Breaking News
Home / ब्लॉग / कहानी अब 140 अक्षरों की होगी

कहानी अब 140 अक्षरों की होगी

अब जल्दी ही लंबी कहानियां लिखने वाले हिंदी-लेखकों को छोटी-छोटी कहानियां लिखने वाले लेखक चुनौती देने वाले हैं. 24 से २8 जनवरी के बीच आयोजित होने वाले जयपुर साहित्योत्सव में वैस्टलैंड बुक्स /  यात्रा बुक्स की तरफ से कहानी 140 की घोषणा की जाने वाली है. जी हाँ, ट्विटर के लिए 140 अक्षरों की कहानी लेखन की प्रतियोगिता. हिंदी में जिन लोगों ने ‘लप्रेक’ लिखने की शुरुआत की थी उनके लिए भी 140 अक्षरों में कहानी लिखना चुनौतीपूर्ण होगा. बहरहाल, तो अब कहानी 140 अक्षरों की होगी. 140 अक्षरों में अर्थपूर्ण कहानी लिखिए और पुरस्कार पाइए. मैंने तो शुरुआत कर दी है. आप भी सोचिये- प्रभात रंजन.
=================================
#kahani140 का जयपुर साहियोत्सव में लॉन्च
वैस्टलैंड बुक्स /  यात्रा बुक्स 24 से २8 जनवरी, 2013 के जयपुर साहियोत्सव में # kahani140 लॉन्च करने जा रहे हैं।  यह एक अलग किस्म की प्रतियोगिता की शुरुआत है।  # kahani140 एक ऐसा माध्यम होगा जिससे लोग हमसे जुड़ पाएंगे। वही छोटी-छोटी कहानियां जो हम बचपन से सुनते आएं हैं और आते-जाते रास्ते में गुनते-बुनते आए हैं, इन्ही कहानियों को आप # kahani140 पर हमसे शेयर करे। वैस्टलैंड बुक्स/यात्रा बुक्स की नई पहल # kahani140 की शुरुआत से हम कहानियों को फिर से लोकप्रिय बनाना चाहते हैं। इस प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ कहानी को पुरस्कार से भी नवाजा जायेगा।
आप अपनी कहानी लगभग 140 अक्षर में ट्विटर पर # kahani140 पोस्ट कीजिये। और फिर अपने शब्दों की लोकप्रियता देखिये। जिसमे होगा कम शब्दों में यूजर्स को लुभाने का दम वही प्रतियोगी # kahani140 पर लहराएगा अपना परचम।  
विजेता का चुनाव कहानी पर मिले रीट्विट और संपादक की पसंद के आधार पर किया जायेगा। डीएससी जयपुर साहित्योत्सव के दौरान हम रोजाना 3 उपहारस्वरुप पुस्तक ऑनलाइन भागीदारों और यूजर्स को देंगे।

इस साहित्योत्सव के बाद भी यह प्रतियोगिता इतनी ही गर्मजोशी से जारी रहेगी … जिसके नियम प्रतियोगियों तक ट्विटर के माध्यम से पहुंचा दिए जायेंगे। 
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

तन्हाई का अंधा शिगाफ़ : भाग-10 अंतिम

आप पढ़ रहे हैं तन्हाई का अंधा शिगाफ़। मीना कुमारी की ज़िंदगी, काम और हादसात …

5 comments

  1. मै लघु कहानी भेजना चाहती हूँ।नियम व तरीका बताएं

  2. Main bhi likunga 140 aksharo main kahaniya. Dinesh Bhatt

  3. Main likunga 140 aksharo main kahaniya……Rajiv Anand

  4. भाई, हम तो उस मिजाज के पाठक हैं जो हमेशा हजार पन्नों के उपन्यास की तलाश में रहते हैं…छोटे उपन्यास मुझे इसलिए नहीं भाते है क्योंकि वे जल्द खत्म हो जाते है….कहानियों की एक दुनिया होती है, उसमें घुसना और जीने लगना ही साहित्य का सबसे बड़ा मजा है, ये तोते की बीट(ट्वीट) वाली कथा तो हमसे नहीं पढ़ी जाने वाली…

Leave a Reply

Your email address will not be published.