Home / Prabhat Ranjan (page 7)

Prabhat Ranjan

हरे पीले लाल के बीच झूलती ज़िन्दगी: अजय सोडानी

इंदौर शहर के जाने-माने चिकित्सक डॉक्टर अजय सोडानी जाने-माने लेखक हैं। कोरोना काल में चिकित्सा के अनुभवों को लेकर उन्होंने तीन अंकों में एक सीरिज़ ‘दैनिक भास्कर’ में लिखी। आप लोगों के लिए तीनों एक साथ प्रस्तुत कर रहे हैं- =============================== “बेटा मिल सके तो कहीं से एक अनार लेते …

Read More »

प्रयाग शुक्ल की नई कविताएँ

कल यानी 28 मई को जाने-माने कवि-कला समीक्षक प्रयाग शुक्ल का जन्मदिन था। वे 81 साल के हो गए। उन्होंने कुछ नई कविताएँ लिखीं। आप उन कविताओं को यहाँ पढ़ सकते हैं –- =========   1 आशंका   जब लगा होगा मन मेरा किसी काम में- कोई टोक देगा! जब …

Read More »

लोक संस्कृति के अद्भुत नायक देवेंद्र सत्यार्थी: प्रकाश मनु

आज यायावर लेखक देवेंद्र सत्यार्थी जी की जयंती है। लेखक प्रकाश मनु का उनके साथ लम्बा समय बीता। आज देवेंद्र सत्यार्थी पर प्रकाश मनु का लिखा यादगार लेख पढ़िए- ====================== किसी दरवेश सरीखे अपने ढंग के विलक्षण लोकयात्री देवेंद्र सत्यार्थी के काम और व्यक्तित्व से प्रभावित होकर कई दशकों पहले …

Read More »

केशव भारद्वाज की कहानी ‘अपने लोग’

केशव भारद्वाज पुलिस सेवा में रहे हैं। आजकल प्रतिनियुक्ति पर कंपाला, युगाण्डा के भारतीय उच्चायोग में  सहायक कार्मिक एवं कल्याण अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं। इससे पूर्व वह प्रिटोरिया में तैनात रहे हैं। लेखक हैं। मैथिली में लिखते रहे हैं। आज उनकी हिंदी कहानी पढ़िए- ============================== मोबाइल फ़ोन में …

Read More »

‘कोसी का घटवार’ के बहाने प्रेम पर चिंतन

प्रसिद्ध लेखक सूरज प्रकाश जी ने कुछ चर्चित कहानियों के पात्रों को लेकर एक सीरिज़ लिखी है। सबसे पहले पढ़िए शेखर जोशी की कहानी ‘कोसी का घटवार’ के अमर पात्र सैनिक नायक गुसाईं सिंह के बारे में- ========================================= वरिष्ठ कहानीकार शेखर जोशी की एक कहानी है ‘कोसी का घटवार’। इस …

Read More »

अनुराग अनंत की ग्यारह कविताएँ

आज युवा कवि अनंत अनुराग की कविताएँ पढ़िए। ताज़गी का अहसास होगा- =======================   !! लगभग सिर्फ़ एक शब्द नहीं है !!   (1)   एक बरसात से दूसरी बरसात तक जाते हुए बीच में मिलती है सर्दी और गर्मी बहुत से लोग, उनकी प्यास उदास कुत्ते और उनकी भूख …

Read More »

‘अपेक्षाओं के बियाबान’ में कुछ कविताएँ

निधि अग्रवाल की कई कहानियाँ मुझे भी पसंद हैं। उनके कहानी संग्रह ‘अपेक्षाओं के बियाबान’ की कहानियों को पढ़ते हुए यह काव्यात्मक टिप्पणी की है यतीश कुमार ने, जो अपनी काव्यात्मक समीक्षा के लिए जाने जाते रहे हैं। आप भी पढ़िए- प्रभात रंजन =================== स्मृतियों के प्रेत से मुक्ति पाने …

Read More »

अमरकंटक की नर्मदा कथा

प्रियंका नारायण मिथकों, पारम्परिक कथाओं पर बहुत खूब लिखती हैं। इससे पहले बनारस पर लिखे उनके गद्यांश हम पढ़ चुके हैं। यह गद्यांश अमरकंटक, नर्मदा नदी को लेकर है। अछूता विषय, निराला गद्य- ============== कहते हैं गंगा भी जब अपने पाप से मैली हो जाती है, तब वह दौड़ी हुई नर्मदा …

Read More »

भावना शेखर की कहानी ‘संधिपत्र’

आज पढ़िए भावना शेखर की कहानी ‘संधिपत्र’। रिश्तों के तानों-बानों में बनती-सिमटती यह कहानी बहुत कुछ न कहके भी बहुत कुछ कह जाती है- =========================== खिड़की से आती हवा के झोंके दीवार पर टंगे कैलेंडर के पन्नों को फडफड़ा देते मानो उसे याद दिला रहे हों कि चार दिन हो …

Read More »

आशुतोष भारद्वाज का लेख ‘मंगलेश का प्रदाय’

आज मंगलेश डबराल जी की जयंती है। उनके जाने के बाद पहली जयंती। उनके रचनात्मक अवदान पर यह लेख प्रसिद्ध लेखक-पत्रकार-आलोचक आशुतोष भारद्वाज ने लिखा है। ============= एक किसी आलोचक और रचनाकार की आलोचना में एक फ़र्क यह है कि कोई कवि या कथाकार जिन मानकों को प्रस्तावित करता है, …

Read More »