Home / Featured / कई जरूरी सवाल उठाने वाली फिल्म ‘डियर जिंदगी’

कई जरूरी सवाल उठाने वाली फिल्म ‘डियर जिंदगी’

शाहरुख़ खान-आलिया भट्ट की फिल्म ‘डियर जिंदगी’ कल रिलीज हुई. फिल्म की एक संवेदनशील रिव्यू दिव्या विजय ने लिखी है- मॉडरेटर
============================

महिला निर्देशकों के साथ बॉलीवुड के स्त्री-किरदार फेमिनिज़म का यथार्थवादी स्वाद चख रहे हैं. वे क्रान्ति का परचम लहराने की बजाय, रोज़मर्रा के जीवन में घटित बदलावों को शांतिपूर्वक जी रहे हैं. वे समाज द्वारा आँके जाने की कवायद से चुपके-से बाहर निकल रहे हैं. पुरुषों द्वारा तय की गयी सीमाओं को लांघ रहे हैं…नियंत्रित होने से इनकार कर रहे हैं. इंग्लिश-विन्ग्लिश में आत्म-सम्मान के लिए ज़िद पर अड़ी नायिका के बाद डियर ज़िन्दगी में गौरी शिंदे के साथ हम इंडिपेंडेंट और अपने काम में बेहद ज़हीन नायिका से रू-ब-रू होते हैं. ‘मेंस टेरिटरी’ कहे जाने वाले तकनीकी कार्यक्षेत्र में आलिया अपना वर्चस्व जमाना चाहती है…पहला स्टिग्मा गौरी यहीं तोड़ती हैं. इंग्लिश-विन्ग्लिश में जहाँ नायिका के भय और द्वंद्व अपने परिवार के कारण पनपते हैं वहीं डियर ज़िन्दगी में भी कायरा के मन में असुरक्षा की नींव उसके परिवार की वजह से पड़ती है. परिवार दोनों कहानियों के केंद्र में है मगर इस फिल्म में गौरी के स्ट्रोक्स अधिक विस्तार पा जाते हैं. गौरी इस फिल्म में एक साथ कई ज़रूरी सवाल उठाती हैं.

सबसे पहला सवाल मानसिक स्वास्थ्य और उसको लेकर हमारे समाज में मौजूद ख़ामोशी की बाबत है. दिमागी अस्वस्थता को लेकर हमेशा से समाज में एक चुप्पी विद्यमान रही है. यह कोई बीमारी है और इसे डॉक्टर की आवश्यकता भी हो सकती है लोग सदा इस बात को नकारते रहे हैं. दिमाग की समस्या अर्थात पागलपन जिसे किसी को बताना नहीं है, सबसे छिपाकर रखना है. शरीर को लेकर जितना शोर होता है, दिमाग को लेकर लोग उतना ही ‘हश-हश’ वाला एप्रोच अपनाते हैं. हाल ही में कई सेलिब्रिटीज इस विषय को लेकर आगे आये हैं और खुल कर बात की है. लेकिन आम घरों में आज भी इसके बारे में बात नहीं होती है. बात करने पर परिहास अथवा झिड़की के आवरण से ढककर इस विषय को समाप्त कर दिया जाता है. जबकि हमारी जो जीवन पद्धति हो गयी है उसमें पहले की तुलना में अधिक लोग अकेलेपन के शिकार हैं. आवश्यक नहीं सिर्फ डिप्रेस्ड लोग ही थेरेपी के लिए जाएँ, सामान्य लोग जो किसी वजह से उलझे हुए हैं, मात्र बात करने के लिए भी थेरेपिस्ट के पास जा सकते हैं. अच्छा काम, अच्छे दोस्त, तीन हो सकने वाले अच्छे प्रेमी और हर तरीके से खूबसूरत दिखती ज़िन्दगी के भीतर भी दरारें हो सकती हैं और इन दरारों को पाटने के लिए किसी थेरेपिस्ट का रुख करना साँस लेने जितना ही सहज है.

