Home / पुस्तक अंश

पुस्तक अंश

त्रिपुरारि कुमार शर्मा के उपन्यास ‘आखिरी इश्क़’ का एक अंश

युवा शायर-लेखक त्रिपुरारि कुमार शर्मा का उपन्यास आया है ‘आखिरी इश्क़’। पेंगुइन से प्रकाशित इस उपन्यास का एक अंश पढ़िए- =============================== क़रीब सवा सौ बरस पहले मेरा पिछला जनम स्पेन में हुआ था और मैं एक मुसव्विर था। मैंने ज़िन्दगी में बहुत-सी तस्वीरें बनाई थीं मगर “वो एक तस्वीर” बनानी …

Read More »

नरेंद्र कोहली की किताब ‘सागलकोट’ का एक अंश

नरेंद्र कोहली ने अपने जीवन काल में यही अंतिम किताब तैयार की थी। ‘सागलकोट’ में उनके विस्थापन की मार्मिक कथा है। जब भारत विभाजन के समाय उनको स्यालकोट में अपना घर छोड़ सीमा के इस पार आना पड़ा था। पेंगुइन हिंद पॉकेट बुक्स से प्रकाशित इस किताब का एक रोचक …

Read More »

‘देहरी पर ठिठकी धूप’ का एक अंश

हाल में ही युवा लेखक अमित गुप्ता का उपन्यास आया है ‘देहरी पर ठिठकी धूप’। राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित इस उपन्यास में लेखक ने बहुत साहसिक विषय पर संवेदनशील तरीके से लिखा है। आज उसका एक अंश पढ़िए- ========================= धूप निकल आई थी। मोनेस्ट्री के गेट के बाहर पिछली रात …

Read More »

मराठी के चर्चित लेखक विश्वास पाटिल के उपन्यास ‘दुड़िया’ का एक अंश

मराठी के प्रतिष्ठित और बहुचर्चित उपन्यासकार विश्वास पाटिल का नया उपन्यास दुड़िया हाल में राजकमल प्रकाशन से आया है। उपन्यास की पृष्ठभूमि छत्तीसगढ़ का नक्सल संकट है। वहां के ग्रामीणों का जीवन और उनके बीच की एक युवती दुड़िया की कहानी। ज्ञानपीठ और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित लेखक दामोदर …

Read More »

विमलेश त्रिपाठी का स्तम्भ एक गुमनाम लेखक की डायरी-3

युवा कवि विमलेश त्रिपाठी अपनी जीवन यात्रा को दर्ज कर रहे हैं। गाँव के छूटे हुए दिनों को बड़ी शिद्दत से याद कर रहे हैं। आज तीसरी किस्त पढ़िए- ==================== लगातार मनुष्यता की ओर यात्रा करने वाला मुसाफिर मुझे अपने जन्म का वर्ष और तारीख पता नहीं है। माँ से …

Read More »

मनोहर श्याम जोशी और सोप ऑपेरा के आखिरी दिन!

आज यानी 30 मार्च को हिंदी में अपने ढंग के अकेले लेखक मनोहर श्याम जोशी की पुण्यतिथि है. देखते देखते उनके गए 16 साल हो गए. आइए पढ़ते हैं उनके सोप ओपेरा लेखन के दिनों को लेकर एक छोटा सा संस्मरण- प्रभात रंजन ====================== 1995 की वह जनवरी मुझे कई कारणों से याद …

Read More »

विभा रानी के उपन्यास ‘कांदुर- कड़ाही’ का एक अंश

जानी-मानी लेखिका, अनुवादिक, रंगकर्मी, अभिनेत्री विभा रानी का उपन्यास आया है ‘कांदुर- कड़ाही’। वनिका प्रकाशन से प्रकाशित इस उपन्यास का एक अंश पढ़िए- =============================== दिल्ली में काजल कौल को राजमा की आदत पड़ गई। जगह- जगह राजमा चावल की रेहड़ी। लाजवंती देवी का बनाया राजमा उसे पागल कर देता। बाजार …

Read More »

मणिपुर की राजकुमारी और अंग्रेज़ बड़े साहिब की कहानी 

युवा लेखिका प्रदीपिका सारस्वत ने  ‘द प्रिंसेस एंड द पोलिटिकल एजेंट’ पर लिखा है। कुछ बातें उसी किताब से पढ़िए- =================================== कई बार किताब को पढ़कर खत्म करते वक्त दिल इतना भारी हो जाता है कि समझ नहीं पड़ता अब क्या करूँ. इन दिनों लगातार कई किताबें पढ़ीं, पर मणिपुरी …

Read More »

सुरेंद्र मोहन पाठक के उपन्यास ‘गैंग ऑफ़ फोर’ का एक अंश

आज प्रसिद्ध लेखक सुरेन्द्र मोहन पाठक का जन्मदिन है। अभी हाल में ही पेंगुइन से उनका नया उपन्यास प्रकाशित हुआ है ‘गैंग ऑफ़ फ़ोर’। आज इसी उपन्यास का एक अंश पढ़ते हैं और उनको शुभकामनाएँ देते हैं- ====================== रात नौ बजे विमल काला घोड़ा के इलाके में मौजूद साउथ एण्ड …

Read More »

पल्लवी प्रसाद के उपन्यास ‘सूर्यावर्त’ का एक अंश

आज पढ़िए लेखिका पल्लवी प्रसाद के नए उपन्यास ‘सूर्यावर्त’ का अंश- ================================   बासवप्पा ईश्वरप्पा राव रसूखदार आदमी हैं। उनका रसूख पीढ़ियों पुराना है । बासवप्पा के पिता ईश्वरप्पा ने अंग्रेजी राज और उसके साथ ही अपनी जागीर के जाने का मातम मनाने में, अपना समय व्यर्थ नहीं किया। बल्कि …

Read More »