Home / Featured (page 99)

Featured

Featured posts

मन्नू भंडारी का रचना पाठ सुनने का एक दुर्लभ मौका मत चूकिए

‘मुक्तांगन’ का यह तीसरा आयोजन है. दिल्ली के केन्द्रों में आयोजित होने वाले एक से आयोजनों की ऊब को दूर करने के उद्देश्य से बिजवासन के उषा फार्म्स में शुरू किया गया यह आयोजन अपनी स्थायी जगह बनाता जा रहा है. हर महीने इसका इन्तजार रहता है… कि इस बार …

Read More »

माइक इवरेट्ट की कविताएँ

माइक इवरेट्ट अमेरिकी आंचलिक उपन्यासकार हैं। लेख, कविता और कहानी भी लिखती हैं। माइक का एक परिचय यह भी है कि इनके लिखे एक कथन (जो कि एक लेख का हिस्सा है) को इंटरनेट पर दस लाख से ज़्यादा दफ़े कोट किया जा चुका है। वो कथन है, “When a writer falls …

Read More »

मनोज पाण्डे की कविता ‘गांधी जी कैसे गए थे चंपारण

चंपारण सत्याग्रह की शतवार्षिकी पर मनोज पाण्डेय की कविता- मॉडरेटर =================================== गांधी कैसे गए थे चंपारण   (बिहार जाने वाली ट्रेनों के जनरल बोगी में यात्रा करने वालों के प्रति)   पहली बार चम्पारण किस ट्रेन से गए थे गाँधी? ‘सत्याग्रह’ पकड़ी थी, तो गोरखपुर उतरे या छपरा आम्रपाली थी …

Read More »

सत्ता ‘दुम’ लगाकर गढ़ती है – ‘हनुमान’

आज हनुमान जयंती है. हनुमान जी को भगवान भक्त के रूप में देखा जाता है. आज यह विशेष लेख युवा लेखक सुनील मानव ने लिखा है- मॉडरेटर ———————————————-  मेरी उम्र उस वक्त दस-बारह वर्ष रही होगी शायद। नाना जी  का पक्का घर बन रहा था। मिस्त्री भी पारिवारिक सदस्य जैसे …

Read More »

गांधी जी की पोती की किताब में गाँधी जी का चंपारण सत्याग्रह

आज महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पूरे हो रहे हैं. देश भर में इसको याद किया जा रहा है, इसके बारे में लिखा जा रहा है. गांधी जी की पोती सुमित्रा गांधी कुलकर्णी ने अपनी किताब ‘महात्मा गांधी मेरे पितामह’ में भी इस घटना पर विस्तार से …

Read More »

70 साल का हुआ बाबा नागार्जुन का उपन्यास ‘रतिनाथ की चाची’

इधर इस बात पर ध्यान गया कि बाबा नागार्जुन के उपन्यास ‘रतिनाथ की चाची’ के लेखन का यह 70 वां साल है. इस उपन्यास के तीसरे संस्करण की भूमिका में नागार्जुन ने स्वयं यह लिखा है कि इसका रचनाकाल 1947 था. मुझे आज भी यह बात समझ में नहीं आई …

Read More »

युवा शायर #5 अज़हर इक़बाल की ग़ज़लें

अच्छी शायरी करना एक बात है और अच्छा इंसान होना दूसरी बात। अज़हर इक़बाल, जितनी अच्छी शायरी करते हैं उतने ही बेहतर इंसान भी हैं। उनसे मिलते हुए यूँ महसूस होता है, जैसे कभी बिछड़े ही न थे। बात करते हुए लगता है कि गुफ़्तगू कभी ख़त्म न हो। ऐसा …

Read More »

ज्योति मोदी की कविताएँ

सजग पाठिका एवम सदैव साहित्य सृजन में उन्मुख ज्योति मोदी अंग्रेजी साहित्य में स्नातक हैं। इनकी कई कविताएं राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय संकलनों में प्रकाशित हो चुकी हैं।  प्रेम, प्रकृति, विरह के भाव की परिचायक हैं इनकी लेखनी। आइए पढ़ते हैं कुछ कविताएँ – दिव्या विजय ======================================================= एकालाप परिंदों से भरे छज्जे पर …

Read More »

वाइन पीना दिमाग की सेहत के लिए सबसे अच्छा होता है!

हमारे देश में शराबंदी के पीछे राजनीतिक कारण अधिक होते हैं. कोई सोची समझ रणनीति नहीं होती है. आज ‘दैनिक हिन्दुस्तान’ में बहुत अच्छा सम्पादकीय पढ़ा. इसमें लिखा गया है अमेरिका के येल यूनिवर्सिटी के एक वैज्ञानिक ने शोध में यह पाया है कि वाइन पीने से दिमाग दुरुस्त रहता …

Read More »

अब पुस्तक समीक्षा लिखते हुए डर लगने लगा है

मैंने अपने लेखन की शुरुआत पुस्तक समीक्षा से की थी. विद्यार्थी जीवन में लिखने से पत्र-पत्रिकाओं से कुछ मानदेय मिल जाता था. ‘जनसत्ता’, ‘समकालीन भारतीय साहित्य’ के संपादक, साहित्य संपादक बहुत उदारता से किताबें दिया करते थे. एक तो पढने के लिए किताबें मिल जाती थीं, दूसरे, कम शब्दों में …

Read More »