Home / Prabhat Ranjan (page 2)

Prabhat Ranjan

बाघ, बंदर और दढ़ियल खाडू(मेढे) की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे  बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथायें लिख रही हैं, हर कथा में एक सीख होती है, कोई सूझ, जो राज-समाज के बारे में हमें कुछ बता जाती है सिखा जाती है। यह 24 वीं कथा है। आप भी पढ़िए- ================================== (गढवाल की यह लोककथा मूल …

Read More »

                          चेतना पारीक होने का बोझ

देवेश पथ सारिया युवा कवि हैं। ताइवान के एक विश्वविद्यालय में शोध छात्र हैं। उनका यह गद्यांश पढ़िए जो लेखक के रूप में सफलताओं-असफलताओं, युवा जीवन के सपनों को लेकर है। आप भी पढ़ सकते हैं- ==================== 29 दिसंबर 2020 शिन चू, ताइवान सुबह के 6:00 बजे हैं। यह मेरा …

Read More »

प्रियदर्शी ठाकुर ‘ख़याल’ के उपन्यास ‘सीगिरिया पुराण’ का अंश

प्रसिद्ध शायर प्रियदर्शी ठाकुर ‘ख़याल’ का दूसरा उपन्यास आया है ‘सीगिरिया पुराण’, जो प्राचीन श्रीलंका की पृष्ठभूमि में लिखा एक ऐतिहासिक उपन्यास है। भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित इस उपन्यास का एक अंश पढ़ते हैं- ========================== मदिरापान से उन्मत्त मिगार का एकालाप अनुराधापुर / सन् 478 ई.  धधकती हुई चिता जैसी …

Read More »

प्रेम की ड्योढी का संतरी: मृणाल पाण्डे

बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ सीरिज़ की यह 23 वीं कथा है। लव-जिहाद के शोर के इन दिनों में प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे ने इस बार लोक की एक प्रेम कहानी उठाई है और उसकी हूक का बयान किया है। आप भी पढ़िए- ================================== (हिंदी में बेहतरीन प्रेमकथायें …

Read More »

सरताज-ए-मौसीक़ी नौशाद

आज  संगीतकार नौशाद साहब की जयंती है। उनकी जयंती पर पढ़ते हैं मनोहर नोतानी का लिखा यह लेख। लेखक, अनुवादक मनोहर नोतानी। इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में स्नातक और इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग व उत्पादकता में स्नातकोत्तर अध्ययन व अध्यवसाय। फिलवक्त भोपाल में रहना। 25 दिसंबर को नौशाद साहब की 101वीं जयंती है। नौशाद साहब …

Read More »

मीरां का कैननाइजेशन

मीरां के समय और समाज एकाग्र पुस्तक ‘पचरंग चोला पहर सखी री’ (2015) का प्रदीप त्रिखा द्वारा अनूदित अंग्रेज़ी संस्करण ‘मीरां वर्सेज़ मीरां’ वाणी बुक कंपनी, नयी दिल्ली से प्रकाशित हुआ है। यहाँ इस पुस्तक के पाँचवें अध्याय ‘कैननाइजेशन’ का मूल हिन्दी पाठ दिया गया है। विद्वान आलोचक माधव हाड़ा …

Read More »

सदेई और सदेऊ की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका-संपादिका मृणाल पाण्डे की बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ  का यह 22 वाँ खंड है। इस बार गढ़वाल की मूल लोककथा को आधार बनाकर उन्होंने एक शानदार कथा रची है। भाषा, परिवेश, संदेश सब लिहाज़ से एक ऐसी कथा है जिसे आप बार बार पढ़ना चाहें- =================================== …

Read More »

युवा कवि शाश्वत की कविताएँ

बनारस के युवा शाश्वत की कविताओं की तरफ़ युवा कवयित्री अनामिका अनु ने ध्यान दिलाया। ताज़गी से भरी ये कविताएँ साझा कर रहा हूँ- =========================   1.छोड़े गये प्रेमी   छोड़े गये प्रेमी……   छोड़े गये प्रेमी खूब गज़ब होते हैं , उन्हें बिंधती है बड़े भाई की कटीली मुस्कान …

Read More »

सांता जो किताबें लेकर आने वाला है!

हमारे जीवन में पर्व त्योहारों का बहुत महत्व है। अपनी अपनी ख़ुशियों को साझा करने के अवसर होते हैं ये पर्व त्योहार। पिछले कुछ दिनों से ऐसे मौक़ों को राजकमल प्रकाशन समूह किताबों के साथ मनाने की योजना लेकर आता रहा है। यह समूह इस बार क्रिसमस पर ‘किताबों वाले …

Read More »

प्रवीण कुमार झा की कहानी ‘अहुना मटन’

 प्रवीण कुमार झा की यह कहानी पढ़िए। चंपारण के अहुना मटन के बहाने एक ग्लोबल कहानी- ===================================  ‘ग म धss…ग म धsss’  भोर के घुप्प अंधकार में धैवत को आंदोलित करते भैरव गा रहा हूँ कि शायद कोई करिश्मा हो जाए। छत पर तिरछी खिड़की के शीशे को ताक रहा …

Read More »