैं
एक मिनट बैठे, एक चोंच मारा और
गए
कि सारे दाने बेकार
सुसरों का रंग कैसा चोखा है लेकिन
देखो न
बादलों के बीच हरी बिजली कौंध रही है
भगवान का दिया है
लेने दो इनको भी अपना हिस्सा
क्यों महाराज ?

4. 
दूसरा पहाड़
यह जो सामने पहाड़ है
इसके पीछे एक और पहाड़ है
जो दिखाई नहीं देता
धार-धार चढ़ जाओ इसके ऊपर
राणा के कोट तक
और वहाँ से पार झाँको
तो भी नहीं
कभी-कभी जैसे
यह पहाड़
धुँध में दुबक जाता है
और फिर चुपके से
अपनी जगह लौटकर ऐसे थिर हो जाता है
मानो कहीं गया ही न हो
-देखो न
वैसे ही आकाश को थामे खड़े हैं दयार
वैसे ही चमक रही है घराट की छत
वैसे ही बिछी हैं मक्की की पीली चादरें
और डिंगली में पूँछ हिलाते डंगर
ज्यों की त्यों बने हैं,
ठूँठ-सा बैठा है चरवाहा
आप कहते हो, वह पहाड़ भी
वैसे ही धुँध में लुपका है, उबर आएगा
अजी ज़रा आकाश को तो देखो
कितना निम्मल है
न कहीं धुँध, न कोहरा, न जंगल के ऊपर अटकी
कोई बादल की फुही
वह पहाड़ दिखाई नहीं देता महराज
उस पहाड़ में गूजराँ का एक पड़ाव है
वह भी दिखाई नहीं देता
न गूजर,

6 COMMENTS

  1. किसी भी कविता अथवा चित्र की खूबसूरती यही होती है कि वो आपसे सीधा संवाद करे। ये कवितायें भी स्‍वामीजी के व्‍यक्तित्‍व व चित्रों की तरह ही एकदम सीधी व शानदार है…सीधी आपसे बात करती हुई। इनको पढ़ना स्‍वामीजी को अपने आसपास महसूस करना है। दीपेन्‍द्र Twitter Handle @drpandey

  2. प्रभात जी अज्ञानतावश या कि मेरी जानकारी की सीमितता के कारण जानकीपुल के पाठको तक एक गलत सूचना चली गयी कि स्वामीनाथन कि सिर्फ सात कवितायेँ हैं। कल ही मित्र पीयूष दईया से पता चला कि उनके पास स्वामी की कुछ और कवितायेँ भी हैं जो इनसे अलग हैं। वे मुझे उपलब्ध करा रहे हैं इस आग्रह के साथ कि उन कविताओं पर एक आलेख और लिखा जाये। मुझे ख़ुशी ही होगी।
    मेरे कारण जानकीपुल में गलत सूचना चली गयी जिसके लिए मैं क्षमा चाहता हूँ

  3. एक चित्रकार की गहरी अंतर्दृष्टि की कविताएं जिनमें कुछ भी थोपा हुआ नहीं है. एक सहज और गहरा भाव बिम्ब. जानकीपुल का शुक्रिया इस अनूठी प्रस्तुति के लिए.

  4. कविताएं कबीर होती चली हैं। उनके चित्रों से एकदम अलग मैं इन्हें देख रही हूँ। चित्र उनके दर्शन की तरफ ले जाते हैं और कविताएं जीवन के गाँव में किसी बसावट की तरह.…जानकीपुल शुक्रिया।

LEAVE A REPLY

twelve + 6 =