Home / Featured (page 79)

Featured

Featured posts

लता न सिर्फ हमारा अभिमान हैं बल्कि हमारी जीवनीशक्ति भी हैं

आज लता मंगेशकर का जन्मदिन है. एक अच्छा लेख युवा लेखक विमलेन्दु ने लिखा है- मॉडरेटर ================================================== अपने करोड़ों प्रशंसकों के दिलों पर राज करते हुए, संकोची, भाग्यवादी, ईश्वरपरायण, पित़ृहीन, दृढ़ संकल्पी लता मंगेशकर 28 सितंबर को अठासी बरस की हो जाएंगी. लता का जीवन यह बताता है कि भारत …

Read More »

अल्लाह करे मीर का जन्नत में मकाँ हो

आज यश चोपड़ा का जन्मदिन है. यश चोपड़ा जिसने कई पीढ़ियों को ग्रेसफुली रोमांस करने के अंदाज सिखाये. आज जब से प्रकाश के. रे का यह लेख पढ़ा आप लोगों को पढवाना चाहता था. देर हुई लेकिन सोने से पहले पढ़ लीजियेगा. अच्छा लगेगा- मॉडरेटर ==============   देश की आज़ादी …

Read More »

रहस्य-रोमांच राजपरिवार और राजनीति का ‘शाही शिकार’

जगरनॉट बुक्स ने मोबाइल या लैपटॉप पर पढने के लिए अपने ऐप के माध्यम से हिंदी में कई नई तरह की किताबें दी हैं, नए नए प्रयोग किये हैं. अभिषेक सिंघल का उपन्यास ‘शाही शिकार’ उसी की एक कड़ी है. इस उपन्यास की समीक्षा वरिष्ठ लेखक दुर्गा प्रसाद अग्रवाल ने …

Read More »

युवा शायर #22 मस्तो की ग़ज़लें

युवा शायर सीरीज में आज पेश है मस्तो की ग़ज़लें – त्रिपुरारि ====================================================== ग़ज़ल-1 जोडऩे में रात दिन खुद को लगा रहता हूँ मैं कौन ये कहता है की यक्सर  बना रहता हूँ मैं आईनों के शोर से हरदम घिरा रहता हूँ मैं देख के फिर अक्स अपना क्यों डरा …

Read More »

A Soofi in the Brothel

  Writer, journalist Prakash K. Ray write up on Mayank Austen Soofi’s book  Nobody Can Love you More : Life in Delhi’s Red Light District , published by penguin. ==============================================   As per the various estimates, there are three to 15 million prostitutes in our country. Some live and operate …

Read More »

गौहर रज़ा की ‘खामोशी’ गौहर रज़ा की नज्में

गौहर रज़ा एक संजीदा वैज्ञानिक हैं, शायर हैं. हिन्दुस्तान की धर्मनिरपेक्ष परम्परा की एक जीती जागती मिसाल. अभी हाल में राजपाल एंड संज से उनके नज्मों-गजलों का संकलन आया है ‘खामोशी’. ऐसे समय में जब विविधता की आवाजों को खामोश किया जा रहा है. इस संकलन की नज्मों का अपना …

Read More »

रजनी मोरवाल की कहानी ‘नमकसार’

हाल के वर्षों में रजनी मोरवाल की कहानियों ने सबका ध्यान खींचा है. आज उनकी एक कहानी जो हाल में किसी ‘परिकथा’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुई थी- मॉडरेटर =============================       सूर्यास्त जिस वक़्त क्षितिज में गुम होने की तैयारी में होता है ठीक उसी वक़्त मीलों तक पसरा नमकीन …

Read More »

क्या महात्मा गांधी की जन्मतिथि 13 सितम्बर है?

कटिहार में प्राध्यापक सदानंद पॉल का शोध देखिये क्या कहता है- मॉडरेटर ==================================== आज से 13 साल पहले मैंने स्व0 देवकीनन्दन सिंह की पुस्तक ‘ज्योतिष- रत्नाकर’ (पृष्ठ संख्या- 979 से 985 तक/ पुनर्मुद्रण वर्ष- 1999/ प्रकाशक- मोतीलाल बनारसीदास) पढ़ा, तो पाया महात्मा गाँधी की जन्मतिथि विक्रमी संवत् में ‘आश्विन बदी …

Read More »

वनडे गेम बनकर रह गया है ‘हिंदी दिवस’ 

आज हिंदी दिवस पर सदानंद पॉल का आलेख. सदानंद जी कटिहार के पास एक कस्बे में हिंदी पढ़ाते हैं और आरटीआई एक्टिविस्ट हैं. बहुत मौलिक बातें लिखते हैं- मॉडरेटर _________________________________________________________ 1949 के 14 सितम्बर को संविधान सभा ने हिंदी को राजभाषा के रूप में अपनाया, इसलिए इस तिथि को ‘हिंदी …

Read More »

स्थानीय भाषाओं का अस्मिताबोध और हिंदी

कल हिंदी दिवस है. आह हिंदी वाह हिंदी के बीच एक लेख भाषा-बोली के अंतर्संबंध पर वरिष्ठ पत्रकार, स्तंभकार उमेश चतुर्वेदी ने लिखा है. पढने लायक लेख है- मॉडरेटर ======================== भारत की क्षेत्रीय भाषाएं इन दिनों अस्मिता को प्रदर्शित करने का राजनीतिक हथियार बनती नजर आ रही हैं। भाषा वैज्ञानिक …

Read More »