Home / रपट (page 6)

रपट

अज्ञेय की पहली जीवनी अंग्रेजी में लिखी जा रही है

कल एक कार्यक्रम में बोलते हुए अंग्रेजी के विद्वान् लेखक रामचंद्र गुहा ने यह बताया कि अज्ञेय की जीवनी लिखी जा रही है. प्रसिद्ध युवा पत्रकार अक्षय मुकुल हिंदी के विराट लेखक अज्ञेय की जीवनी अंग्रेजी में लिख रहे हैं. अक्षय ने ‘गीता प्रेस एंड मेकिंग ऑफ़ हिन्दू इण्डिया’ पुस्तक …

Read More »

सर्वे में सामने आया सोशल मीडिया पर हिंदी अंग्रेजी से आगे

अभी स्टोरीनोमिक्स नामक एक कंसल्टेंसी फर्म का सर्वेक्षण सामने आया है जिसमें आंकड़ों के आधार पर यह बताया गया है कि इंटरनेट की बढती पहुँच और राष्ट्रवाद के उभार के कारण सोशल मीडिया पर हिंदी के उपयोगकर्ता बढे हैं, हिंदी की ख़बरें अधिक साझा होने लगी हैं. अगर यही ट्रेंड …

Read More »

साहिर के नाम से गीत लिखने वाले जाँ निसार अख़्तर का आज जन्मदिन है

जाँनिसार अख्तर की तीन जन्म तारीखों का उल्लेख आता है- 8 फ़रवरी, 14 फ़रवरी और तीसरी तारीख आज की है यानी 18 फरवरी. जाँनिसार अख्तर का व्यक्तित्व बहुत मिथकीय था. उनके बारे में मजरूह सुल्तानपुरी ने बार-बार कहा था कि उन्होंने साहिर लुधियानवी के नाम से फिल्मों में गीत लिखे …

Read More »

नाटक क्या सिनेमा का फाटक होता है?

  आज ‘प्रभात खबर’ अखबार में भारंगम के बहाने मैंने नाटक-नाटककारों पर लिखा है. आप यहाँ भी पढ़ सकते हैं- प्रभात रंजन  ================ ‘अपने यहाँ, विशेष रूप से हिन्दी में, उस तरह का संगठित रंगमंच है ही नहीं जिसमें नाटककार के एक निश्चित अवयव होने की कल्पना की जा सके’- …

Read More »

ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी की जीवनी प्रकाशित होने वाली है

ऋषि कपूर और करण जौहर की आत्मकथा के बाद अब बारी है ड्रीम गर्ल कही जाने वाली हेमा मालिनी की जीवनी की. यह किताब स्टारडस्ट के चीफ एडिटर राम कमल ने लिखी है. इस जीवनी का प्रकाशन इस साल अक्टूबर में हार्पर कॉलिन्स प्रकाशन से होने वाला है. उसी महीने …

Read More »

पटना पुस्तक मेला की पॉलिटिक्स क्या है?

पटना पुस्तक मेला को किताबों की दुनिया का कुम्भ कहा जा सकता है. बिहार में पुस्तक संकृति को बचाए बनाये रखने में इसका बहुत योगदान रहा है. इसी कारण इससे अपेक्षाएं भी बहुत होती हैं. कल 23 वें पुस्तक मेला का समापन हो गया. एक संतुलित रपट पढ़िए सुशील कुमार …

Read More »

‘मुक्तांगन’ में ‘राम’ से शाम तक

वसंत के मौसम के लिहाज से वह एक ठंढा दिन था लेकिन ‘मुक्तांगन’ में बहसों, चर्चाओं, कहानियों, शायरी और सबसे बढ़कर वहां मौजूद लोगों की आत्मीयता ने 29 जनवरी के उस दिन को यादगार बना दिया. सुबह शुरू हुई राम के नाम से और शाम होते होते दो ऐसे शायरों …

Read More »