Recent Posts

हिंदी साहित्य के प्रारंभिक इतिहास : एक तुलनात्मक अध्ययन

योगेश प्रताप शेखर दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय में प्राध्यापक हैं. प्रखर और मुखर वैचारिकता के साथ लिखते हैं. उनका यह लेख ‘तद्भव 37’ में प्रकाशित हुआ है जिसमें उन्होंने हिंदी साहित्य के आरंभिक इतिहास-लेखन के पीछे की राजनीति को टटोलने का प्रयास किया है. लेख बहुत रोचक शैली में लिखा …

Read More »

अमिताभ को एंग्री यंगमैन बनाने वाले प्रकाश मेहरा

13 जुलाई को प्रकाश मेहरा का जन्मदिन था. 70-80 के दशक के स्टार निर्देशक को लगता है लोग भूल गए हैं. नवीन शर्मा का यह लेख उनको याद करते हुए लिखा है. इसी लेख से मुझे पता चला कि वे अच्छे गीतकार थे और ‘तुम गगन के चन्द्रमा मैं धरा …

Read More »

अमृत रंजन की कुछ छोटी-छोटी कविताएँ

  कविता को  अभिव्यक्ति का सबसे सच्चा रूप माना जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कवि कविता के माध्यम से अपने दिल की सबसे सच्ची बातों को अभिव्यक्त करता है. अभिव्यक्ति जितनी सच्ची होती है पढने वाले को अपने दिल की आवाज लगने लगती है. बाल कवि अमृत …

Read More »