Home / कथा-कहानी (page 3)

कथा-कहानी

सिगफ्रीड लेंज़ की कहानी ‘सरकार का समर्थक’

वरिष्ठ लेखक-अनुवादक जितेंद्र भाटिया की टिप्पणी के साथ उनके द्वारा अनूदित जर्मन लेखक सिगफ्रीड लेंज़ की कहानी पढ़िए- ============ आज योरोप के दक्षिण पंथी नेताओं की एक टीम कश्मीर के दौरे पर  है, सरकार के इस ऐलान पर मोहर लगाने के लिए कि वहाँ सब कुछ सामान्य है. मुझे जर्मन …

Read More »

ईशान त्रिवेदी की कहानी ‘सीय स्वयंवर कथा सुहाई’

ईशान त्रिवेदी फ़िल्म निर्देशक रहे हैं, फ़िल्मों टीवी के लिए पटकथाएँ लिखते रहे हैं, उनका एक उपन्यास प्रकाशित होने वाला है। लेकिन आजकल जानकी पुल के पाठकों के लिए उनकी एक के बाद एक कहानियाँ आ रही हैं। हर कहानी में उनके लेखन का एक नया ही रूप आता है। …

Read More »

सोनी पाण्डेय की कहानी ‘सलम – बाई’

युवा लेखिकाओं में सोनी पाण्डेय का नाम जाना पहचाना है और यह उनकी एक चर्चित कहानी है- मॉडरेटर ============================== यह कहानी स्त्रियों की अकथ प्रेम की पीर सी चुभती रही है।घूँघट की ओट से ताकती नवेली दुल्हनों के आँख में ओस की बूँद सी अटकी नैहर के प्रेम की पीर …

Read More »

ईशान त्रिवेदी की नई कहानी ‘उड़न’

ईशान त्रिवेदी की कहानियाँ एडिक्टिव होती हैं- एक पढ़िए तो दूसरी पढ़ने की तमन्ना जाग उठती है। यह उनकी नई कहानी है उनके आत्मकथ्य के साथ- ‘जो हाथ आया वो पढ़ लिया’ वाले अंदाज़ में बचपन से खासी जवानी तक काफी कुछ पढ़ लिया था। गुंटर ग्रास से लेके पैकेट्स …

Read More »

पुरुष थमाते है स्त्री के दोनों हाथों में अठारह तरह के दुःख

दुर्गा के बहाने कुछ कविताएँ लिखी हैं कवयित्री विपिन चौधरी ने. एक अलग भावबोध, समकालीन दृष्टि के साथ. कुछ पढ़ी जाने वाली कविताएँ- जानकी पुल. ================================== 1 एक युग में ब्रह्मा, विष्णु, शिव थमाते है तुम्हारे अठारह हाथों में अस्त्र शस्त्र राक्षस वध  की अपूर्व सफलता के लिये सौंपते हैं शेर की नायाब सवारी कलयुग  में पुरुष थमाते है …

Read More »

नरेश कौशिक की कहानी  ‘मोलकी’

नरेश कौशिक पेशे से पत्रकार हैं, कहानियाँ भी लिखती हैं। हरियाणा की पृष्ठभूमि की यह कहानी वहाँ के समाज के एक कम जाने गए सत्य का उद्घाटन करने वाली है- मॉडरेटर ===========================         रामकुमार चौधरी के घर बहू आ गयी है। और ये बात पूरे गांव में आग की तरह …

Read More »

पराग मांदले की कहानी ‘चाह की गति न्यारी’ उपसना झा की टिप्पणी के साथ

‘नया ज्ञानोदय’ के अगस्त अंक में प्रकाशित पराग मांदले की कहानी ‘चाह की गति न्यारी’ पढ़िए युवा कवयित्री-लेखिका उपासना झा की टिप्पणी के साथ- मॉडरेटर =============================== नया ज्ञानोदय के अगस्त अंक में छपी पराग मांदले की कहानी ‘चाह की गति न्यारी’ मनुष्य के मन की परतों को खोलती हुई एक अच्छी …

Read More »

ईशान त्रिवेदी की कहानी ‘स्टील का बिल्ला’

एनएसडी के ग्रेजुएट, फ़िल्मों-टीवी की दुनिया के वरिष्ठ पेशेवर ईशान त्रिवेदी के छोटे छोटे क़िस्सों का मेरे ऊपर ग़ज़ब जादू हो गया है। हर बार एक ताज़ा अहसास से भर देती हैं उनकी कहानियाँ। जैसे इसी कहानी को लीजिए- मॉडरेटर ================================ मेरे घर कामरेड सुरजीत सिंह आ रहे थे। सी …

Read More »

रूसी लेखक सिर्गेइ नोसव की कहानी ‘फ्रीज़र’

रूसी लेखक सिर्गेइ नोसव की कहानी का अनुवाद किया है आ. चारुमति रामदास ने- =============== आख़िरकार रात के दो बजे केक आ ही गया. दो टुकड़े खाने के बाद – एक अपने लिए और एक शौहर के लिए, – मार्गारीटा मकारोव्ना को टी.वी. की तलब आई, अपने प्यारे कॉमेडी-कलाकारों को …

Read More »

विवेक मिश्र की कहानी ‘कारा’

विवेक मिश्र समकालीन साहित्य का जाना-माना नाम हैं। उनकी नई कहानी पढ़िए- मॉडरेटर ========================= बाहर फैले स्याह रंग में हल्की-सी रोशनी घुलने लगी थी। अंधेरा फीका हो चला था। माया ने कुर्सी से उठकर खिड़की का पर्दा एक ओर सरका दिया। सारी रात अस्पताल में कटी थी। प्रशान्त पर अभी …

Read More »