अमीर खुसरो पर नाटक लिखने की तैयारी में हूँ- उषाकिरण खान

0
41

वरिष्ठ लेखिका उषाकिरण खान हिंदी, मैथिली साहित्य की जानी पहचानी लेखिका हैं. उनके नए उपन्यास अगनहिंडोला के बहाने पेश है सुशील कुमार भारद्वाजसे हुई उनकी कुछ बातें:-
—————————————————————————————
आपका नया उपन्यास अगनहिंडोला आया है? अगनहिंडोला का क्या मतलब है?
अगनहिंडोला ब्रजभाषा का एक शब्द है| जो दो शब्दों से बना है- अगन और हिंडोला |जिसमे अगन का अर्थ है आग”, जबकि हिंडोला का मतलब है झूला”| यानी आग का झूला| दरअसल, अगनहिंडोला शेरशाह सूरी के जीवन पर आधारित उपन्यास है| और सभी जानते हैं कि शेरशाह सूरी युद्ध में मरे नहीं थे, बल्कि आग में जले थे| मतलब आग के झूले में चढ कर चले गये|

अगनहिंडोलाको आपने उपन्यास के शीर्षक के रूप में क्यों पसंद किया?
मैं शीर्षक के रूप में देशी शब्द को रखना पसंद करती हूँ| और अगनहिंडोला मुझे सही लगाइसीलिए शेरशाह सूरी को ध्यान में रखकर, इसका नाम अगनहिंडोला रखा| ठीक वैसे ही जैसे विद्यापति पर लिखे उपन्यास के लिए सिरजनहार|

शेरशाह सूरी के जीवन पर लिखने की कोई खास वजह?
शेरशाह सूरी पर लिखने की लालसा लगभग पन्द्रह वर्षों से थी| मैं उनके व्यक्तित्व से काफी प्रभावित थी| वे बिहार के थे| बहुत बड़े विद्वान थे| उन्होंने हिंदी में पहला फरमान जारी किया था| घोड़ों का व्यापर करने वाले साधारण से परिवार में जन्म लेकर, इस ऊँचाई तक पहुंचना, कोई साधारण बात तो नही है| फिर शेरशाह के ही कार्यों को आगे बढाकर अकबर महान बन गया| ऐसी ही बहुत सी बातें थीं जो मेरे मन को छू रही थी| सिरजनहार लिखने के साथ ही मैंने सोच लिया था कि शेरशाह पर लिखकर ही अपने ऐतिहासिक उपन्यास लेखन का अंत करुँगी|

शेरशाह सूरी के जीवन पर लिखे कुछ उपन्यास के नाम स्मृति में है?
मुझे शेरशाह सूरी पर लिखी सुधाकर अदीब की उपन्यास –“शान–एतारीकयाद है| लेकिन मेरे और उनके उपन्यास में एक बहुत बड़ा फर्क है कि उनके लेखन में इतिहास अधिक है जबकि मेरे लेखन में सामाजिकता| इसी चर्चा के सम्बन्ध में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के एक प्रोफेसर का फोन आया था| जिसमें उन्होंने बताया कि ऐतिहासिक दृष्टि से कहीं भी चूक नहीं हुई है, लेकिन संवाद पर थोडा भ्रम है| तो मैंने उन्हें कहा – “चतुर्वेदी जी आप उपन्यास पढ़ रहे हैं| ये तो किसी किताब में नहीं लिखा है कि कौन से शहंशाह अपनी किस बेगम से क्या बात करते थे? ये तो हम उपन्यासकार रोचकता को ध्यान में रखते हुए संवाद को लिखते हैं| यह पूरी तरीके से इतिहास बन जाये तो इसे पढ़ेगा कौन?”…….. संभव है सूरी के जीवन पर किसी और भाषा में कोई और उपन्यास हो, लेकिन उसकी जानकारी अभी मेरे पास नहीं है|
इस ऐतिहासिक उपन्यास लिखने का अनुभव कैसा रहा?
समाज में रहते हुए अलग अलग विचार के लोगों से मेलजोल होता है| बहुत सी बातों को जानने का मौका मिलता है| आसपास के माहौल से प्राप्त अनुभव से सामाजिक विषयों पर आसानी से लिखती हूँ| … फिर भी इतिहास से सम्बन्ध होने की वजह से प्रमाणिकता पर ध्यान देती हूँ| लेकिन ऐतिहासिक विषयों पर लेखन से पूर्व काफी तैयारी करनी पड़ती है| प्रमाणिकता के दृष्टिकोण से बहुत सारी चीजों को ध्यान में रखना पड़ता है| कोशिश होती है कि हर संभव उपलब्ध ग्रन्थ, शोध, नाटक, कहानी, लेख आदि सम्बंधित चीजों का गहन अध्ययन कर जाऊँ| मौलिक किताबों की खोज करती हूँ| उसमें भी शेरशाह सूरी मेरे काल के विषय ठीक वैसे हीं नहीं थे, जैसे विद्यापति| लेकिन शेरशाह के बारें में कुछ छूटे नहीं, इसके लिए गुलबदन बेगम आदि तक की रचनाओं को पढ़ी| उसके अनुसार समय और सन्दर्भ को ठीक से समायोजित कर अपने साहित्यिक शैली में प्रस्तुत की जो कि बहुत ही श्रमसाध्य कार्य था|`

