Home / Featured (page 79)

Featured

Featured posts

मैत्रेयी जी मैत्रेयी जी क्या हुआ आपको?

मैत्रयी पुष्पा की किताब ‘वह सफ़र था कि मुकाम था’ पर चल रहे विवाद पर युवा लेखिका दिव्या विजय की टिप्पणी- मॉडरेटर ======= ‘वह सफ़र था कि मुकाम था’ इस पर मैत्रेयी पुष्पा  भले ही कन्फ़्यूज़्ड हों पर आस-पास चल रहे मुबाहिसे में लगभग सब एक मुकाम पर पहुँच चुके …

Read More »

मैत्रयी जी बड़ी लेखिका हैं, उनको सावधानी से लिखना चाहिए था

मैत्रेयी पुष्पा की किताब ‘वह सफ़र था कि मुकाम था’ पर चल रहे विवाद पर जेएनयू में कोरियन विभाग में शोधा छात्रा रोहिणी कुमारी की टिप्पणी- ============ हिंदी जगत को ठीक से नहीं जानती हूँ लेकिन रूचि होने की वजह से पढ़ने की प्रक्रिया अनवरत चल रही है, जब भी …

Read More »

विजय विद्रोही का उपन्यास ‘करेला इश्क का’

मुझे जब एक मित्र ने विजय विद्रोही के उपन्यास ‘करेला इश्क का’ पढने का आग्रह किया तो मुझे लगा कि वह पत्रकार है इसलिए एक पत्रकार की किताब पढने के लिए कह रही है. आजकल टीवी से जुड़े पत्रकारों की किताबों की बाढ़ आ गई है. कई किताबें तो बहुत …

Read More »

धर्म विरुद्ध आचरण पर किताब बांटने की सजा

चंडीगढ़ में एक खबर की तरफ ध्यान गया. खबर मोगा जिले के बहोना गाँव की थी. वहां के सरपंच को सिख संगत की तरफ से तनखैया यानी धर्म विरुद्ध आचरण का दोषी ठहराया गया. कारण था कि उसने अपनी दाढ़ी डी सी के ऑफिस में जाकर कटवा ली थी. क्योंकि …

Read More »

गाँधी जी ने जातिवाद का अंत करने के लिए कुछ भी नहीं किया?

गाँधी जी को चतुरत बनिया कहे जाने के बाद से बहस चल पड़ी है. अनुवादक-लेखक मनोहर नोतानी ने अपनी इस टिप्पणी ने एक सवाल तो अच्छा उठाया है कि गांधी जी जाति व्यवस्था की चूलें नहीं हिला पाए- मॉडरेटर =============================================== गांधी बनिये तो थे ही – आधिकारिक रूप से वे …

Read More »

हमारे दिनों का अनुसंधान है इरा टाक की ‘रात पहेली’

बीते विश्व पुस्तक मेले में इरा टाक का कहानी संग्रह आया था ‘रात पहेली‘, संग्रह की कहानियों पर बहुत विस्तृत लेख लिखा है लेखक-पत्रकार प्रकाश के रे ने- मॉडरेटर ======================= प्रेम, प्रेम संबंध और स्त्री-पुरुष के समीकरणों को टटोलना साहित्य का आदिम स्वभाव है. नवोदित रचनाकार भी इस प्रभाव से …

Read More »

शहरयार कलाम ऐसे पढ़ते जैसे कोई धीमी गति का समाचार पढता हो

आज उर्दू के प्रख्यात शायर शहरयार साहब की जन्मतिथि है. जनाब रवि कुमार का संस्मरणात्मक लेख उनकी शख्सियत और शायरी पर पेश है- मॉडरेटर ===================  [ उर्दू के प्रसिद्ध शायर प्रो॰ अख़लाक मोहम्मद खाँ ‘शहरयार’ के जन्म दिन पर विशेष संस्मरण ] बात शायद अप्रैल 1982 की है,  हिन्दी फिल्म …

Read More »

अरुंधति रॉय के नए उपन्यास में सब कुछ है और कुछ भी नहीं

  अरुंधति रॉय के बहुचर्चित उपन्यास ‘द मिनिस्ट्री ऑफ़ अटमोस्ट हैप्पीनेस’ पर यशवंत कोठारी की टिप्पणी- मॉडरेटर ======================================================= अरुंधती रॉय  का दूसरा उपन्यास –मिनिस्ट्री ऑफ़ अटमोस्ट हैप्पीनेस(चरम प्रसन्नता का मंत्रालय ) आया है. इस से पहले वह ‘मामूली चीजों का देवता’ लिख कर बुकर पुरस्कार जीत चुकी हैं- गॉड ऑफ़ …

Read More »

भारतीय उप-महाद्वीप की भाषाओं की चैपियंस ट्रॉफी

चैम्पियंस ट्रॉफी जो भी जीते इतना तय है कि अंग्रेजियत हारेगी. इंग्लैण्ड तो पाकिस्तान से पहले ही हार चुकी है. यह पहली बार है जब आईसीसी के किसी टूर्नामेंट में तीन ऐसे देश सेमी फाइनल में पहुंचे हैं जिनका डीएनए एक रहा है. जिसे मजाक में वीरेंदर सहवाग ने दादा, …

Read More »

जयंती रंगनाथन और ‘बॉम्बे मेरी जान’

वरिष्ठ पत्रकार जयंती रंगनाथन की किताब आई है ‘बॉम्बे मेरी जान’. इस किताब पर कादम्बिनी पत्रिका के पत्रकार अरुण कुमार जेमिनी की यह टिप्पणी- मॉडरेटर ===================== मैं लगभग छह साल पहले इनसे पहली बार मिलाथा। वह भी तब जब इन्होंने ‘हिंदुस्तान’ ज्वाइन किया। कह नहीं सकता कि अगर ये ‘हिंदुस्तान’ …

Read More »