Home / पुस्तक अंश (page 5)

पुस्तक अंश

…लेकिन ऑपरेशन ब्लूस्टार भिंडराँवाले की हत्या की सीमा से बहुत दूर आगे तक चला गया था

  आज से 33 वर्ष पहले 5 जून, 1984 भारतीय राजनैतिक इतिहास के काले दिनों में से एक में शुमार हुआ. इसी दिन  ‘ऑपरेशन ब्लूस्टार’ को अंजाम दिया गया था. कॉंग्रेस के ख़ासमख़ास सरदार खुशवंत सिंह भी श्रीमती गाँधी के इस फ़ैसले से बहुद दुःख और रोष में थे. स्वयम् …

Read More »

देवदत्त पट्टनायक की सीता और उनका तीसरा निर्णय

देवदत्त पट्टनायक की पुस्तक सीता के पांच निर्णय का एक अंश. किताब राजपाल एंड सन्ज प्रकाशन से आई है. अंग्रेजी से इसका अनुवाद मैंने किया है- प्रभात रंजन =================================== समुद्र के ऊपर बहुत लम्बी यात्रा के बाद सीता ने खुद को लंका द्वीप में पाया, जहाँ उन्होंने खुद को रावण …

Read More »

मैं भूखा हूँ, रोज़ादार नहीं हूँ

रमज़ान का महीना शुरू हो गया है। मुझे याद आता है रहमान अब्बास का उर्दू नॉवेल (ख़ुदा के साए में आँख मिचोली), जिसमें एक किरदार कहता है- “मैं भूखा हूँ रोज़ादार नहीं हूँ।” बता दूँ कि 2011 में छपे, रहमान के इसी नॉवेल पर महाराष्ट्र साहित्य अकादमी का बेस्ट नॉवेल …

Read More »

नेहरु जी जनतंत्र के सबसे बड़े प्रकाश स्तम्भ थे

आज भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की पुण्यतिथि है. आज के ही दिन 1964 में उनका देहांत हुआ था. लेखकों-कलाकारों से जैसा राग नेहरु जी का था वैसा किसी और प्रधानमंत्री का नहीं हुआ. हिंदी के लेखकों को भी सबसे अधिक मान-सम्मान उनके ही काल में मिला. राष्ट्रकवि रामधारी …

Read More »

जब आप प्रेम में होते हैं तो अनावश्यक रूप से सकारात्मक हो जाया करते हैं

जानकी पुल हो सकता है किसी स्थापित लेखक की रचना से परिचय करवाने से चूक जाए लेकिन उसकी पूरी कोशिश होती है कि किसी नए लेखक की उल्लेखनीय कृति उसकी नजर से छूट न जाए. हाल में एक उपन्यास नजर में आया ‘रूममेट्स‘. सीत मिश्रा का यह उपन्यास कई मायनों …

Read More »

मंटो! अरे वह अश्लील लेखक, वह पोर्नोग्राफर!

कुछ साल पहले रबिशंकर बल के उपन्यास ‘दोजख्ननामा’ का हिंदी अनुवाद आया था. उपन्यास में मंटो और ग़ालिब अपनी अपनी कब्रों से एक दूसरे को अपने अपने जीवन की दास्तान सुना रहे हैं. आज मंटो के जन्मदिन के मौके उसी उपन्यास से मंटो का एक बयान- मॉडरेटर ======================= मिर्ज़ा साहब, …

Read More »

भारत पाकिस्तान कभी न ख़त्म होने वाली प्रतिद्वंद्विता का नाम है

जगरनॉट बुक्स से हुसैन हक्कानी की किताब का हिंदी अनुवाद आया है- ‘भारत vs. पाकिस्तान: हम क्यों दोस्त नहीं हो सकते?’ पाकिस्तान के चार प्रधानमंत्रियों के सलाहकार रह चुके हुसैन हक्कानी भारत-पाकिस्तान के रिश्तों का बहुत बारीक विश्लेषण करते हैं. सहमत-असहमत होना अपनी जगह है लेकिन उनको पढना दिलचस्प होता …

Read More »

सीता जयंती पर सीता को याद करते हुए

आज सीता जयंती है. मेरे शहर सीतामढ़ी में सीता जयंती का आयोजन धूमधाम से किया जाता है. मैं यहाँ देवदत्त पट्टनायक की किताब ‘सीता के पांच निर्णय’ पढ़ रहा हूँ. आप भी उसका अंतिम अंश पढ़िए जिसमें सीता के जीवन की अंतिम कहानी दी गई है- प्रभात रंजन =================== उस …

Read More »

‘छोटी-छोटी गौवें, छोटे-छोटे ग्वाल, छोटे से हमरे मदन गोपाल’

राकेश तिवारी का उपन्यास आया है ‘फसक‘. कुमाऊँनी में फसक का मतलब गप्प होता है. हजारी प्रसाद द्विवेदी गल्प यानी उपन्यास को गप्प मानते थे. उपन्यास का एक रोचक अंश. प्रसंग गौ-कथा सुनने का है. यह उपन्यास वाणी प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है- मॉडरेटर ================================= नन्नू महराज के आश्रम में …

Read More »

कृष्णा सोबती के उपन्यास ‘गुजरात पाकिस्तना से गुजरात हिन्दुस्तान’ से एक अंश

हिंदी की वरिष्ठ लेखिका कृष्णा सोबती का आत्मकथात्मक उपन्यास आया है ‘गुजरात पाकिस्तान से गुजरात हिन्दुस्तान’. पुस्तक का प्रकाशन राजकमल प्रकाशन से हुआ है. उसका एक अंश- मॉडरेटर =========================================== नए कमरे में उसने कई करवटें बदलीं। नई जगह का उनींदा। सिरोही राज के गैस्टहाउस में न घर अपना और न …

Read More »