इस तरह के ऐतिहासिक विषयों पर लिखे उपन्यासों के पाठकों के बारें में आप क्या सोचते हैं?
इतिहास को पढ़ने वाले लोग कुछ खास होते हैं| जबकि सामाजिक विषय पर लिखे उपन्यासों के पाठकों का वर्ग बड़ा है| कोई यह जान ले कि यह किताब विद्यापति या शेरशाह सूरी पर है तो कोई नहीं पढ़ेगा, जबतक कि उसे उनके बारे में जानने की लालसा न हो| लेकिन यदि उसे सामाजिकता के चाशनी में एक अच्छी शैली में प्रस्तुत किया जाय तो कोई भी इसे पढ़ सकता है| जैसे कि कुछ लोगों ने अगनहिंडोला को बेमन से उठाया लेकिन एक ही बैठकी में पढकर संतुष्ट भाव से उठे|

यूँ तो आप काफी छोटी उम्र से कविता का लेखन और पाठ करती रही हैं, लेकिन 1977 से आपने गद्य लेखन शुरू किया| तो 1977 से 2015 तक के सफर को आप किस रूप में देखती हैं?
हाँ| ……. 1977 से 2015 तक का सफर एक लंबा साहित्यिक सफर रहा| उसके पहले कविता लिखती और पढ़ती थी| जो कि अब, सब इधरउधर हो गया है| इसलिए अब उसका कोई खास मतलब नहीं रह गया है| कहानी, उपन्यास, नाटक, आदि विभिन्न विधाओं में लिखते हुए थोडा संतुष्ट तो हूँ|….. लेकिन कभी कभी लगता है मैं न तो पूर्ण रूप से लेखिका हूँ, न ही समाज-सेविका और न ही गृहिणी …….| इच्छा है कि किसी चीज में पूर्णता हासिल करूँ ……|मेरे साथ के लेखक लेखिकाओं ने कितना अधिक लिखा है? मेरी भी कोशिश होगी कि अंत अंत तक अधिक से अधिक सार्थक रचना दे सकूँ|

बाबा नागार्जुन का साथ आपको काफी मिला| उन्होंने आपके साहित्यिक जीवन और विचार पर कितना प्रभाव डाला?
बाबा नागार्जुन का प्रभाव हमारे विचारों पर नहीं पड़ावे तो कम्युनिस्ट विचारधारा के थे| लेकिन उनका प्रभाव मुझ पर बहुत अधिक पड़ा| वे मुझे कविता लिखने के लिए प्रेरित करते थे| साथ में कविता पाठ करने के लिए ले जाते थे| कभी कभी किसी विवशता में इस तरह के आयोजनों में जाने से कतराती थी तो अक्सर वे प्रोत्साहित करते हुए कहते थे- अधिक से अधिक लोगों से मिलो| उनके जीवन शैली को करीब से देखो| बहुत कुछ सीखने को मिलेगा|” मेरे घर पर रहते हुए एक घरेलू सदस्य की तरह हमेशा मार्गदर्शन करते रहे|….. बाद के दिनों में जब पढाई और पारिवारिक जिम्मेदारियों में उलझते चली गयी तो सब छूटने लगा| एक दिन बाबा ने कहा- काफी दिनों से कुछ लिखी नहीं हो, कुछ कुछ लिखते रहना चाहिए|” तब मैंने अपनी रूचि कहानी लिखने में बतायी| तब बाबा ने कहा – “कहानी के साथ-साथ उपन्यास भी लिखो| साथ ही उन्होंने सलाह दी कि गद्य लेखन से पहले अज्ञेय को पढ़ना चाहिए| भाषा कि रवानी अज्ञेय में है|” और अज्ञेय जी हँसते हुए कहते थे बाबा से बढ़कर कौन हैखैर, बाबा से मुझे हमेशा मार्गदर्शन मिलता रहा|

बाबा के अलावा और किन साहित्यकारों ने आपको प्रभावित किया?
हमारे यहाँ तो साहित्यकारों का आना जाना काफी अरसे से रहा है| इसलिए बाबा के अलावा कई लोग प्रेरणा के रूप में सामने आये| …. लेकिन धर्मवीर भारती जी ने काफी प्रभावित किया| परंतु उनसे कभी मेरी मुलाकात नहीं हुई|…. होगी भी क्यों? ….कहीं बाहर जाने का मौका ही नही मिला|… खासकर उनकी गुलकी बन्नोमुझे काफी पसंद आयी| गद्य लेखन की ओर तभी से मुड़ने की इच्छा हुई| वैसे तो प्रेरणा के रूप में क्या नही है? कालिदास कम हैं क्या?

विद्यार्थी जीवन में कविता करने वाली छोटी सी बच्ची और पद्मश्री उषाकिरण खान में क्या अंतर है?
जब पद्मश्री मिला तो सोचने लगी कि मैंने क्या किया है?.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here