Home / ब्लॉग / अमितेश कुमार की ट्विटर कहानियां

अमितेश कुमार की ट्विटर कहानियां

कहानी 140 प्रतियोगिता में अमितेश कुमार एक ऐसे लेखक रहे जिनको दो दिन पुरस्कार मिला. आज उनकी ट्विटर कहानियां- जानकी पुल.
=============================

आखिरी दांव भी खाली गया, रिजल्ट से निराश उसने अपने कमरे का मुआयना किया, ये सब लेकर कहां और कैसे ? फ़िर बत्रा के लिये निकल गया 
=======================================
सर प्लेट लाईये ना मोमो निकाला जाए. जुनियर ने दो बार कहा. हां बाबु टाईम से पीएच.डी. ना जमा हो तो सीनियर ही प्लेट लायेगा. 
==========================
एनएसडी में पढ के क्या मिला? कार रूकती है और एक जुता बाहर निकलता है, उसे यहीं से निकला एक्टर साफ़ करता हैक्या एक्टिंग है! 
=============================
 इस एक्शन का क्या मतलब है? अभिनेता ने पूछा. अगले दिन रिहलसल स्पेस पर उसकी भूमिका में कोई और था और वह भीड़ का हिस्सा
=============================
 आईने में अपने आप को देखा, छोटे बालों में कितना अजीब, आंसु गए, उसका पेशा उसके बच्चों को चुभ गया बाल काट दिये, जबरन..
==========================
सौ रूपया! देंगे लेकिनऔर बच्चे के इलाज के लिये एक रात के कुछ छण, कीमत अधिक नहीं लगी.पति लुधियाना था.पैसे दो महिने से नहीं आये थे
====================================
भूतपूर्व मुखिया ने उचटती हुई निगाह दरवाजे पर डाली और खाली
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

तन्हाई का अंधा शिगाफ़ : भाग-10 अंतिम

आप पढ़ रहे हैं तन्हाई का अंधा शिगाफ़। मीना कुमारी की ज़िंदगी, काम और हादसात …

4 comments

  1. सार्थक कहानियां, अपने समय पर कटाक्ष करती हुई.

  2. अच्छीं

  3. अर्थपूर्ण !

Leave a Reply

Your email address will not be published.