Home / ब्लॉग / रश्मिरेखा की कविताएं

रश्मिरेखा की कविताएं

रश्मिरेखा उन कवयित्रियों में हैं जो चुपचाप लिखने में यकीन रखती हैं. प्रचार प्रसार से दूर रहने वाली मुजफ्फरपुर की इस वरिष्ठ कवयित्री की कुछ कविताएं आज आपके लिए- मॉडरेटर 
==========================================================

1.
चाभी                                        
उसे विरासत में नहीं मिला था
चाभियों का गुच्छा
हर जगह ईजाद करनी थी अपनी एक चाभी
पिछली शताब्दी के कपाट बंद किये बिना ही
जब लोग खोलने में लगे थे
नयी शताब्दी का ताला
उसे ऐसा कई दरवाज़ा नहीं खोलना था
जिसे फिर से बंद नहीं किया जा सके
वह अलीबाबा नहीं था
और न देखा था उसने चालीस चोरों को
कि कह सके खुल जा सिम सिम
मुश्किलें कब आसान होती हैं
आसान नहीं है आसान को आसान कहना
हाशिये पर बैठे को आख़िरकर
आता है काम अपना साहस ही
एक छोटी सी चाभी उड़ा ले जाती है
अंतरिक्ष में यान
एक छोटे सी चाभी खोल देती है
स्मृतियों की तिजोरी
एक दिन यूँही पड़ी मिल गई
उसे कुछ चाभियाँ
जिनसे खोले जा सकते थे
जादुई ताले करिश्माई रास्तों के
वहाँ पास की चीज़े दूर की नजर आती थी
और दूर की बहुत पास
खिलौनों को नचाने वाली चाभी
दिमागों में भी भरी जा रही थी
एक चुप्पी के ताले में दफ़न किया जा रहा था
इतिहास
सहम कर उसने ताक़ पर रख दी चाभियाँ
ताक शायद होता ही है कुछ रखकर
भूल जाने के लिए
2.
सीढियाँ
                        ——————–
सीढियों पर चढ़ते हुए
हमने कब जाना
सीढियाँ सिर्फ चढ़ने के लिए नहीं
उतरने के लिए भी होती हैं
इतनी जद्दोजहद के बाद
चढ़ सके जितनी
हर बार उससे कही ज्यादा उतरनी पड़ी सीढियाँ
बचपन की यादों में
शामिल है साँप-सीढ़ी का खेल
फासले तय करेंगे हौसले एक दिन
बस इसी इंतजार में
बिछी रहती हैं सीढियाँ
पांवो के नीचे सख्त ज़मीन की तरह
सीढियों से उतरते हुए
हमने कब जाना
कि सीढियों पर चढ़ने से
कहीं ज्यादा मुश्किल था
खुद को सीढियों में तब्दील होते देखना
और यह कि जो बनाते है सीढियाँ
वे क्या कभी चढ़ पाते है सीढियाँ
सीढियों पर चढ़ते
सीढियों से उतरते
हम कभी समझ पाते है
सीढियों का दुःख
बांस की लम्बी सीढियों पर चढ़ इमारत बनाते लोग
बटन दबाते ही दौड़ती सीढियों से आते- जाते लोग
समय बनाता है सीढियाँ
या सीढियों से बनता है समय
अपने समय की सीढियों से फिसलते हुए
कभी क्या जान पाए हम

3.
कटोरी
                                                 
कटोरी भर चीज़े बचाने की कोशिश में
जुटी रही तमाम उम्र
अब इसका क्या किया जाय
कटोरी का काम  रहा
भर-भर कर खाली हो जाना
चमचमाती थाल में परोसती रही व्यंजन
बची चीज़ो को सँभालती रही हिफाजत से
करती रही जतन से व्रत अनुष्ठान
सजाती रही रंगोली
बनाती रही अल्पना
हर सुबह शाम आँगन में धुलती रही कटोरियाँ
ज़रूरत के हिसाब से ढक्कन बनने को तैयार
कटोरियो में बचा होता है इतना साहस
कि खिला सके साँप को भी दूध के साथ धान  का लावा
इतिहास  में अपनी जगह बनाती
एक कटोरी सुजाता के खीर की भी है
जिसके बिना सिद्धार्थ को कहाँ मिल पाती है सिद्धि
बार-बार मांजी जाती है ये दूसरों के लिए
परिजनों के लिए मांगती है मन्नतें
सोने-चांदी की बनी होती है
कौओं के लिए दूध-भात की कटोरी
जिन्हें कभी खुद नहीं मिल पाती दूध से भरी कटोरी
वे भी बुलाती रहती है चंदा मामा ओको
राणाजी म्हाने बदनामी लगे मीठी
कोई निंदो,कोई विन्दो,मै चलूँगी चाल अपूठी
कहने वाली मीरा को दिया राणा ने कटोरी भर विष
उन्हें कभी ज़रूरत नहीं पड़ती
शायद इसीलिये इतिहास में
कहीं नहीं है भीख की कटोरी
कटोरियों की हिकमत में
शामिल है जीने की जिद
तमाम जिल्ल्ल्तो के बीच भी
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

