Home / ब्लॉग / कितने ही चाँद रोने लगे हैं सियारों की तरह

कितने ही चाँद रोने लगे हैं सियारों की तरह

70 के दशक के आरम्भ में अशोक वाजपेयी सम्पादित ‘पहचान सीरीज’ ने जिन कवियों की पहचान बनाई थी दिविक रमेश उनमें एक थे. अर्सा हो गया. लेकिन दिविक रमेश आज भी सृजनरत हैं. अपने सरोकारों, विश्वासों के साथ. उनकी कविता का मुहावरा जरूर बदल गया है लेकिन समकालीनता से जुड़ाव नहीं कम हुआ है. पढते हैं चार कविताएँ- जानकी पुल.
————————————————————————————-

तभी न
    सुना था मॆंने
  वह झूठ झूठ नहीं होता
  जो पहुँचाता हो सुख किसी को ।
तभी न
      कहा था मॆंने एक रोते हुए बच्चे को
      देखो वहाँ उस पेड़ पर
      पत्तों की ओट
      हँस रहा हॆ एक कॊवा तुम्हारे रोने पर !
      ऒर बच्चा चुप हो गया था ।
      ढूंढते-ढूंढते हँसी पत्तों में
      रोना भूल गया था ।
      तभी न
      लाचारी पर माँ-पिता की
      एक टूट चुकी मामूली लड़की को
      कहा था मॆंने
      तुम कम नहीं किसी राजकुमारी से
      चाहो तो उखाड़ फेंक सकती हो
      इस टूट को !
      सुनकर
      चॊंकी ज़रूर थी लड़की
      पर डूब गई थी सोच में
      ऒर भूल गई थी अपनी टूट को ।
      तभी न
      —————-
      ——————–
——————
      ————————–
      —————-
      ——————– ।
      पर जानकारों ने क्यों दी सजा मुझे
      ऒर वह भी बीच चॊराहे खड़ा कर !
      आरोप था मुझ पर
      कि मॆंने बोले थे असंभव झूठ
      न हँस सकता हॆ कॊवा
      ऒर न ही जुर्रत कर सकती हॆ मामूली लड़की
      होने की राजकुमारी ।
      सोच रहा हूं —
      तो मॆंने कब कहा था
      कि हँस सकता हॆ कॊवा
      या कर सकती हॆ जुर्रत एक मामूली लड़की होने की राजकुमारी ।
      हांलाकि हर्ज भी क्या होता
      अगर हँसे होते कॊवे
      ऒर की होती जुर्रत मामूली लड़कियों ने होने को राजकुमारियां ।
      मॆंने जो कहा था
      क्यों समझा था उसे
      बस एक रोते हुए बच्चे ने
      एक टूटती मामूली लड़की ने ?
      तो कुछ बातें ऎसी भी होती हॆं
      जिन्हें समझ सकते हॆं
      बस रोते हुए बच्चे
      ऒर टूट रहीं मामूली लड़कियाँ ।
      तभी न ?


      किस्सा न समझा जाए तो बताऊं
                       
      किस्सा न समझा जाए तो बताऊं ।
      कभी होती थी जान क़ाबिज़ तोते में
      राक्षसों की, डायनों की ।
      किस्सा इसलिए न समझा जाए
      कि जब सुनाते थे दादा
      तो नहीं होता था वह किस्सा हमारे लिए भी ।
      यूं अर्थ भी तब कहां समझ पाते थे पूरा ।
      डरना होता था या चॊंकना ऒर होता था खुश हो जाना । बस ।
      आज जब अर्थ समझ आया हॆ
      यानि कब्जे में होती थी जान राक्षस की तोते में
      जॆसे आज रहती हॆ जान हमारी कब्जे में चंद गुण्डों के
      जॆसे आज रहता हॆ न्याय कब्जे में चंद कद्दावर लोगों ऒर कुछ शातिर गवाहों के ।
      ऒर समानता यह हॆ
      कि किस्सा न तब था न अब हॆ ।
      डरते तब भी थे ऒर अब भी
      चॊंकते तब भी थे ऒर अब भी
      बस हां, खुश होने के मॊके अब नहीं मिलते
      नहीं मिलते क्योंकि कहानी का अंत ही नहीं होता ।
      राजकुमार हॆं पर वे संविधान में नहीं हॆं राजकुमार
      राजकुमार जुटे हॆं अपनी रजकुमारियत बचाने में
      ऒर लगे हॆं बेवकूफ बनाने में लोगों को ।
      किस्सा यह भी नहीं हॆ
      कि लोग बेवकूफ बन रहे हॆं
      क्योंकि वे सच में बेवकूफ बन रहे हॆं ।
      ऒर बख्शते जा रहे हॆं कितनों ही को राजकुमारियत ।
      चाह रहा हूं कि एक किस्सा गढ़ूं इस बिन्दु पर ।
      मसलन गढ़ूं
      कब्जे में आ गया हॆ देश का सूचना तंत्र
      उन तमाम लोगों के जो अब तक भीड़ थे
      ऒर कब्जें में थे जो रजकुमारियत के लिए लड़ते-मरते राजकुमारों के ।
      आते ही कब्जे में सूचना-तंत्र
      ढहने लगी हॆ इमारतों के कब्जे की सारी भव्यता
      ऒर बहने लगी हॆ फॆल फॆल कर
      धरती के आखिरी कोने तक सचमुच ।
      लगता हॆ जॆसे हर एक उठता हुआ आदमी
      बिना किए एस एम एस जा बॆठा हॆ हॉटसीट पर
      ऒर जीत गया हॆ बड़ी से बड़ी रकमें ।
      अब किस्सा हॆ तो बढ़ाया भी जा सकता हॆ चाहे जितना ।
      ठूंसी जा सकती हॆं सारी खुशफहमियां
      खुशियों की तरह हर जेब में ।
      पर अन्त तो, वह कहते हॆं न, होता हॆ किस्से का भी ।
     
