Home / Prabhat Ranjan (page 22)

Prabhat Ranjan

अंधेरे देश, कंजे राजा और गंजे महामंत्री कथा: मृणाल पाण्डे

बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथायें सीरिज़ की यह 18वीं कथा है। प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे लोक कथाओं के पिटारे से ऐसी कथाएँ निकाल रही हैं जिनसे हमें अपना समकाल बेहतर समझ में आने लगता है। लेखिका को इसकी मूल लोक कथा तमिल से कवि ए के रामानुजन द्वारा …

Read More »

कविता शुक्रवार 17:जोशना बैनर्जी आडवानी की कविताएँ रवींद्र व्यास के चित्र

कविता शुक्रवार के इस अंक में जोशना बैनर्जी आडवानी की कविताएं और रवींद्र व्यास के चित्र शामिल हैं। जोशना बैनर्जी आडवानी का जन्म 31 दिसंबर, 1983 में आगरा, उत्तर प्रदेश में हुआ था। आगरा में ही शिक्षा पूरी की। सेंट कॉनरेड्स इंटर कॉलेज से स्कूलिंग की। ग्रैजुएशन, पोस्ट ग्रैजुएशन, बी.एड, …

Read More »

आप ‘वेबिनार कल्चर’ से बचे रहें, यही काफी है!

अजय बोकिल भोपाल में रहते हैं, संपादक हैं। उनका यह छोटा सा लेख पढ़िए- ================          हालत कुछ ऐसी ही है, आप ‘कोरोना’ से बच सकते हैं, लेकिन वेबीनार से नहीं। एक से पल्ला छुड़ाएंगे तो दूसरा जकड़ लेगा और चाहे-अनचाहे आपके वाॅ्टस एप पर लिंक डाल …

Read More »

  श्रीमती हेमन्त कुमारी देवी: उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्ध का स्त्री पक्ष

क्या उन्नीसवीं सदी को लेकर हिंदी साहित्य का जो विमर्श है वह इतना अधिक भारतेंदु हरिश्चन्द्र केंद्रित है कि अनेक लेखकों की उपेक्षा हुई? ख़ासकर लेखिकाओं की? युवा अध्येता सुरेश कुमार के इस शोधपरक लेख में पढ़िए- =====================  हिन्दी साहित्य में विमर्श के बिंदु भारतेन्दु की आभा के इर्द गिर्द …

Read More »

महात्मा गांधी के विचारों के आलोक में राजभाषा कार्यान्वयन

डॉ. बी. बालाजी मिश्र धातु निगम लिमिटेड में उप प्रबंधक (हिंदी अनुभाग एवं निगम संचार) हैं। राजभाषा कार्यान्वयन के संदर्भ में उनका यह लेख पढ़िए- ==================== 15 अगस्त 1947 को बीबीसी के पत्रकार से  बातचीत के दौरान महात्मा गांधी ने स्पष्ट शब्दों में कहा था कि “पूरी दुनिया से कह …

Read More »

वक़्त है फूलों की सेज, वक़्त है काँटों का ताज

प्रबोध कुमार गोविल ने अभिनेत्री साधना जी जीवन कथा लिखी है जिसका प्रकाशन बोधि प्रकाशन ने किया है। उसी किताब की समीक्षा की है प्रवीण प्रणव ने। आप भी पढ़ सकते हैं- ================= बोधि प्रकाशन, जयपुर से प्रकाशित प्रबोध कुमार गोविल की किताब ‘ज़बाने यार मनतुर्की’ हाल में ही पढ़ने …

Read More »

कृष्णनाथ की पुस्तक ‘पृथ्वी परिक्रमा’ की काव्यात्मक समीक्षा

कृष्णनाथ की प्रसिद्ध पुस्तक ‘पृथ्वी परिक्रमा’ की यह कविता समीक्षा की है यतीश कुमार ने। आप भी आनंद लीजिए-  ===============   1.   पश्चिमी हवा है और यात्रा भी पर ध्येय तो पूरबी है और जिज्ञासा भी   सहज निसर्ग आनंद की तलाश बाह्य परिवर्तनों को बूझने का लक्ष्य किसिम-किसिम …

Read More »

जीवन के तमाम उतार चढ़ावों को दर्शाती एक महत्वपूर्ण फिल्म

कोरियाई फ़िल्म ‘Spring, Summer, Fall, Winter and Spring’ की यह समीक्षा लिखी है सैयद तौहीद शाहबाज़ ने। समीक्षा पढ़कर 2003 में आई किम कू डुक इस फ़िल्म देखने की ख़्वाहिश जाग उठी- ================= पर्वतों के मनोरम दृश्यों के बीच बसे बौद्ध मठ में आपका स्वागत है। यह मठ अपने आप …

Read More »

मूर्ख, महामूर्ख और वज्रमूर्खों की कथा:  मृणाल पाण्डे 

बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाओं की यह सत्रहवीं कड़ी है। वरिष्ठ लेखिका मृणाल पाण्डे लोक कथाओं की पोटली खोलती हैं और सदियों की संचित कथाओं में हमें अपने समकालीन राजनीतिक प्रसंग समझ में आने लगते हैं। समकालीन राजनीति का प्रहसन खुलने लगता है। जैसे मूर्खता की यह कथा …

Read More »

कविता शुक्रवार 16: ध्रुव शुक्ल की कविताएँ विनय अम्बर के चित्र

गांधी जयंती पर आज प्रस्तुत हैं ध्रुव शुक्ल की कविताएं और विनय अंबर के गांधी केंद्रित कुछ चित्र। कवि-कथाकार ध्रुव शुक्ल का जन्म वर्ष 1953 में सागर, मध्यप्रदेश में हुआ था। उनके अब तक तीन उपन्यास- ‘उसी शहर में’, ‘अमर टाकीज’ और ‘कचरा बाजार’ प्रकाशित हुए हैं। पाँच कविता संग्रह- …

Read More »