Home / ब्लॉग (page 32)

ब्लॉग

आलोचकों की लीला आलोचक जानें- मृणाल पाण्डे

वरिष्ठ लेखिका, लब्धप्रतिष्ठ पत्रकार मृणाल पाण्डे से बड़े दिनों बाद एक लम्बी बातचीत पढ़ी. अंजुम शर्मा के साथ इस बातचीत में मृणाल जी ने बड़े बेबाक तरीके से जवाब दिए हैं. ‘नया ज्ञानोदय’ में प्रकाशित यह बातचीत आपके लिए- मॉडरेटर  ============================= मृणाल जी जिस दौर में आपने लिखना शुरू किया …

Read More »

क्या कैलाश वाजपेयी हिंदी के लिए ‘आउट ऑफ़ कोर्स’ कवि थे?

जब से कैलाश वाजपेयी के निधन के बारे में सुना तब से उनके बारे में लिखने की सोच रहा था. लेकिन क्या लिखूं? यह बड़ा सवाल था. हिंदी का विद्यार्थी रहा हूँ. यही पढता आया हूँ कि ‘प्रतिबद्ध’ और ‘कलाबद्ध’ ये दो बड़े कैनन हैं हिंदी कविता के विकास को …

Read More »

इत्ती-इत्ती किताबें किसके लिए छपती हैं?

हिंदी में किताबों की दुनिया का विस्तार हो रहा है. यह बड़ी सुखद बात है. लेकिन कंटेंट को लेकर घालमेल बढ़ता जा रहा है यह चिंता की बात है. शिक्षाविद कौशलेन्द्र प्रपन्न का लेख इन्हीं चिंताओं को लेकर है- मॉडरेटर  =================================================================== पुस्तकें होती ही हैं पाठकों के लिए। और लेखक …

Read More »

मनोहर श्याम जोशी और सोप ऑपेरा के आखिरी दिन!

कल यानी 30 मार्च को हिंदी में अपने ढंग के अकेले लेखक मनोहर श्याम जोशी की पुण्यतिथि है. देखते देखते उनके गए 9 साल हो गए. मैं उनके जीवन से जुड़े जाने अनजाने पहलुओं को लेकर एक किताब लिख रहा हूँ ‘जोशी जी की मनोहर कहानी’. इस अवसर पर उनकी …

Read More »

कमल जीत चौधरी की कविताएं

जम्मू-कश्मीर के कवि कमल जीत चौधरी की आवाज हिंदी कविता में सबसे जुदा है. वे कविताओं में उन कोमल भावनाओं को बचाना चाहते हैं जो वास्तविकता में वायरल होती जा रही है. उनकी कविताएं हिंदी की उपलब्धि की तरह हैं- मॉडरेटर  ================================  तिनके   तलवार टूट  तुम्हारे हाथ से छूट  चुकी …

Read More »

जेंटलमैन लेखक थे विजय मोहन सिंह

विजय मोहन सिंह नहीं रहे. यह सुनते ही सबसे पहले मन हिन्दू कॉलेज होस्टल के दिनों में वापस चला गया. मेरा दोस्त आनंद विजय उनका नाम लेता था, कहता था बड़े लेखक हैं. उसके पिता के साथ उन्होंने कभी महाराजा कॉलेज, आरा में अध्यापन किया था. विजय मोहन जी को …

Read More »

हिंदी सिनेमा की नई ‘क्वीन’

कल घोषित सिनेमा के राष्ट्रीय पुरस्कारों में ‘क्वीन’ फिल्म के लिए कंगना रानावत को सर्वश्रेष्ठ नायिका का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है. प्रियदर्शन का यह लेख ‘क्वीन’ के बहाने सिनेमा की बदलती नायिकाओं को लेकर है. लेख पुराना है लेकिन आज एक बार फिर प्रासंगिक लगने लगा है. आप भी पढ़कर …

Read More »

वक्त लिखता रहा चेहरे पर हर पल का हिसाब

लेखिका अनु सिंह चौधरी की की दूसरी किताब ‘मम्मा की डायरी’ हिंदी में अपने ढंग की पहली किताब है. रिश्तों को, जीवन को, समकालीन जद्दोजहद को समझने  के लिहाज से एक मुकम्मल किताब. हिन्दयुग्म प्रकाशन से शीघ्र प्रकाश्य इस किताब की प्रीबुकिंग चालू है. फिलहाल इसका एक छोटा सा अंश, …

Read More »

‘हमारे प्यार से इस शहर को कभी जुदा मत करना’

मेरे जानते यह रवीश कुमार की लिखी किताब ‘इश्क में शहर होना’ की सबसे अच्छी समीक्षा है. जब कोई विद्वान् किसी कृति को देखता है तो उसका पाठ उसे कलाकृति में बदल देता है. शिक्षाविद मनोज कुमार ने यही किया है. जरूर पढ़िए और अपनी राय दीजिए- मॉडरेटर  =================================================== इश्क …

Read More »

हास्य रस और विश्व सिनेमा

प्रचण्ड प्रवीर बहुत दिनों से रस सिद्धांत के आधार पर विश्व सिनेमा का अध्ययन कर रहे हैं. इस बार हास्य रस के आधार पर उन्होंने विश्व सिनेमा पर एक दिलचस्प लेख लिखा है- मॉडरेटर  =========================================================== इस लेखमाला में अब तक आपने पढ़ा: 1. हिन्दी फिल्मों का सौंदर्यशास्त्र – https://www.jankipul.com/2014/06/blog-post_7.html 2. …

Read More »