Home / Featured / किशोर कवि अमृत रंजन की नई कविताएँ

किशोर कवि अमृत रंजन की नई कविताएँ

अमृत रंजन जब पुणे में पांचवीं कक्षा में पढता था तब से जानकी पुल पर उसकी कविताएँ, उसके लेख, उसकी डायरी के अंश छपते रहे हैं अब वह आयरलैंड में है तब भी हिंदी में लिखने का उसका जूनून बाक़ी है. उसकी कविताओं में पहले जो एक बालसुलभ जिज्ञासा थी अब उसकी कविताओं में एक बेचैन सी प्रश्नाकुलता है और अब इन कविताओं में किशोर उम्र की संवेदना सहज रूप से आई है. पढ़कर बताइयेगा- मॉडरेटर

================================

 

बहाना

मैंने तुम्हें गले लगाना चाहा,
लोगों ने कहा बेवकूफ़ी है।
इसलिए मैंने ऐसा न किया।

मैं तुम्हें एक पत्र लिखना चाह रहा था,
जिसमें मेरे प्यार के जादू से
शब्द एक दूसरे से पहले आने के लिए लड़ें।
लेकिन मेरी कलम में स्याही न बच गई थी।
इसलिए ऐसा न कर पाया।

मैं तुम्हें प्यार लौटाने को पूछने वाला था,
लेकिन मेरे अल्फ़ाज़ों ने सलाह दी –
ऐसा न करूँ।
मैंने अपनी आवाज़ को समझाने की कोशिश की
लेकिन तुम्हें सड़क पर मेरे बगल से गुजरते हुए सुनकर,
वह चुप पड़ गई।

आज बोल रही है, न जाने क्यों।
आज कलम में स्याही आ गई।
आज लोगों ने भी हाँ कर दी।
लेकिन मैं जान गया
यह प्यार नहीं है।
इसलिए मैंने तुम्हें अपने बगल से गुजरने दिया।

_____________________________________

क्या तुम बस एक शाम की बरसात थी?

क्या तुम बस एक शाम की ही बरसात थी?
क्या तुम बस वही पहली बारिश की दुआ थी?

एक रात बरस कर
अगले ही दिन
फिर बादलों की ऊँचाई बन गई?
आश्चर्य है!
मैंने खुद को भींगने क्यों दिया।

तुम्हारी इन बूँदों ने
मेरी आँखें चमका दीं।
तुम्हारे बादल ने मेरे चाँद को घेर लिया।
मुझे अपनी सोच, अपने पानी में भिगो दिया।
मैं कुछ नहीं कर पाया।

और अब,
जब तुम मेरी तरफ आ रही हो,
एक और वैसी शाम की घेर बनकर।
मैं जल्दी से छाता खोलता हूँ।
लेकिन जैसे ही तुम्हारी बूँदें
पट-पट मेरे छाते को भिंगोती हैं,
मुझसे छाता हटाए बिना रहा नहीं जाता।

क्या तुम बस एक शाम की बरसात थी?

____________________________________

मौसम

मेरे मन के बगीचे से
हर दिन एक फूल तोड़ ले जाती हो।
हर दिन मैं तुम्हें
एक नई खुशबू देता हूँ,
हर दिन नया रंग देता हूँ।

जब सब खत्म हो जाए
तो तुम कहते हो –
कुछ दिया ही कहाँ है
तुमने मुझे?

आखिर समझते क्यों नहीं,
मैं मौसम पे चलता हूँ,
तुम पर नहीं।

_________________________________________

कुछ सुनाई दिया?

वही गहरी रात थी।
यह रात पूरी ज़िंदगी मुझे छेड़ते आई है।
सब काला था,
लेकिन पड़छाइयाँ दिखाई पड़ रही थीं।
मेरे बगल में रेडियो और एक पत्थर बैठे हुए थे।

रेडियो बोले जा रहा था और
पत्थर शांत बैठा पड़ा था।
एकांत रात को खींचे जा रही थी।
ऐसा लग रहा था,
रात ख़त्म नहीं बढ़ती जा रही है।

बरामदे में बैठे लग रहा था,
पूरी दुनिया इस रेडियो को सुन पा रही होगी।
पत्थर अभी भी कुछ न बोल पा रहा था।
मैंने गुस्से में उसे फेंका और
रंग बदलते हुए वह उड़ गया।
शायद नीचे नहीं गिरा।

मैंने घर जाना सोचा और
रेडियो उधर छोड़ दिया ताकि
दुनिया सुनती रहे।
लेकिन जैसे ही मेरे पीछे दरवाज़ा बंद हुआ
मैं वह घरघराहट सुन नहीं पाया।

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Amrut Ranjan

कूपरटीनो हाई स्कूल, कैलिफ़ोर्निया में पढ़ रहे अमृत कविता और लघु निबंध लिखते हैं। इनकी ज़्यादातर रचनाएँ जानकीपुल पर छपी हैं।

Check Also

सुरेन्द्र मोहन पाठक और उनका नया उपन्यास ‘क़हर’

मैं पहले ही निवेदन करना चाहता हूँ कि मैं सुरेन्द्र मोहन पाठक के अनेक उपन्यास …

One comment

  1. Well written Amrit…especially mousam is so true…truly a poet…keep growing n keep writing. Waiting to see few more.

Leave a Reply

Your email address will not be published.