Home / कथा-कहानी (page 5)

कथा-कहानी

मैं भूखा हूँ, रोज़ादार नहीं हूँ

रमज़ान का महीना शुरू हो गया है। मुझे याद आता है रहमान अब्बास का उर्दू नॉवेल (ख़ुदा के साए में आँख मिचोली), जिसमें एक किरदार कहता है- “मैं भूखा हूँ रोज़ादार नहीं हूँ।” बता दूँ कि 2011 में छपे, रहमान के इसी नॉवेल पर महाराष्ट्र साहित्य अकादमी का बेस्ट नॉवेल …

Read More »

टू डेल्ही विद लव- ये नाम है कहानी प्रतियोगिता का

टू डेल्ही विद लव- ये नाम है कहानी प्रतियोगिता का. SIM पब्लिकेशन्स द्वारा इस प्रतियोगिता की घोषणा की गई है. यह एक अंतरराष्ट्रीय प्रकाशन उद्यम है जो जेम्स हेमिंग्वे इंप्रिंट के तहत जल्दी ही हिंदी के नए लेखकों को मौका देगा. यह प्रतियोगिता सभी भाषाओं के लिए खुली हुई है. …

Read More »

अभिषेक कुमार पाण्डेय की कहानी अनुबंधित जीवन

अभिषेक कुमार पाण्डेय युवा कथाकार हैं। अभी जो कहानी आप पढ़ने जा रहे हैं, उसे ग्रामीण परिवेश और वहाँ के जनजीवन को आधार बना कर लिखी गई है। स्वाभावत: ग्रामीण शब्दावली भी प्रयोग हुआ है, जिससे कहानी का लुत्फ़ दोबाला हो जाता है। – संपादक ======================================================== सुलक्षिणी ने दुआर बुहारने …

Read More »

सौम्या बैजल की कहानी ‘संग-साथ’

सौम्या बैजल युवा लेखिका हैं. बदलते वक्त को कहानियों के माध्यम से समझने-कहने की कोशिश करती हैं. भाषा में भी हिंदी रोमन मिक्स लिखती हैं लेकिन निश्चित रूप से उनके पास कहने के लिए कुछ है और कहने का एक अपना सलीका भी है. जैसे कि यही कहानी देखिये- मॉडरेटर …

Read More »

सिनीवाली शर्मा की कहानी ‘अधजली’

सिनीवाली शर्मा समकालीन कथा लेखन में चुपचाप अपनी पहचान पुख्ता करती जा रही हैं. उनकी यह कहानी ‘कथादेश’ में आई है. जिसकी काफी चर्चा सुनी तो सोचा कि आप लोगों से भी साझा किया जाए- मॉडरेटर ================================================== इस घर के पीछे ये नीम का पेड़ पचास सालों से खड़ा है। …

Read More »

मदर्स डे और दिनकर की ‘रश्मिरथी’

मदर्स डे के दिन रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की कृति ‘रश्मिरथी’ की याद भी आ जाती है. खासकर उसका पांचवां सर्ग, जिसमें कर्ण और कुंती का संवाद है. अवैध संतान होने की पीड़ा झेलता कर्ण और उसकी माँ कुंती, जिसने उसको कभी बेटा नहीं कहा. ‘रश्मिरथी’ के पांचवें सर्ग में वह …

Read More »

शर्मिला बोहरा जालान की कहानी ‘सिर्फ कॉफी’

शर्मिला बोहरा जालान समकालीन हिंदी कहानी में अपने अंडरटोन के साथ मौजूद हैं. कोलकाता में अलका सरावगी के बाद जो कथा पीढ़ी विकसित हुई उसमें वह सबसे सशक्त लेखिका हैं. भाषा, कहाँ सब में. फिलहाल उनकी एक छोटी सी कहानी- मॉडरेटर =============== मंजरी को कहीं भी जाना होता सबसे पहले …

Read More »

बौद्धिकता से लबरेज़ दिल्ली की एक ‘पियाली’ शाम

सईद अयूब बहुत कल्पनाशील तरीके से पिछले कई सालों से साहित्यिक आयोजन करते रहे हैं. करीब एक महीने पहले जब उन्होंने बताया कि सीपी के एक रेस्तरां में पुरुषोत्तम अग्रवाल की कहानियों पर चर्चा करनी है तो लगा कि बात कुछ अधिक ही कल्पनाशील तो नहीं हो गई? लेकिन कल …

Read More »

अनघ शर्मा की कहानी ‘शाहबलूत का पत्ता’

अनघ शर्मा सात साल से कहानियाँ लिख रहे हैं। उनकी कहानियों के नाम किसी कविता सरीखे हैं जो कहानी पढ़ने की उत्कंठा जगाते हैं। प्रस्तुत कहानी में उपशीर्षक एक सरप्राइज़ पैक हैं  जो पाठक के मन में आगे पढ़ी जाने वाली कहानी की आउटलाइन उकेर देते हैं जिनमें पाठक चितेरे …

Read More »

कश्मीर और सेना की पृष्ठभूमि में एक कहानी ‘इक तो सजन मेरे पास नहीं रे…’

गौतम राजऋषि सेना में कर्नल हैं. ‘पाल ले इक रोग नादां’ जैसे चर्चित ग़ज़ल संग्रह के शायर हैं. यह कहानी कश्मीर की पृष्ठभूमि में सेना के मानवीय चेहरे को दिखाती है. बहुत मार्मिक कहानी- मॉडरेटर ======================================= वो आज फिर से वहीं खड़ी थी। झेलम की बाँध के साथ-साथ चलती ये …

Read More »