Home / vimlendu vimlendra

vimlendu vimlendra

सिनेमा और होली का चोली-दामन का साथ रहा है!

होली पर जानकी पुल की तरफ से हैप्पी होली युवा लेखक विमलेन्दु के इस सुन्दर लेख के साथ- मॉडरेटर ============================================================ होली और ईद, भारत के दो ऐसे धार्मिक पर्व हैं, जिनमें धार्मिक आग्रह बहुत कम, और उल्लास एवं कुंठाओं के निरसन का भाव ज्यादा होता है। होली के साथ प्रहलाद-होलिका …

Read More »

भारत भूषण पुरस्कार कवि का अवमूल्यन भी कर देता है !

पिछले कुछ सालों से युवा कविता के सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार मिलने के बाद बहस-विवाद की शुरुआत हो जाती है. बहस होना कोई बुरी बात नहीं है. भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार की शुरुआत साल की सर्वश्रेष्ठ युवा कविता को पुरस्कृत करने के लिए किया गया था. लेकिन साल …

Read More »

धरती के स्वर्ग में कश्मीरी लाल मिर्च !  

विमलेन्दु का यह लेख कश्मीर की हमारी रूढ़ छवि को थोड़ा विचलित कर देने वाला है. लेकिन यह भी एक सच है. विमलेन्दु के विचार को जगह देना जनतांत्रिकता का तकाज़ा है- मॉडरेटर ========================================== सबसे पहले कश्मीर के मौजूदा दृश्य पर एक विहंगम नज़र डाल लेते हैं. इसके बाद कश्मीर …

Read More »

हिटलर एक बार आत्महत्या करता है, और अनन्त बार जन्म लेता है

आज के दिन ही हिटलर ने आत्महत्या की थी. उसके ऊपर विमलेन्दु का लेख- मॉडरेटर ========================================= 30 अप्रैल 1945 को हिटलर ने आत्महत्या कर ली थी. इतिहास के पन्नों पर जो लिखा हुआ है, उसके मुताबिक तो दूसरे विश्वयुद्ध में अपनी सेना की डावांडोल स्थिति ने उसे आत्महत्या के लिए …

Read More »

ज़िन्दगी लाइव: फंतासी झूठ नहीं, संभावना है!

किताबों के बाजार की सबसे बड़ी ब्यूटी यह होती है कि जिस किताब को लेखक-प्रकाशक चलाना चाहता है वह अक्सर नहीं चल पाती है लेकिन जिसे वह साधारण समझता है वह असाधारण रूप से पाठकों के बीच छा जाती है. प्रियदर्शन के पहले उपन्यास ‘ज़िंदगी लाइव’ के साथ यही हुआ. …

Read More »