Home / Featured / राष्ट्रवाद के भारी बारिश की उम्मीद है

राष्ट्रवाद के भारी बारिश की उम्मीद है

आज यह व्यंग्य पढ़िए। लिखा है सेंट स्टीफेंस कॉलेज में इतिहास के विद्यार्थी उन्नयन चंद्र ने- मॉडरेटर

==============================================

भारत की लगभग 44 फ़ीसदी आबादी जल संकट से जूझ रही है. गर्मी में चापाकल सूख रहे है. टुल्लू पम्प में पानी ऐसे आ रहा है जैसे मोपेड एवरेस्ट पर चढ़ रहा हो. महाराष्ट्र और तमिलनाडु में पानी की किल्लत काफी व्यापक और ‘एक्यूट’ है. ऐसे में आम तौर पर ‘क्यूट’ और ‘कूल’ लोगों की दिल्ली में शोले भड़क आये है. कई लोगों ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद दिल्ली में जल संकट और गहरा गया है. आम तौर पर सम-भाव की स्थिति में रहने वाले केजरीवाल ने ऐसी विषम परिस्थिति का सामना करने के लिए मफ़लर और टोपी का त्याग कर ‘सम-विषम’ योजना बनायी है. डीयू के मार्क्सवादी चिंतकों ने पानी के उपलब्धता के आधार पर दिल्ली की जनता को ‘प्रोलीतारीयेत’ और ‘बुर्जुआजी’ वर्ग में विभक्त कर दिया है और क्रांति की मांग की है. कन्हैया कुमार ने बेगुसराय में हार के लिए जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के उन लोगों को ज़िम्मेदार ठराया है जो मुफ्त का पानी पीने दिल्ली से बिहार आये थे. जल संकट की विषम परिस्थिति में नरेन्द्र मोदी ने इजराइल, फिलिस्तीन, सऊदी अरब, इराक और ईरान जैसे देशों से मदद माँगी है. इन देशों के साथ हमारे मित्रवत संबधों और प्रधान-मंत्री की सूझ-बुझ की व्याख्या करते हुए देश के नामी समाचार चैनलों ने विपक्ष की कटु आलोचना की है. वहीँ अमेरिका द्वारा किसी भी तरह के सहायता से इंकार की बात की राजनाथ सिंह ने भरपूर निंदा और आलोचना की है. विपक्ष को निकम्मा बताते हुए पत्रकारों ने कांग्रेस को गाँधी के नमक आन्दोलन की याद दिलाई है और पार्टी को जल-समाधि लेने का सुझाव दिया है. पार्टी ने जल की किल्लत को देखते हुए समाधि के विचार को अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया है. ठीक वैसे ही जैसे अध्यक्ष पद पर लोकतांत्रिक तरीके से कराये जाने वाले चुनाव को. राहुल गाँधी ने कमज़ोर मॉनसून से होने वाली आम के उत्पादन में कमी पर चिंता व्यक्त करते हुए इटली और थाईलैंड में पाए जाने वाले आम के पेड़ों को देश में लगाने की सलाह दी है. राहुल गाँधी आम और लीची के कम उत्पादन की बात सुन कर खासे दुखी नज़र आये. सरकार के एक मृदुभाषी मंत्री ने इसके लिए नेहरु को जिम्मेदार ठहराया है क्यूंकि देश के पहले प्रधान-मंत्री ने पूरे देश में डैम नहीं बनवाया. दूसरे अल्पभाषी मंत्री ने उन लोगों को पाकिस्तान जाने की सलाह दी है बिहार और उत्तर प्रदेश का पानी पी के लाहौर की मिटटी की खुशबू को भुला नहीं पाए है. गंगा के पानी से  वुज़ू करने वाले लोगों पर टैक्स लगाने की भी बात उठाई गयी है.

केजरीवाल ने दिल्ली में पानी के इस्तेमाल में औड-इवन फार्मूला अपनाने की बात की है. उन्होने यह घोषणा की है कि पुरुष केवल सोमवार, गुरुवार और रविवार को स्नान कर सकते है. महिलाएं केवल मंगल, बुध एवम शुक्रवार को. बच्चे शानिवार को नहा सकते है और भैंस एवम अन्य पशु  केवल रात में नहा सकती है. भाजपा ने केजरीवाल पर भेद भाव का आरोप लगाते हुए गाय की महत्ता को ‘इगनोर’ करने की बात कही है. केजरीवाल ने योजना के अनुसार दिल्ली के सभी बाथरूम में सिसीटीवी कैमरे लगाने की बात की है. केजरीवाल ने धमकी देते हुए कहा की इस बार  अगर केंद्र सरकार ने कोई अड़चन पैदा की तो वह ‘दिल्ली जल बोर्ड’ के टंकी में जल मग्न हो कर धरना देंगे.

 केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री ने ज्योतिष के सहारे जल संकट के निदान की बात की है. पूरे देश का वातावरण यज्ञ हवन से सुगन्धित हो गया है. जल संकट के मध्य नज़र विश्व कप के मैच में इंग्लैंड में मैदान पर पानी के इस्तेमाल को मायावती और राबड़ी देवी ने गलत बताया है और अँगरेज़ से पुराने पानी का हिसाब माँगा है. इसी दौरान विराट कोहली से पूछे जाने पर उन्होने अपने ‘700’ प्रति लीटर वाले पानी का बोतल दिखा कर दिल जीत लिया. नम आँखों से कोहली ने कहा की वे तो शुरू से ही विदेश से पानी मनवाते रहे है ताकि देश का पानी बचे. इस निश्चल देशप्रेम की बात को सुन कर आम लोगों की आँखें भर आई जिस से राष्ट्रवाद के भारी बारिश की उम्मीद है. सरकार ने बाकि कार्यों को रोकते हुए आपदा प्रबंधन विभाग को ‘हाई अलर्ट’ पर रहने का आदेश दिया है.

=========

लेखक सम्पर्क:

unnayanchandraa@gmail.com

  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

अनामिका अनु की कुछ नई कविताएँ

अनामिका अनु ने बहुत कम समय में अपनी कविताओं से अच्छी पहचान बनाई है। आज …

Leave a Reply

Your email address will not be published.