Home / Featured (page 51)

Featured

Featured posts

दो मूर्धन्य चित्रकारों का पत्राचार

दो मूर्धन्य चित्रकारों सैयद हैदर रज़ा और किशन खन्ना के बीच पत्र व्यवहार की एक बड़ी अच्छी पुस्तक है ‘माई डियर’, जिसका अनुवाद मैंने दो साल पहले किया था। रज़ा न्यास के सम्पादक जी को वह अनुवाद बहुत पसंद भी आया जिसकी वे बार बार तस्कीद करते रहे लेकिन पुस्तक …

Read More »

कैसे रचा गया होगा यूँ पत्थरों में स्वर्णिम इतिहास

भारती दीक्षित चित्रकार हैं, कहानियों का यूट्यूब चैनल चलाती हैं और बहुत अच्छा लिखती हैं। जानकी पुल पर हम उनके यात्रा वृत्तांत पहले भी पढ़ चुके हैं। इस बार एलोरा यात्रा का वर्णन पढ़िए- मॉडरेटर ====================== जब  अजंता से चले तब आँखों में चमक थी,मन और तन दोनों था ऊर्जा  …

Read More »

मिखाइल बुल्गाकव द्वारा लिखित उपन्यास ‘मास्टर और मार्गारीटा’ का एक अंश

मिखाइल बुल्गाकव के उपन्यास ‘मास्टर एंड मार्गरीटा’ सोवियत संघ में स्टालिन काल में लिखा गया था और विश्व के कुछ प्रमुख उपन्यासों में इसकी गणना की जाती है। आज इसके लेखक मिखाइल बुल्गाकव की जयंती है। इस मौक़े पर उनके इस प्रसिद्ध उपन्यास का अंश पढ़िए जिसका अनुवाद किया है आ. …

Read More »

प्रज्ञा पांडे की कहानी ‘सती का चौरा’

प्रज्ञा पांडे की कहानी ‘सती का चौरा’ की आज फ़ेसबुक पर चर्चा देखी तो सोचा पढ़ाया जाए। काफ़ी बहस की माँग करती कहानी है- मॉडरेटर सती  का चौरा                नई नई आगता के वे हाथ अपनी कुशल गति में कुछ गढ़ रहे थे.नीले आसमान पर उड़ते परिंदे …

Read More »

रूसी भाषा के लेखक सिर्गेइ नोसव की कहानी ‘अच्छी चीज़’

 सिर्गेइ नोसव की इस कहानी का अनुवाद किया है रूसी भाषा की विदुषी प्रोफ़ेसर और अनुवादिक आ. चारुमति रामदास  ने- मॉडरेटर =============== अच्छी चीज़ लेखक: सिर्गेइ नोसव अनुवाद : आ. चारुमति रामदास   “ ये बड़ी देर चलेगा,” पेत्या ने कहा. “ऐह, उनका ट्रैफ़िक सिग्नल भी काम नहीं कर रहा …

Read More »

राष्ट्रवाद और सामंतवाद के मध्य पिसता किसान और ‘अवध का किसान विद्रोह’

राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित सुभाष चंद्र कुशवाहा की किताब ‘अवध का किसान विद्रोह’ पर यह टिप्पणी प्रवीण झा ने लिखी है। प्रवीण झा की पुस्तक ‘कूली लाइंस’ आजकल ख़ासी चर्चा में है- मॉडरेटर ======================= राष्ट्रवाद और सामंतवाद के मध्य पिसता किसान। सुभाष चंद्र कुशवाहा जी की पुस्तक ‘अवध का किसान …

Read More »

टैगोर: ‘वह कवि जब तक जिया, उसने प्रेम किया’

आज रबीन्द्रनाथ टैगोर की जयंती पर सुपरिचित कवयित्री, प्रतिभाशाली लेखिका रश्मि भारद्वाज का लेख पढ़िए। पहले यह लेख ‘दैनिक भास्कर’ में प्रकाशित हो चुका है। वहाँ से साभार पढ़िए- मॉडरेटर =====================================  ‘मैंने अपने जीवन में चाहे और जो कुछ भी किया हो, एक लंबी ज़िंदगी जी लेने के बाद आज …

Read More »

‘ऐवेंजर्स एंडगेम’ एक पल हँसाती है दूसरे पल भावुक कर जाती है

फ़िल्म ‘ऐवेंजर्स एंडगेम’ पर फ़िल्म समीक्षक सैयद एस॰ तौहीद की टिप्पणी पढ़िए- मॉडरेटर ============================================= लंबे इंतजार के बाद भारत में ‘एवेंजर्स इंडगेम’ रिलीज हो चुकी है । हिंदी अंग्रेजी के अलावा तमिल और तेलुगू में भी रिलीज हुई है। फिल्म का इंतजार इसलिए भी था क्योंकि ये एवेंजर्स सीरिज की …

Read More »

आप लेखक बनना चाहते हैं तो इस पर नज़र रखें

दिल्ली में नेहरु प्लेस के पास जर्मन बुक ऑफ़िस है। जर्मनी और भारतीय पुस्तक व्यवसाय से जुड़े लोगों, संस्थाओं के साथ मिलकर पुस्तकों के विस्तार के लिए काम करती है। इसका एक बहुत अच्छा कार्यक्रम है jumpstart। जिसके तहत यह संस्था बच्चों और वयस्कों के लिए किताब तैयार करवाने की …

Read More »

नमिता गोखले के उपन्यास ‘राग पहाड़ी’ का एक अंश

कुमाऊँ अंचल से मुझे प्यार है और यह जगाया है कुछ साहित्यिक कृतियों ने। उन कृतियों में हिंदी की तमाम कृतियों के अलावा अंग्रेज़ी के कुछ उपन्यासों का योगदान भी रहा है। जिनमें एक नाम नमिता गोखले के उपन्यास ‘दि हिमालयन लव स्टोरी’ का भी है। मुझे याद है मनोहर …

Read More »