तन्हाई का अंधा शिगाफ़ : भाग-10 अंतिम

आप पढ़ रहे हैं तन्हाई का अंधा शिगाफ़। मीना कुमारी की ज़िंदगी, काम और हादसात …

14 comments

  1. सीढियों से उतरते हुए
    हमने कब जाना
    कि सीढियों पर चढ़ने से
    कहीं ज्यादा मुश्किल था
    खुद को सीढियों में तब्दील होते देखना…..
    वाकई बहुत कुछ बदलता जाता है और हम दर्शक होते है अपने लिये ही, छोटे-छोटे हिस्सों में ही गुजरता जाता है जीवन लेकर बहुत लंबा अरसा लेकर..

  2. इन पंक्तिओं से पंकज राग की कुछ पंक्तियाँ याद आई———–क्षणों में जियूँ, या समय को तोड़ मोड़ दूँ, जिस दिन ये तय कर लूँ, वो दिन कैसा होगा

  3. खूबसूरत और सारगर्भित कविताएं। और जगह पड़े ताले के साथ साथ, इतिहास पर पड़े ताले की बात बहुत अच्छी लगी. चश्मा शीर्षक कविता सबसे अच्छी लगी, उसकी एक जवाबी लिख रही हूँ. काली लड़की पर थोड़ी असहमति है, कोई काला होकर भी बेतरह खूबसूरत हो सकता है. झोला और कटोरी परिचित और प्रिय कवितायेँ हैं.

  4. अच्छी लगी आपकी टिप्पणी

  5. इतनी अच्छी टिप्पणियों ने मुझे अपार उर्जा दी ,धन्यबाद हरिनारायण ठाकुरजी

  6. रश्मि जी आपकी लेखनी में मन को बांधने की अदभुत शक्ति है….,सादर

  7. रश्मिजी, आपकी कविता 'चाभी', चश्मा, सीढियाँ, कटोरी, झोला, लालटेन, काली लड़की, रोशनदान आदि को बड़ी बहस की दरकार है. छोटे-छोटे प्रतीकों द्वारा जीवन और जगत के बहु-आयामी बिम्बों को समेटनेवाली ये कविताएँ सचमुच संवेदना और सरोकारों के किसी बड़े सर्जक की कारीगरी हो सकती हैं. कैसे कहूँ कि आप महान हैं, क्योंकि ऐसी टिप्पणी किसी की सीमा बन जाती है. आप सीमा नहीं, संभावना बने-साधुवाद..

  8. क्या कभी मुमकिन है
    अपनी नजर को अपने ही चश्मे से देखना

    Ghar aangan jaisi jani pahchani kavitayein.

  9. समय बनाता है सीढियाँ
    या सीढियों से बनता है समय
    अपने समय की सीढियों से फिसलते हुए
    कभी क्या जान पाए हम

  10. मै तुम्हारी कविता को धीरे-धीरे अन्तर्ग्रथन के स्तर पर बदलते हुए देख रहा हूँ..prabhu joshi

  11. आभार मेरी कविताओ को पसंद करने के लिए

  12. अपने आसपास बिखरी चीजों में अर्थ भरती ये कविताएँ बहुत अच्छी लगी ।

  13. achchhi lagi kavitayen.

  14. अपने कथ्य में हर आम को खास दृष्टि से अद्भुत कविता में ढाल देने का चमत्कारिक कविकर्म ..

Leave a Reply

Your email address will not be published.