Home / Featured (page 88)

Featured

Featured posts

शिक्षारूपी शकुंतला अभी अधूरी पड़ी हुई है

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी बहुत अच्छे वक्ता थे. उनके एक भाषण का अंश किसी ने भेजा है. आप भी पढ़िए- मॉडरेटर ========================================================= आपका ध्यान कालिदास के शकुंतला नाटक की ओर ले जाना चाहता हूँ। दुष्यंत अच्छा प्रेमी था यह तो आप जानते ही हैं, गलती हो गई थी, उससे अंगूठी …

Read More »

जमशेदपुर में ‘सृजन संवाद’ में विकास कुमार झा के उपन्यास पर चर्चा

   गत रविवार जमशेदपुर में विकास कुमार झा के उपन्यास पर चर्चा हुई. उसी की रपट भेजी है विजय शर्मा ने- आज जैसी जीवन्त, सार्थक अनौपचारिक साहित्यिक गोष्ठी शायद ही पहले कभी हुई हो। ‘सृजन संवाद’ में सबसे पहले तो डॉ. भास्कर राव ने अपनी बदरीनाथ-केदारनाथ की यात्रा के संस्मरण …

Read More »

मृत्यु-गंध में लिपटी स्वदेश दीपक की ‘बगूगोशे’ की ख़ूशबू

जगरनॉट बुक्स से स्वदेश दीपक की आखिरी कहानियों का संग्रह प्रकाशित हुआ है- बगूगोशे. इस संग्रह पर युवा लेखक-पत्रकार अरविन्द दास की लिखत पढ़िए. कितनी आत्मीयता से लिखा है- मॉडरेटर ======================================= मृत्यु-गंध कैसी होती है/ वह एक ऐसी खुशबू है/ जो लंबे बालों वाली/ एक औरत के ताजा धुले बालों …

Read More »

मेहदी हसन को याद करते हुए

आज ‘शहंशाह-ए-ग़ज़ल’ कहे जाने वाले मेहदी हसन की पुण्यतिथि है.  उनको याद करते हुए विमलेन्दु ने यह कविता लिखी है- अन्तरनाद ======== कोमल गांधार से शुरू होता था उनका अन्तरनाद जो धैवत् और निषाद के दरम्यान कहीं एकाकार हो जाता था हमारी आत्मा के सबसे उत्तप्त राग से. बड़े संकोच …

Read More »

कोठा नंबर 64

राकेश शंकर भारती ने जेएनयू से जापानी भाषा में उच्च शिक्षा प्राप्त की. इन दिनों यूक्रेन में हैं. कुछ दिनों पहले आपने उनकी एक कहानी पढ़ी थी जो बहुत पसंद की गयी. आज उनकी एक और मार्मिक कहानी प्रस्तुत है जिसमें देह का जादू टूटने पर एक वेश्या का अकेलापन …

Read More »

पीयूष दईया की दस कविताएँ

  पीयूष के काव्य में आत्मपरक अनुभव निरीक्षण और बोध की सीढ़ी चढ़ सामाजिक संदर्भों में बोलते सुनाई देते हैं. ऐसी अभिव्यक्ति दीख पड़ती है जो किसी भावावेश से नहीं उमगी वरन् काव्य संरचना में अनावश्यक शब्दों के मोह से बच क़िस्सा गढ़ती है. इन लघु कविताओं में जीवन की …

Read More »

मैन इन गॉड्स ऑन लैंड: ‘द गॉड ऑफ़ स्मॉल थिंग्स’ में पुरुष के तीन चेहरे

    इन दिनों अरुंधति रॉय अपने नए उपन्यास की वजह से चर्चा में हैं. विजय शर्मा जी ने उनके पहले उपन्यास ‘ गॉड ऑफ़ स्मॉल थिंग्स’ के पुरुष पात्रों की पड़ताल की है.   अरुंधति राय का उपन्यास ‘द गॉड ऑफ़ स्मॉल थिंग्स’ उपन्यास जेंडर के विषय में है – …

Read More »

मैं बहुत ही निम्नकोटि के चित्रपट देख रहा हूँ-प्रेमचंद

संपादक-कवि पीयूष दईया अपनी शोध योजना के दौरान दुर्लभ रचनाओं की खोज करते हैं और हमसे साझा भी करते हों. इस बार तो उन्होंने बहुत दिलचस्प सामग्री खोजी है. 1930 के दशक में प्रेमचंद का एक इंटरव्यू गुजराती के एक पत्र में प्रकाशित हुआ. बाद में वह प्रेमचंद सम्पादित पत्रिका …

Read More »

पुल के नीचे भारत और पुल के ऊपर इंडिया – किसान आंदोलन

किसान आन्दोलन के बहाने नागेश्वर पांचाल का यह आत्मपरक लेख. ================================= मैं एक किसान पुत्र था, लेकिन अब मैं एक किसान पुत्र नही हूँ । कुछ सालो पहले आर्थिक तंगी की वजह से पिताजी ने ज़मीन की बिक्री कर दी थी । वो खेत, इमली की शाखाओं पर झूलना, आमो …

Read More »