फिल्म दूसरा सवाल बच्चों की परवरिश में माँ-बाप की भूमिका को लेकर उठाती है. विदेशों में और अब भारत में भी पेरेंटिंग को लेकर कई प्रोग्राम्स होते हैं, क्लासेज़ होती हैं, डिस्कशन्स होते हैं पर पेरेंटिंग का कोई सेट पैटर्न नहीं है. माँ-बाप अनुभव से सीखते हैं और इस ‘लर्निंग प्रोसेस’ के दौरान कई गलतियाँ भी कर बैठते हैं. पेरेंट्स होने का अर्थ न तो बच्चों पर  मालिकाना हक जमाना होता है कि बच्चों से जो चाहें करवा सकें और न पेरेंट्स होने का अर्थ परफेक्ट होना होता है. उनसे भी भूल हो सकती है. फिल्म इस विषय को गंभीरता से उठाती है कि माँ-बाप की बेख़याली में की गयी गलतियाँ बच्चे के नाज़ुक मन पर खरोंचें डाल सकती हैं जिसके फलस्वरूप बच्चा ‘प्रॉब्लम चाइल्ड’ की केटेगरी में आ सकता है. समस्यात्मक व्यक्तित्व की जड़ें बचपन की इन चोटों के भीतर हो सकती हैं.

तीसरा सवाल विवाह को लेकर है. हालांकि फिल्म में इस बात को अधिक तूल नहीं दिया गया है. पर फिल्म कुछ टुकड़ों में अपनी बात कह जाती है. सेटल होना क्या होता है? क्या विवाह को सेटल होने का पर्याय माना जा सकता है. पेरेंट्स अक्सर एक नियत उम्र होते ही बच्चों के विवाह की चिंता में घुलने लगते हैं. फिर भले ही बच्चे विवाह के लिए मानसिक रूप से तैयार हों या नहीं.

अगला विषय ‘सिबलिंग राइवलरी’ है. हमारा प्रथम प्रतिद्वंदी हमारा भाई अथवा बहन होता है. दुनिया में सबसे पहला व्यक्ति जिस से हम अपने चीज़ों के साथ-साथ माता-पिता का प्यार भी बाँटते हैं. वही सबसे पहला व्यक्ति होता है जिस से हमारी तुलना होती है. कभी घर वाले तो कभी बाहर वाले गाहे-बगाहे ये तुलना कर देते हैं. अक्सर यह तुलना बच्चों को कुंठाग्रस्त कर देती है. कभी-कभी बच्चा अपने सहोदर के प्रति वैमनस्य से भर उठता है. फिल्म में ऐसा नहीं हुआ है पर एक-आध संवादों में क्षीण-सी ईर्ष्या झांकती है.

सम्बन्ध जीवन का आवश्यक अंग है. जो प्रेम में होता है वही टूटन की पीड़ा को समझ सकता है. एकल परिवारों के बच्चे किन असुरक्षाओं में बड़े होते हैं और क्यों संबंधों में ठहराव नहीं आ पाता फिल्म इन बातों को कुरेदती है. कितनी भी कैसुअल एप्रोच क्यों ना लगे पर सच यही है कि संबंधों का टूटना आज भी दुखदायी होता है. एक से अधिक संबंधों में हो चुकी लड़की के प्रति लोग किस तरह जजमेंटल होते हैं और क्यों हमें लोगों की बातें नहीं सुननी चाहिए फिल्म हमें फनी लेकिन सार्थक उदाहरण से समझाती है. संबंधों की ‘कुर्सी’ से सादृश्यता बहुत रोचक बन पडी है. जब हम एक कुर्सी खरीदने से पहले कई कुर्सियाँ जाँचते-परखते हैं तो संबंधों को भला क्यों नहीं जाँच सकते. इस उदाहरण का मंतव्य संबंधों के लिए अस्थिर हो जाना नहीं वरन ब्रेक-अप के बाद की पीड़ा को सबसे बड़ा दर्द न मान लेना है. प्यार ज़िन्दगी की सबसे बड़ी समस्या नहीं है. ‘रोमांटिक लव’ बहुत ओवर रेटेड है. फिल्म सिखाती है कि इस तरह के प्यार के अलावा भी जीवन में कई स्पेशल रिश्ते हो सकते हैं. हमें उन्हें नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए.

