Home / कविताएं (page 2)

कविताएं

संजय कुंदन की कुछ नई कविताएँ

संजय कुंदन मेरी पीढ़ी के ऐसे कवियों में हैं जो शोर शराबे से दूर रहकर कवि कर्म कर रहे हैं। मध्यवर्गीय जीवन के रोएँ रेशे जिस तरह से उनकी कविताओं में उघड़ते हैं उस तरह से कम कवियों में दिखाई देता है। अभी हाल में ही उनका नया कविता संग्रह …

Read More »

यतींद्र मिश्र की किताब ‘अख्तरी’ पर अंकिता जैन की टिप्पणी

यतींद्र मिश्र के संगीत विषयक लेखन-संपादन की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि वह उन लोगों को संगीत से, उसकी शास्त्रीयता से जोड़ता है जो आम तौर पर संगीत के शास्त्र को जानने समझने वाले नहीं होते हैं। उनके द्वारा संपादित किताब ‘अख्तरी’ पर युवा लेखिका अंकिता जैन की इस …

Read More »

पाब्लो का प्रेमी तथा अन्या कविताएँ: अमृत रंजन

किशोर कवि अमृत रंजन अब धीरे धीरे वयस्क हो रहा है और उसकी कविताएँ भी अपना रंग बदल रही हैं। ये उसकी सबसे नई कविताएँ हैं- प्रभात रंजन =================== पाब्लो का प्रेमी  कितना प्रेम है? बहुत ज़्यादा। कहाँ तक?  बहुत दूर। कश्मीर तक? हाँ। इटली तक?  हाँ। अमरीका तक?  हाँ। …

Read More »

अनामिका अनु की कुछ नई कविताएँ

अनामिका अनु ने बहुत कम समय में अपनी कविताओं से अच्छी पहचान बनाई है। आज उनकी कुछ नई कविताएँ- मॉडरेटर ==================== 1.लड़कियाँ जो दुर्ग होती हैं   जाति को कूट पीस कर खाती लड़कियों के गले से वर्णहीन शब्द नहीं निकलते, लेकिन निकले शब्दों में वर्ण नहीं होता है   …

Read More »

पंखुरी सिन्हा की नई कविताएँ

पंखुरी सिन्हा एक अच्छी कथाकार रही हैं। हाल के दिनों में उन्होंने कविताएँ लिखी हैं। हर पत्र पत्रिका में उनकी कविताएँ छपती रही हैं। ये कविताएँ उनके सद्य प्रकाशित कविता संग्रह ‘प्रत्यंचा’ से ली गई हैं- मॉडरेटर ====================   मेरे हर रिश्ते में   मेरे हर रिश्ते में क्यों बचपन …

Read More »

हिमांशु त्यागी की कविता ‘नहीं आज ये बातें नहीं होंगी’

हिमांशु त्यागी को मैं कॉलेज के दिनों से ही एक अच्छे संवेदनशील अभिनेता के रूप में जानता रहा हूँ। उन्होंने जेएनयू से इतिहास में शोध किया है और एक नागरिक के नाते से स्पष्टता से अपने विचार रखते हैं। आज उनकी कविता पढ़िए- मॉडरेटर ================================= नहीं अब ये बातें नहीं …

Read More »

विहाग वैभव की कविता ‘चाय पर शत्रु -सैनिक’

2018 का भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार युवा कवि विहाग वैभव को देने की घोषणा हुई है। उनकी वह पुरस्कृत कविता यहाँ प्रस्तुत है।यह निर्णय इस वर्ष के निर्णायक प्रतिष्ठित कवि अरुण कमल ने लिया है। उन्होंने कहा है कि यह कविता ‘वृत्तान्त शैली का व्यवहार करती हुई दो पात्रों के निजी …

Read More »

नायरा वहीद की कुछ कविताएँ

नायरा वहीद एक अफ्रीकी-अमेरिकी कवयित्री हैं। वहीद के ‘नमक’ और ‘नजमा’ नाम से दो काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। दोनों संग्रह नस्लवाद, महिला-विरोधी और ज़ेनोफ़ोबिया जैसी ताकतों के खिलाफ एक शांत धर्मयुद्ध करते हैं। वहीद अपनी नन्ही-नन्ही कविताओं में हमें पुकारतीं हैं, बहुत कम शब्दों में हमें बतातीं हैं …

Read More »

विनय कुमार की पुस्तक ‘यक्षिणी’ से दो कविताएँ

देश के जाने माने मनोचिकित्सक विनय कुमार को हम हिंदी वाले कवि-लेखक के रूप में  जानते हैं। राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित उनकी किताब ‘यक्षिणी’ दीदारगंज की यक्षिणी की प्रतिमा को केंद्र में रखकर लिखी गई एक लम्बी सीरीज़ है। आज उसी संकलन से दो कविताएँ- मॉडरेटर ================================== 1 जिस जगह …

Read More »

पूनम अरोड़ा की कविता सीरीज़ ‘दृश्यों में कनॉट प्लेस’

पूनम अरोड़ा समकालीन कविता का जाना पहचाना नाम है। यह उनकी नई कविता सीरीज़ है- मॉडरेटर ================================= दृश्यों में कनॉट प्लेस (कनॉट प्लेस- दृश्य १) 🔹 संडे पार्किंग कनॉट प्लेस में पार्किंग नहीं मिलती संडे को आजकल हवा भी नहीं लहराती बातों के बीच शनिवार रात के जागे युवकों की …

Read More »