Home / अनुवाद (page 2)

अनुवाद

रूसी भाषा के लेखक सिर्गेइ नोसव की कहानी ‘अच्छी चीज़’

 सिर्गेइ नोसव की इस कहानी का अनुवाद किया है रूसी भाषा की विदुषी प्रोफ़ेसर और अनुवादिक आ. चारुमति रामदास  ने- मॉडरेटर =============== अच्छी चीज़ लेखक: सिर्गेइ नोसव अनुवाद : आ. चारुमति रामदास   “ ये बड़ी देर चलेगा,” पेत्या ने कहा. “ऐह, उनका ट्रैफ़िक सिग्नल भी काम नहीं कर रहा …

Read More »

‘दि टीनएज डायरी ऑफ़ जहाँआरा’ पुस्तक का एक अंश

सुभद्रा सेनगुप्ता की किताब ‘दि टीनएज डायरी ऑफ़ जहाँआरा’ में मुग़लिया इतिहास के उस दौर को दर्ज किया गया है जब शाहजहाँ ने अपने पिता जहांगीर से बग़ावत कर दी थी और अपने परिवार के साथ दक्कन में रह रहे थे। शाहजहाँ की बेटी जहाँआरा के बारे में सब जानते …

Read More »

चीनी लेखक लाओ मा की कहानी ‘मरीज को देखने जाना’

हाल में मैंने जिन किताबों के अनुवाद किये हैं उनमें चीनी लेखक लाओ मा की कहानियों का संग्रह ‘भीड़ में तन्हा’ बहुत अलग है. चीन की राजनीति, समाज पर लगातार एक व्यंग्यात्मक शैली में उन्होंने कहानियां लिखी हैं. बानगी के तौर पर एक कहानी देखिये. यह किताब ‘रॉयल कॉलिन्स पब्लिकेशन’ …

Read More »

सुनील गंगोपाध्याय की कविताएँ सुलोचना का अनुवाद

बांगला भाषा के मूर्धन्य कवि-उपन्यासकार सुनील गंगोपाध्याय की पुण्यतिथि विगत 23 अक्टूबर को थी. उनको याद करते हुए उनकी कुछ कविताओं का मूल बांगला भाषा से अनुवाद किया है हिंदी की सुपरिचित कवयित्री सुलोचना ने- मॉडरेटर ============================= 1. पहाड़ के शिखर पर ————————- बहुत दिनों से ही मुझे एक पहाड़ …

Read More »

चारुमति रामदास अनूदित अलेक्सांद्र कूप्रिन के उपन्यास ‘द डुअल’ का एक हिस्सा

अलेक्सांद्र कूप्रिन (1870-1938) एक प्रसिद्ध रूसी लेखक थे. यहाँ दिया गया हिस्सा कूप्रिन के सबसे प्रसिद्ध उपन्यास द डुअल से लिया गया है। इस हिस्से को पढ़ते हुए आपको अहसास होगा कि टाल्सटाय ने क्यों कूप्रिन को चेखब का सही उत्तराधिकारी कहा था। चारुमति रामदास के द्वारा इस तर्जुमा को …

Read More »

नौसैनिकों के विद्रोह पर आधारित मराठी उपन्यास “बड़वानल” का एक अंश

राजगुरु आगरकर लिखित वड़वानल मराठी का एक प्रसिद्ध उपन्यास है। चारुमति रामदास ने इसका मराठी से हिंदी में अनुवाद किया है। वे EFLU हैदराबाद के रूसी भाषा विभाग से सेवा निवृत्त हुई हैं। नौसेना के एक विद्रोह पर आधारित उपन्यास का यह रोचक अंश पढ़िए आज जानकीपुल पर।  चारुमति रामदास ने रूसी व …

Read More »

नबीना दास की गद्य कविताएँ

हिंदी में गद्य कविता एक ऐसी विधा है, जिसे अभी एक्सप्लोर किया जाना बाक़ी है। कुछ लोग कभी-कभार हाथ आज़माते रहते हैं। लेकिन दूसरी भाषाओं में ये काम निरंतर हो रहा है। कभी कभी ख़याल आता है कि अगर अनुवाद की सुविधा न होती, तो हम अपनी ज़िंदगी में कितनी …

Read More »

माइक इवरेट्ट की कविताएँ

माइक इवरेट्ट अमेरिकी आंचलिक उपन्यासकार हैं। लेख, कविता और कहानी भी लिखती हैं। माइक का एक परिचय यह भी है कि इनके लिखे एक कथन (जो कि एक लेख का हिस्सा है) को इंटरनेट पर दस लाख से ज़्यादा दफ़े कोट किया जा चुका है। वो कथन है, “When a writer falls …

Read More »

कैनेडियन लेखिका मारग्रेट एटवुड की कुछ कविताएँ

मारग्रेट एटवुड को आम तौर पर ‘ब्लाइंड असैसिन्स’ उपन्यास के लिए जाना जाता है. जिसके ऊपर उनको बुकर पुरस्कार मिला था. उनके उपन्यासों को पांच बार बुकर पुरस्कार के लिए शॉर्टलिस्ट किया जा चुका है. 77 साल की इस कैनेडियन लेखिका ने कविताएँ भी लिखी हैं. आज कुछ कविताएँ, जिनका …

Read More »

मार्केज़ की कहानी ‘सफ़ेद बर्फ़ पर लाल खून की धार’

कल हमने गाब्रिएल गार्सिया मार्केज़ की बातचीत पढ़ी थी. आज उनकी एक कहानी का अनुवाद पढ़ते हैं. विजय शर्मा जी ने उनकी एक कहानी का अनुवाद किया है जिसके अंग्रेजी अनुवाद का शीर्षक है ‘द ट्रेल ऑफ़ योर ब्लड इन द स्नो’. कहानी मार्केज़ की अप्नी ख़ास ‘जादुई यथार्थवाद’ की …

Read More »