आलिया शिकायती, चिडचिडी कायरा के किरदार को गैर-मामूली सहजता से निभा ले जाती हैं. कायरा अपने परिवार के साथ अशिष्ट है, अपने मित्रों के साथ बदमिज़ाज हैं. उनका व्यवहार कई जगह असंगत और अस्थिर लगता है परन्तु वह जिस आक्रामकता से चरित्र पर अपना दावा प्रकट करती हैं वह आश्चर्यजनक है. सोच में सिकुड़ी उनकी आँखें कई दृश्यों में कमाल कर जाती हैं. असुरक्षित और आशंकित लडकी के किरदार में वो एक ईमानदारी  ले आई हैं जो कायरा को तमाम खामियों के बावजूद सम्मोहक बना देता है. अपने प्रेमी को अपने नए प्रेम-सम्बन्ध की सूचना देने वाला दृश्य हो या उसके बाद अकेले सड़क किनारे नूडल्स खाने वाला दृश्य… उनकी अतिसंवेदनशीलता उभर कर आती है. संकोची कायरा डॉक्टर की मदद से अपनी गांठों को सुलझाते हुए जीवन के प्रति सारे संदेह कहीं बहा देती है. परिणाम स्वरुप एक नयी कायरा अनावृत्त होती है.

शाहरुख़ अपनी मोहक मुस्कराहट और सौम्यता से आकर्षित करते हैं. चमकती आँखों वाला, अपनी पेशेंट के साथ साइकिलिंग करने वाला, लहरों के साथ कबड्डी खेलने वाला थेरेपिस्ट किसी का भी मन हर सकता है. उनके लहजे की नरमी, पेशेंट को ‘मैं हूँ न’ वाला अहसास देती विनम्रता लुभाती है. अपना ‘सुपरस्टार चार्म’ वह बहुत शालीन ढंग से पहने नज़र आते हैं. वह सहजता से आलिया को स्पेस देते हैं. हालांकि अंत में कायरा का अपने थेरेपिस्ट के प्रति आकर्षण प्रसंग टाला जा सकता था. इतने सबक सीखने के बाद भी कायरा का रूमानी रिश्ते में मन का सुकून खोजना फिल्म को थोडा-सा कमज़ोर कर देता है.

क्रेडिट्स में पहला नाम आलिया का आता है और यह फिल्म पूरी तरह से उनकी और गौरी की है. गौरी बहुत एहतियात से अपने अभिनेताओं की संभावनाओं को चीन्हती हैं और उन्हें परदे पर उतारती हैं. वह अत्यंत सरलता से सूक्ष्म विषयों को कह जाती हैं.

पूर्णता और अपूर्णता में सदा द्वंद्व रहा है. रिक्तता प्रसन्नता के लिए किसी पर आश्रित न रहने की विलक्षणता से रिझाती है. अपूर्णता पूर्णता के क्षणिक सामीप्य से मिलने वाले सुख से लुभाती है. पूरा कब कौन हो सका है! पर रिक्तता और अपूर्णता के निर्वात के बीच ज़िन्दगी बहती है. ज़िन्दगी हमें लिफ़ाफ़े में रख क्या देती है यह हम पर निर्भर करता है. पीड़ा चुक के जाने के बाद एक तरल एकांत शेष रह जाता है जिसे किसी भी आकृति में ढाला जा सकता है. इस तरलता को खुशनुमा आकृतियों तक पहुंचाने का ज़िम्मा यह फिल्म उठाती है.

