Breaking News
Home / Prabhat Ranjan (page 2)

Prabhat Ranjan

आप लेखक बनना चाहते हैं तो इस पर नज़र रखें

दिल्ली में नेहरु प्लेस के पास जर्मन बुक ऑफ़िस है। जर्मनी और भारतीय पुस्तक व्यवसाय से जुड़े लोगों, संस्थाओं के साथ मिलकर पुस्तकों के विस्तार के लिए काम करती है। इसका एक बहुत अच्छा कार्यक्रम है jumpstart। जिसके तहत यह संस्था बच्चों और वयस्कों के लिए किताब तैयार करवाने की …

Read More »

नमिता गोखले के उपन्यास ‘राग पहाड़ी’ का एक अंश

कुमाऊँ अंचल से मुझे प्यार है और यह जगाया है कुछ साहित्यिक कृतियों ने। उन कृतियों में हिंदी की तमाम कृतियों के अलावा अंग्रेज़ी के कुछ उपन्यासों का योगदान भी रहा है। जिनमें एक नाम नमिता गोखले के उपन्यास ‘दि हिमालयन लव स्टोरी’ का भी है। मुझे याद है मनोहर …

Read More »

‘अवेंजर्स एंडगेम’ फ़िल्म नहीं फिनौमिना है!

फ़िल्म अवेंजर्स एंडगेम पर विमलेश शर्मा की टिप्पणी पढ़िए- मॉडरेटर ================================== हाँ तो Avengers Endgame की बात कर रहे हैं हम यहाँ जिसे देखना मेरे लिए काफ़ी Adventurous था… इसे देखने से  पहले इतनी हिदायतें दी गई कि मुझे याद नहीं कभी माँ होते हुए मैंने पुत्तर जी को उतनी …

Read More »

‘दि टीनएज डायरी ऑफ़ जहाँआरा’ पुस्तक का एक अंश

सुभद्रा सेनगुप्ता की किताब ‘दि टीनएज डायरी ऑफ़ जहाँआरा’ में मुग़लिया इतिहास के उस दौर को दर्ज किया गया है जब शाहजहाँ ने अपने पिता जहांगीर से बग़ावत कर दी थी और अपने परिवार के साथ दक्कन में रह रहे थे। शाहजहाँ की बेटी जहाँआरा के बारे में सब जानते …

Read More »

सुधा उपाध्याय की कविताएँ

आज कुछ कविताएँ सुधा उपाध्याय की। सुधा जी को हाल में ही अपनी कविताओं के लिए शीला सिद्धांतकर सम्मान मिला है। वह दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाती हैं और मुखर स्त्रीवादी कवयित्री हैं। उनको जानकी पुल परिवार की शुभकामनाएँ- मॉडरेटर ====================================== 1 वो पूछ रहे हैं, आप ने अपनी कलम में …

Read More »

कृष्णा सोबती उनकी जीजी थीं

हंस पत्रिका का अप्रैल अंक कृष्णा सोबती की स्मृति को समर्पित था, जिसका सम्पादन अशोक वाजपेयी जी ने किया है। इस अंक में कृष्णा जी को याद करते हुए उनकी भतीजी ने एक आत्मीय संस्मरण लिखा है जिसका अंग्रेज़ी से अनुवाद मैंने किया है। आपने न पढ़ा तो तो पढ़िएगा- …

Read More »

सुरेन्द्र मोहन पाठक और उनका नया उपन्यास ‘क़हर’

मैं पहले ही निवेदन करना चाहता हूँ कि मैं सुरेन्द्र मोहन पाठक के अनेक उपन्यास पढ़े ज़रूर हैं लेकिन उनका फ़ैन नहीं रहा। लेकिन उनके विमल सीरिज़ की बात ही कुछ और है। विमल, जो क़ानून की नज़र में अपराधी है लेकिन वह एक ऐसा किरदार है जिससे आपको प्यार …

Read More »

अरविंद दास का लेख ‘बेगूसराय में ‘गली बॉय’

बिहार के बेगूसराय का चुनाव इस बार कई मायने में महत्वपूर्ण है।कन्हैया कुमार जहाँ भविष्य की राजनीति की उम्मीद हैं तो दूसरी तरफ़ उनका पारम्परिक राजनीति की दो धाराओं द्वारा विरोध किया जा रहा है। जीत हार बाद की बात है लेकिन यह चुनाव विचारधारों के संघर्ष का एक बड़ा …

Read More »

अनामिका अनु की कविताएँ

आज अनामिका अनु की कविताएँ। मूलतः मुज़फ़्फ़रपुर की अनामिका केरल में रहती हैं। अनुवाद करती हैं और कविताएँ लिखती हैं। उनकी कुछ चुनिंदा कविताएँ पढ़िए- मॉडरेटर =============================   १.मां अकेली रह गयी   खाली समय में बटन से खेलती है वे बटन जो वह पुराने कपड़ों से निकाल लेती थी …

Read More »

महात्मा गांधी को किस तरह देखा जाए

कल दिल्ली विश्वविद्यालय के ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज(सांध्य) में विश्व भारती विश्वविद्यालय शांतिनिकेतन के कुलपति प्रोफ़ेसर  बिद्युत चक्रवर्ती ने मिर्ज़ा महमूद बेग स्मृति व्याख्यान दिया। उन्होंने महात्मा गांधी पर बोलते हुए उन परिस्थितियों की बात की जिसमें गांधी को गांधी बनाया और साथ ही उनके विरोधाभासों के की भी चर्चा …

Read More »