Home / ब्लॉग (page 60)

ब्लॉग

नहीं बनी कोई कविता आज सुबह की यंत्रणा के बाद

आज पंखुरी सिन्हा की कविताएं। पंखुरी की पहचान एक कथाकार की रही है। लेकिन हाल के वर्षों में उन्होने कविता को अभिव्यक्ति के माध्यम के रूप में चुना है। उनकी कुछ चुनिन्दा कविताएं उनके सार्थक वक्तव्य के साथ- जानकी पुल ============================= “लीडर कलक्टर साथ ही खाते पराठा गोश्त है मैं हाई …

Read More »

चौरी चौरा का विद्रोह और स्वाधीनता आंदोलन

चौरी चौरा का महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन के संदर्भ में बहुत महत्व है। इस घटना के आधार पर लोगों की स्मृतियों के आधार पर प्रसिद्ध इतिहासकर शाहिद अमीन ने ‘event metaphor memory’ नामक पुस्तक लिखी थी। अभी हाल में ही हिन्दी लेखक सुभाष चन्द्र कुशवाहा ने किस्से-कहानियों के माध्यम …

Read More »

केदारनाथ सिंह हमारी भाषा के मीर तकी मीर हैं

80 साल की उम्र में केदारनाथ सिंह का आठवाँ कविता संग्रह आया है- ‘सृष्टि पर पहरा’। अपनी जमीन पर इतनी दूर तक इतनी मजबूती के साथ खड़ा शायद ही कोई दूसरा कवि दिखाई देता हो। प्रियदर्शन ने इन कविताओं के बहाने केदार जी की कविताई-जमीन पर बढ़िया लिखा है, अपने …

Read More »

एक चिट्ठी जगजीत सिंह के नाम

आज महान गजल गायक जगजीत सिंह का जन्मदिन है। वे इस दुनिया में भले न हों लेकिन अपनी सोज़ भरी आवाज में रची-बसी एक से एक गजलें छोड़ गए हैं। आज उनका जन्मदिन है और उनको, उनकी गायकी को याद करते हुए उनके नाम यह चिट्ठी लिखी है सैयद एस. …

Read More »

मूवी मैन आफ बिहार आरएन दास

आरएन दास को मूवी मैन ऑफ बिहार के नाम से जाना जाता है। उनसे बातचीत करके यह लेख तैयार किया है सैयद एस. तौहीद ने- जानकी पुल।  ======================= मूवी मैन आफ बिहार के नाम से मकबूल हुए आरएन दास से मिलना सिनेमा की संस्था से मिलना है।  श्री दास मानते …

Read More »

आर्थर रैम्बो की कविताएं हिन्दी में

फ्रेंच कवि आर्थर रैम्बो ने महज 37 सालों की उम्र पाई, 20 साल की उम्र के बाद उसने लिखना छोड़ दिया। कहते हैं उसकी सारी कवितायें किशोर काल की लिखी गई हैं। लेकिन इस कवि ने 20 वीं शताब्दी की आधुनिकता को गहरे प्रभावित किया। इस मिथकीय व्यक्तित्व वाले कवि …

Read More »

एक अदभुत प्यार की कहानी: चार्ली चैपलिन की फिल्म ‘सिटी लाइट्स’

चार्ली चैपलिन की फिल्म ‘सिटी लाइट्स’ पर एक सुंदर लेख लिखा है सैयद एस तौहीद ने- जानकी पुल। ==============================================================  कवित्वमय फिल्मकार चैपलिन की फिल्मों का संग्रह बनाने पर आप गंभीरता से विचार करें तो उसमें ‘सिटी लाईट्स’ का होना अनिवार्य होगा। उनकी फनकारी के ज्यादातर पहलुओं को एक जगह देखने का …

Read More »

या पलासन कौन ने आगि लगाई

आज वसंतपंचमी है तो याद आया विद्यानिवास मिश्र का यह लेख ‘ऋतुराज का आगमन’. इसलिए भी याद आया क्योंकि इस तरह से लिखने की परंपरा का अब अंत हो रहा है। इसी लेख के साथ सभी को जानकी पुल की तरफ से वसंतपंचमी की शुभकामनायें।  ==========================================   लोगों ने सुना, …

Read More »

आलोचना का अर्थ चरित्र हनन नहीं होता

तहलका पत्रिका के संस्कृति विशेषांक में शालिनी माथुर का लेख छपा था ‘मर्दों के खेला में औरत का नाच‘ , जिसमें कुछ लेखिकाओं की कहानियों को उदाहरण के तौर पर इस रूप में पेश किया गया था जिसे आपत्तिजनक कहा जा सकता है। मेरा निजी तौर पर यह मानना है कि नैतिकता …

Read More »

आनंद नगर में कुछ घंटे आनंद के

युवा पत्रकार-लेखक पुष्यमित्र ने हाल में ही कोलकाता की यात्रा की और उस यात्रा का एक रोचक वृत्तान्त लिखा। आपके लिए- जानकी पुल। ======================= सुबह पांच बजे जब मेरी बोगी में चा खाबे.. चा खाबे की आवाज गूंजने लगी तो मेरी नींद खुल गयी. मेरा मन उत्साह से भरा था. …

Read More »