Posted 26th November 2016 by prabhat Ranjan

Labels: dear zindagi divya vijay डियर जिंदगी दिव्या विजय

 
      

About Prabhat Ranjan

Check Also

‘आउशवित्ज़: एक प्रेम कथा’ पर अवधेश प्रीत की टिप्पणी

‘देह ही देश’ जैसी चर्चित किताब की लेखिका गरिमा श्रीवास्तव का पहला उपन्यास प्रकाशित हुआ …

31 comments

  1. Magnífico apartamento t1 situado no tavira backyard գue
    é սm complexo turístico…

  2. Olá , eu ler seս blog diário . Seu escrita estilo é espirituoso, manter ߋ que еstá fazendo !

  3. Hello there! This is kind of off topic but I need some help from an established blog.

    Is it difficult to set up your own blog? I’m not very techincal
    but I can figure things out pretty fast. I’m thinking about making
    my own but I’m not sure where to begin. Do you have any ideas or
    suggestions? Thanks

  4. Wow! After all I got a web site from where
    I be capable of really get useful data concerning my study and knowledge.

  5. It’s an awesome article designed for all the internet
    visitors; they will obtain advantage from it I am sure.

  6. Its like you read my mind! You appear to know a lot about this, like you wrote the book in it or something.

    I think that you could do with some pics to drive the message home a bit,
    but other than that, this is wonderful blog.
    A fantastic read. I’ll certainly be back.

  7. Fabulous, what a website it is! This blog presents helpful facts to us,
    keep it up.

  8. Way cool! Some extremely valid points! I appreciate you penning this
    post and also the rest of the website is extremely good.

  9. Simply wish to say your article is as astounding. The
    clearness in your post is simply excellent and i could assume you’re
    an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS
    feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the gratifying work.

  10. Greetings! I’ve been following your weblog for a long time now and finally got the courage to go
    ahead and give you a shout out from Porter Texas! Just wanted
    to say keep up the excellent work!

  11. I visit everyday a few web sites and websites to read articles,
    however this website provides feature based posts.

  12. Wow! At last I got a blog from where I be able to really get valuable facts regarding my study and knowledge.

  13. When I originally left a comment I appear to have clicked
    the -Notify me when new comments are added- checkbox
    and from now on each time a comment is added I get 4 emails with the
    same comment. Is there a means you are able to remove
    me from that service? Thank you!

  14. Undeniably believe that which you stated. Your favourite reason seemed to be at the net the simplest
    thing to have in mind of. I say to you, I definitely get irked whilst other folks think about issues that they just do not recognise about.

    You controlled to hit the nail upon the top and also outlined out the entire
    thing without having side effect , folks can take a signal.
    Will probably be again to get more. Thanks

  15. Hello! I know this is kinda off topic but I was wondering which
    blog platform are you using for this site? I’m getting sick and
    tired of WordPress because I’ve had issues with hackers and I’m looking at options for another platform.
    I would be fantastic if you could point me in the direction of a good platform.

  16. Hi there! Would you mind if I share your blog with my zynga group?
    There’s a lot of folks that I think would really appreciate your content.
    Please let me know. Thanks

  17. Write more, thats all I have to say. Literally, it seems as though you relied on the video to make your point.

    You clearly know what youre talking about, why
    throw away your intelligence on just posting videos to your weblog when you could be giving us something
    informative to read?

  18. Pourquoi l’hébergeur EasyHoster est-il fiable et sécurisé ? Tous les serveurs cPanel sont monitorés 7j/7 24h/4, avec un Firewall Premium Imunify360 et des données répliquées dans 3 pays. En quoi le support technique d’EasyHoster est-il meilleur ? Hébergement web avec monitoring gratuit (hébergement WordPress infogéré) Monitoring 24/7 Votre site semble indisponible ? Nos techniciens ont été prévenus et interviendront dans les minutes qui suivent ! Depuis votre espace client, vous pouvez vérifier, en temps réel, la disponibilité de votre serveur (uptime).

  19. Thanks for finally writing about > कई जरूरी सवाल उठाने वाली फिल्म 'डियर जिंदगी' – जानकी पुल – A Bridge of World's
    Literature. < Loved it!

  20. You can definitely see your skills in the article you write.
    The arena hopes for more passionate writers such
    as you who aren’t afraid to mention how they believe.
    All the time follow your heart.

  21. This design is incredible! You certainly know
    how to keep a reader entertained. Between your wit and your videos, I was almost moved
    to start my own blog (well, almost…HaHa!) Fantastic job.
    I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it.
    Too cool!

