Recent Posts

विष्णु खरे की एक असंकलित कविता

विष्णु खरे की एक असंकलित कविता कवि-संपादक पीयूष दईया ने उपलब्ध करवाई है।  विष्णु खरे की स्मृति को प्रणाम के साथ- मॉडरेटर ================ वसन्त  वे दौड़ कर दीवार तक पहुँच जाते हैं दरारों में झाँक वापस मेरी ओर गर्दन मोड़ कर मेरी पीठ से पूछते हैं क्या तुम गंधस्नाता वासन्ती बयार …

Read More »

उभरेंगे रंग सभी: ‘मनमर्जियां’ में इश्‍क का मनोवैज्ञानिक शेड

हाल में रीलीज़ हुई फिल्म ‘मनमर्जियां’ पर पाण्डेय राकेश की टिप्पणी- मॉडरेटर =============================================   ‘प्रेम के मनोविज्ञान की यही सबसे खास बात है कि व्‍यक्ति अपने संभावित प्रेमी/ प्रेमिका में स्‍वयं के ‘कैरेक्‍टर से बाहर’ आने की संभावना देखता है।’         ‘मनमर्जियां’ में अनुराग कश्‍यप अपनी विशिष्‍ट …

Read More »

वीरेन डंगवाल की सम्पूर्ण कवितायें पर अरविंद दास की टिप्पणी

अभी हाल में ही नवारुण प्रकाशन से जनकवि वीरेन डंगवाल की सम्पूर्ण कविताओं की किताब प्रकाशित हुई है। उसके ऊपर एक सारगर्भित टिप्पणी युवा लेखक-पत्रकार अरविंद दास की- मॉडरेटर ============================================= समकालीन हिंदी कविता की बनावट और बुनावट दोनों पर लोक की छाप स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ती है. लोक की …

Read More »