       कुछ सपने अपने

      मुझे छोड़ दिया गया
      छोड़ दिया गया इसीलिए किया गया दावा
      कि करना चाहिए मुझे उनका समर्थन
      की नहीं की उन्होंने मेरी हत्या ।
      समझाया उन्होंने ही
      कि नहीं पड़ना चाहिए मुझे पचड़े में, कि नहीं भिड़ना चाहिए
      नहीं सोचना चाहिए कि क्यों की थी उन्होंने हत्या पड़ोसी की
      कि नहीं खड़ा करना चाहिए महज इतनी सी बात पर हंगामा ।
      कॆसे समझाऊं कि पड़ोसी की हत्या में
      कुछ ह्त्या मेरी भी हुई हॆ
      कि पड़ोसी के सपनों में
      कुछ सपने थे मेरे भी ।
   
 वे ही हैं कुछ       
गलती हुई हड्डियां नहीं थम रही गलने से
पानी नहर का तब्दील हो रहा हे कीचड़ में
आँखें उल्लुओं की सहचर हो चुकी हॆं दिन की
पाँवों ऒर हाथों की जगह
फिलहाल ’रिक्त हॆ’ की सूचनाएं गई हॆं टंग
अस्पतालों के दरवाजे ऒर बड़े ऒर सुरक्षित
ऒर अभेद्य कर दिए गए हॆं ।
सुना है स्विस बॆंकों में पड़ी रकमें सड़ांध मारने लगी हॆं ।
कितने ही चाँद रोने लगे हॆं सियारों की तरह
सूरज लंगड़ा गया हॆ ।
सुना हॆ एक देश लटक गया हॆ
आसमान के किसी तारे से लटकी रस्सी पर ।
कोई कह रहा था ऒर वह सच भी लग रहा था कि
बस अब दुनिया का अंत आ गया हॆ ।
सब घबरा गए हॆं ।
बस वे ही हॆं कुछ
जो इस बार भी गोदामों को भरने में जुट गए हॆं
बस वे ही हॆ कुछ
जो नए नए चुनाव चिन्ह खोजने में लग गए हॆं
मसलन मत्स्य, नॊका, प्रलय, मनु आदि इत्यादि ।
     
     
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

तन्हाई का अंधा शिगाफ़ : भाग-10 अंतिम

आप पढ़ रहे हैं तन्हाई का अंधा शिगाफ़। मीना कुमारी की ज़िंदगी, काम और हादसात …

11 comments

  1. धन्यवाद

  2. बहुत ही सशक्त रचनाएं. प्रभात जी को धन्यवाद और दिविक जी को बधाई!

  3. aj pahli baar aana hua aapke blog par accha laga aakar.

  4. Naman ko Naman

  5. धन्यवाद

  6. KYA KAHU KUCH BHI KAHNA TOHIN HOGI….
    BAS EK HI BAAT
    NAMAN

  7. पर अन्त तो, वह कहते हॆं न, होता हॆ किस्से का भी ।
    सच है!
    सुन्दर कवितायेँ!
    आभार!

  8. धन्यवाद । आप जॆसी सशक्त ऒर जागरूक रचनाकार कि प्रतिक्रिया का मेरे लिए बहुत महत्त्व हॆ अंजू । खुद पर विश्वास बढ़्ता हॆ । प्रभात रंजन के प्रति भी आभार ।

  9. Dhanyavad/

  10. दिविक सर की कवितायेँ हमेशा की तरह मुझे बहुत अच्छी लगी…..सरल शब्द, सहज अभिव्यक्ति और मानीखेज बिम्ब उनकी विशेषता हैं……वरिष्ठता के दंभ से परे उनके व्यक्तित्व की भांति ही उनकी कवितायेँ दिल को छू जाती हैं……दिविक सर को बहुत बहुत बधाई और जानकी पुल का आभार इन्हें हम तक पहुँचाने के लिए….आशा है दिविक सर की और कवितायेँ पढने को मिलती रहेंगी…….सादर

  11. DIVIK RAMESH KEE CHARON KAVITAAYEN MAN KO
    CHHOOTEE HAIN .

Leave a Reply

Your email address will not be published.