  22. Unquestionably consider that which you said. Your favourite justification appeared to be at the web the easiest factor to consider of.
    I say to you, I definitely get irked whilst other folks consider concerns that they plainly don’t recognize about.
    You managed to hit the nail upon the top as smartly
    as defined out the entire thing with no need side effect ,
    folks could take a signal. Will likely be again to get
    more. Thanks

  23. Greetings from Ohio! I’m bored to death at work so I decided to
    browse your site on my iphone during lunch break.
    I enjoy the info you provide here and can’t wait to take a look when I get home.
    I’m surprised at how quick your blog loaded on my cell phone ..
    I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, very good
    blog!

  24. Hi there just wanted to give you a quick heads up. The words
    in your content seem to be running off the screen in Firefox.

    I’m not sure if this is a format issue or
    something to do with browser compatibility but I thought I’d post to let you know.
    The design and style look great though! Hope you get the
    problem solved soon. Kudos

  25. You really make it seem so easy with your presentation but I find this matter
    to be really something that I think I would never understand.
    It seems too complicated and very broad for me. I am looking forward for your next post, I’ll
    try to get the hang of it!

  26. PHTV Media is one of the most extensive IPTV services available.
    It has more than 15000 channels. Many of which are
    aavailable in HD or 4K. It is possible to watch a variety of
    shows and movies andd live sporting events.
    PHTV Media offers a broad selection of free downloads in additiopn to high-quality content making it the perfect place
    to catch up on the most recent TV shows and movies.

    This service’s price is the most affordable, siunce it is only one-third of other IPTV
    providers. This makes iit accessible too a wider audience that includes
    sports fans who want to enjoy their favorite teams.
    Furthermore it is easy to set up and use.

    While many other options require users to purchyase a set-top-box, PHTV Media offers a plug-and-play IPTV solution, meaning that all
    you need iss an internet connection.

    PHTV Media has a broader pujblic because it has a variety of video
    on demand options and a large selkection HD films. You can aoso access the service using an Android or
    iOS device, oor using a Firestick. You’ll hae access to alll
    of these featjres and some additional features with
    the 12-month contract. PHTV Media also has one of the best rats of uptime so you caan be assured that you will have enjoyable viewing.

    PHTV Media’s excellent customerr service and a wide
    array of premium channels make it an excellent choice
    for those looking for an affordable way to stream TV. It’s also a fairly
    easy to set upp and uuse which is essential to anyone wwho
    travels.

    PHTVMedia isn’t just a great chopice for IPTV services,
    but it aleo boasts many other features that will leave you scratching your head and thinking
    about your next TV purchase. For instance, it boasts the
    best uptime in the industry, and an unrivaled one-on-one customer support.
    In addition, it offers a large library of VOD movies and TV shows, which are also available inn
    HD and 4K. PHTV Media also has the most extensive selection of live TV channels.
    This means you’re sure to find what you’re seeking.

    Other benefits include an instant activation, a free resell plan, and 247365
    support. It is also worth checking outt other servics
    provided by PHTV Media like their mobile app which is available for both Android and iPhone.

    Be sure to check out the perls the company offers forr kids hat include
    a variety of free video onn demand programs, as well as
    a fun and educational channel devoted to adolescent
    development. From family-oriented programs to teen-focused entertaining activities, PHTV Media is a one-stop shop for all your entertainment requirements.
    Overall, it’s an impressive IPTV service annd it’s ven got the PHTV with x.

  27. If you are going for finest contents like myself,
    just pay a quick visit this site everyday since it presents feature contents,
    thanks

  28. Hey There. I found your blog using msn. That is a really
    neatly written article. I will make sure to bookmark it and return to read more of
    your useful info. Thank you for the post. I’ll certainly comeback.

  29. Marvelous, what a web site it is! This website provides helpful information to us, keep it up.

  30. Hi colleagues, its fantastic paragraph on the topic of cultureand fully explained, keep
    it up all the time.

  31. Admiring the persistence you put into your website and detailed information you provide.
    It’s good to come across a blog every once in a while
    that isn’t the same outdated rehashed material.
    Excellent read! I’ve bookmarked your site and I’m including your RSS feeds to my Google account.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *