Home / Featured / नोट पर महात्मा गाँधी की तस्वीर: सही या गलत?

नोट पर महात्मा गाँधी की तस्वीर: सही या गलत?


लोग किस तरह से शोध करते हैं? किन विषयों पर शोध करते हैं? देखने के लिए सदानंद पॉल के इस लेख को पढ़िए. नोट पर महात्मा गाँधी की तस्वीर को लेकर उन्होंने कितनी मशक्कत की. दिलचस्प है- मॉडरेटर

===================================================================

“पुराने नोटों पर ‘गाँधी जी‘ के गलत-तस्वीर लगे हैं, वित्त मंत्रालय और RBI को मैंने सर्वप्रथम लिखा था : नए पत्रमुद्रा (नोट) का जारी होना, उसी के परिणाम”

—————————————————————————————–

वित्त मंत्रालय, भारत सरकार ने दि.14.11.2016 के अखबारों में बड़ा-सा विज्ञापन प्रकाशित कराया है, जोwww.paisaboltahai.rbi.in के द्रष्टव्यश: है । प्रकाशित विज्ञापन का शीर्षक है- “अब आपके बैंकनोट नए डिजाईन में : भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा नई श्रृंखला में ₹2000 और ₹500 के नोट जारी”। इनमें जारी दोनों नए नोट के अग्र और पृष्ठ भाग का तस्वीर को उसी रंग में सविश्लेषित प्रकाशित किया गया है । अखबार में प्रकाशित नए नोट और तथ्य सुस्पष्ट प्रतीत हो रहा है ।

अब मैं इस आलेख के शीर्षक “पुराने नोटों पर ‘गाँधी जी‘ के गलत-तस्वीर लगे हैं, वित्त मंत्रालय और RBIको मैंने सर्वप्रथम लिखा था : नए पत्रमुद्रा (नोट) का जारी होना, उसी के परिणाम” विषय पर लौटते हैं । मैंने 21.01.2016 के RTI आवेदन वित्त मंत्रालय (आर्थिक कार्य विभाग), भारत सरकार, नई दिल्ली को रजिष्ट्री डाक से प्रेषित किया था । श्री सुशील कुमार, अवर सचिव -सह- CPIO, करेंसी अनुभाग, आर्थिक कार्य विभाग, वित्त मंत्रालय ,भारत सरकार ने फ़ाइल सं. 13/72/10-करेंसी/ दि.06.02.2012 भेजकर मुझे प्रश्न सं.1 का जवाब (इस सम्बन्ध में मैं अभी इस प्रश्न पर नहीं ठहरता हूँ, इसे बाद में देखते हैं) देने के बाद प्रश्न सं.2 व 3 को ‘रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया‘ से सम्बंधित होने के कारण उन्हें उत्तर देने के लिए “प्रधान महाप्रबंधक, डी. सी. एम., आर. बी. आई., मुम्बई” को अधिकृत व अंतरित किया गया। “रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया, केंद्रीय कार्यालय, अमर भवन, सर पी.एम. रोड, मुम्बई-400001″ के CPIO डॉ.एन. कृष्ण मोहन ने ‘भारतीय रिज़र्व बैंक‘ के ‘मुद्रा प्रबंध विभाग‘ (आयोजना कक्ष) के पत्रांक:- RIA NO. 4334/2011-12 के प्रसंगश: पत्रांक:- मुप्रवि (आईएफसीडी) सं. 4408/06.08.05/2011-12/दि.02.04.2012 भी भेजा । **

पाठकों में उत्पन्न जिज्ञासा का तत्क्षण निदान करते हुए मैंने जो प्रश्न किया था, ‘रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया‘के द्वारा हू-ब-हू लिखा (प्रश्न सं.2 व 3 जोड़कर) यहाँ भावश: उद्धृत कर रहा हूँ:-

1.’नोट पर महात्मा गांधी का तस्वीर सही नहीं है‘

—————————————————–

बिंदु-(i)

———

भारतीय रुपये पत्र मुद्रा (नोटों) पर महात्मा गांधी का चित्र ‘पोट्रेट‘ है, जबकि वास्तविक फ़ोटो ’30 जनवरी1948′ (गांधी जी के निधन-तिथि)  के सम्प्रति ही विधिक है, क्योंकि जारी नोट पर जो चित्र है, वह महात्मा गांधी का हू-ब-हू नहीं है ।

बिंदु-(ii)

———

यथा:- गांधी जी के दोनों कान का ऊपरी हिस्सा बड़ा और आगे की ओर झुका, दोनों आँखों के ऊपर ललाट उठा, दोनों कान के ऊपर साइड और पीछे तरफ हल्का कच्चा बाल सहित पका बाल, सघन और पकी मूँछ पर नाक के नीचे दो-चार काला बाल, नाक चौड़ा फुलाये तीक्ष्ण तुकीला , नाक पर बड़ा गोल चश्मा और उसका फ्रेम नासिका छिद्र के ऊपरी किनारे तक पहचान लिए है, जो ही सही है । रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया को इस सरलता का भान लिए निर्देशित सूचना पर मुझे सूचना प्रदान करेंगे ।

2.’संविधान में राष्ट्रपिता और महात्मा– नामोल्लेख नहीं‘

————————————————————-

भारतीय संविधान में ‘राष्ट्रपिता‘ का उल्लेख नहीं है तथा ‘महात्मा‘ सर्टिफ़िकेट नाम नहीं है, एतदर्थ पत्र मुद्रा (नोट) पर “मोहनदास करमचंद गांधी” ही नामोल्लिखित हो ।

3.’अशोक स्तम्भ भी नोट पर सही तरीके से हो‘

—————————————————

अशोक स्तंभ यानी शेर, बैल, घोड़े के ऊपर ही ‘सत्यमेव जयते‘ हो तथा नीचे ही ‘वसुधैव कुटुम्बकम्‘ हो ।

4.’RBI प्रतीक की सत्य स्थिति‘

———————————

RBI (रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया) के प्रतीक में ‘खजूर पेड़‘ के साथ ‘चीता‘ — कैसे यह सत्य स्थिति लिए है,सूचना देंगे ।

**इसके बाद उत्तर में मुझे मिला–“सूचना का अधिकार अधिनियम – 2005 की धारा- 2(f) के तहत यह विषयवस्तु सूचना नहीं है ।” तब मैं RBI, मुम्बई के अपील प्राधिकारी -सह- कार्यपालक निदेशक श्री वी.एस. दास के सेवार्थ दि 20.04.2012 के तत्वश: ‘प्रथम अपील‘ की । जिनका जवाब मुझे अपील सं. 47 (DCM)-2011-12 / दि.16.05.2012 के द्वारा दिया गया, हालाँकि यह जवाब RBI के CPIO के पक्ष में ही था, तथापि वार्त्ता के प्रसंग ऐतिहासिक हो गए हैं । श्री वी.एस. दास ने मुझे निष्कर्षतः लिखा:–

1.)आपने कहा है कि रुपये (नोटों) पर मुद्रित महात्मा गांधी की छवि, एक चित्र है, जबकि दि.30.01.1948 (गांधी जी की निधन-तिथि) का फ़ोटो वैध तस्वीर (Lawful picture) है । आपने रुपये (नोटों) पर दृश्यमान फ़ोटो में विसंगतियाँ की ओर इंगित किया है । आपने भारतीय रिज़र्व बैंक से अनुरोध किया है कि दी गयी जानकारी की सत्यता को समझे और जानकारी प्रदान करे । …. मैंने उक्त प्रश्न की जांच की है और यह पाया कि अपीलकर्त्ता बैंकनोटों पर दृश्यमान महात्मा गांधी जी के चेहरे से सम्बद्ध विशिष्टाताओं  की विस्तृत जानकारी दी है, जो उनके अनुसार सही है तथा भारतीय रिज़र्व बैंक से उसके आधार पर जानकारी देने का अनुरोध किया है ।

2.)आपने कहा है कि संविधान में कहीं भी ‘राष्ट्रपिता‘ के सम्बन्ध में उल्लेख नहीं है और ‘महात्मा‘ एक प्रमाणक नाम नहीं है, अतः रुपये नोट में ‘मोहनदास करमचंद गांधी‘ लिखा जाना चाहिए ।

3.)आपने आगे यह भी सुझाव दिया है कि ‘अशोक स्तम्भ‘ प्रतीक के ऊपर ‘सत्यमेव जयते‘ और नीचे‘वसुधैव कुटुम्बकम्‘ प्रदर्शित होने चाहिए ।

4.)आपने भारतीय रिज़र्व बैंक के प्रतीक में ताड़ के पेड़ के नीचे बाघ के होने की सत्यता के बारे में जानकारी मांगी है ।

**अपील प्राधिकारी भी अपने CPIO के जवाब में कोई कमी नहीं देखते हैं । तब मैं माननीय केंद्रीय सूचना आयोग, नई दिल्ली को प्रथम अपीलीय जवाब से अप्रसन्न होकर दि.02.06.2012 के आलोकश: ‘द्वितीय अपील‘ करता हूँ । आयोग में इस सबंध में File No. CIC/VS/A/2012/000534 स्थापित होती है और एतदर्थ अंतिम सुनवाई दि.21.06.2013 को होती है, जहां मेरी दृष्टिकोण को भाविष्यिक सुझाव के तौरRBI द्वारा रख लिया जाता है ।

××××××××××××

अतीव प्रसन्नता की बात है, 10.11.2016 से आम जनताओं के लिए जारीwww.paisaboltahai.rbi.inके द्रष्टव्यश: ₹2000 और ₹500 के नए नोटों में महात्मा गांधी के असली चेहरा दिए गए हैं, जो मेरे द्वारा सुझाए गए हैं । पुराने नोटों पर गांधी जी के सचमुच में चित्र (पोट्रेट) है,

  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

रानी एही चौतरा पर

लेखक राकेश तिवारी का यात्रा वृत्तांत ‘पवन ऐसा डोले’ रश्मि प्रकाशन से प्रकाशित हुई है। …

2 comments

  1. Achha kiya paise change karke
    http://www.mygyanblog.com

  2. अशोक चक्र गायब?

Leave a Reply

Your email address will not be published.