Home / Uncategorized (page 10)

Uncategorized

हिंदी साहित्य के प्रारंभिक इतिहास : एक तुलनात्मक अध्ययन

योगेश प्रताप शेखर दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय में प्राध्यापक हैं. प्रखर और मुखर वैचारिकता के साथ लिखते हैं. उनका यह लेख ‘तद्भव 37’ में प्रकाशित हुआ है जिसमें उन्होंने हिंदी साहित्य के आरंभिक इतिहास-लेखन के पीछे की राजनीति को टटोलने का प्रयास किया है. लेख बहुत रोचक शैली में लिखा …

Read More »

अमिताभ को एंग्री यंगमैन बनाने वाले प्रकाश मेहरा

13 जुलाई को प्रकाश मेहरा का जन्मदिन था. 70-80 के दशक के स्टार निर्देशक को लगता है लोग भूल गए हैं. नवीन शर्मा का यह लेख उनको याद करते हुए लिखा है. इसी लेख से मुझे पता चला कि वे अच्छे गीतकार थे और ‘तुम गगन के चन्द्रमा मैं धरा …

Read More »

पल्लवी प्रसाद के उपन्यास ‘लाल’ का अंश

पल्लवी प्रसाद की कहानियां हिंदी की प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं. उन्होंने फणीश्वरनाथ रेणु की कहानियों के अंग्रेजी अनुवाद किये हैं. ‘लाल’ उनका दूसरा उपन्यास है और सामाजिक-राजनीतिक पृष्ठभूमि को आधार बनाकर कम ही लेखिकाएं लिखती है. यह एक ऐसा ही उपन्यास लग रहा है. फिलहाल इसका एक …

Read More »

सियाह और सफ़ेद से कहीं अधिक है यह ‘सियाहत’

आलोक रंजन केरल में हिंदी पढ़ाते हैं. उनका यात्रा-वृत्तान्त आया है ‘सियाहत’, जिसकी समीक्षा की है श्रीश पाठक ने- मॉडरेटर ============ आज की दुनिया, आज का समाज उतने में ही उठक-बैठक कर रहा जितनी मोहलत उसे उसका बाजार दे रहा। यह तीखा सा सच स्वीकारने के लिए आपको कोई अलग …

Read More »

दो रंगों के बीच की रेखा, खजुराहो और सीरज सक्सेना का कला-कर्म

सीरज सक्सेना समकालीन चित्र कला, सिरेमिक आर्ट का जाना-पहचाना नाम है. अपने इस संस्मरणात्मक लेख में चित्रकार-लेखक राजेश्वर त्रिवेदी ने सीरज जी के कला-कर्म के आरंभिक प्रभावों को रेखांकित किया है. बेहद आत्मीय और जानकारी से भरपूर गद्य- मॉडरेटर ======================= अठारह साल के लंबे अंतराल में मैंने सीरज को लगभग …

Read More »

गिसेप उंगारेत्ति की कविताएँ: अमृत रंजन का अनुवाद

प्रसिद्ध इतालवी कवि गिसेप उंगारेत्ति की कविताओं का अनुवाद प्रस्तुत है. अनुवाद किया है अमृत रंजन. अमृत रंजन में पहली बार कविताओं का अनुवाद किया है और काफी प्रवाहमयी शैली में किया है- मॉडरेटर ==================================================== अमर   तोड़े गए फूल अर्पित फूल बीच में अनगिनत शून्य ——————————   सैनिक   …

Read More »

अच्युतानंद मिश्र की तीन कविताएँ

अच्युतानंद मिश्र समकालीन हिंदी कविता की उल्लेखनीय उपस्थिति का नाम है. उनको युवा कविता का सम्मानित भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार मिल चुका है. प्रचार-प्रसार के इस युग में वे चुपचाप सृजनरत हैं. आज उनकी तीन कविताएँ- मॉडरेटर ================ दंगे के बाद   वीरान गली का आखिरी सिरा एक जूता उल्टा रखा …

Read More »

जगरनॉट बुक्स के ऐप पर पहली बार सुरेन्द्र मोहन पाठक की पांच किताबें

  8 जुलाई 2018:  जगरनॉट बुक्स अब अपने ऐप पर हिंदी के लोकप्रिय और बेस्टसेलिंग जासूसी उपन्यासकार सुरेन्द्र मोहन पाठक की चुनिंदा किताबें ला रहा है। सुरेन्द्र मोहन पाठक हिंदी अपराध कथा की दुनिया के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक हैं। 1950 के दशक के अंत में अपने लेखन …

Read More »

‘नए शेखर की जीवनी’ आत्मा और अंतर्द्वंद्व की कहानी है

अविनाश मिश्र से आप असहमत हो सकते हैं उसको नजरअंदाज़ नहीं कर सकते. वाणी प्रकाशन से प्रकाशित उसकी पहली गद्य-पुस्तक ‘नए शेखर की जीवनी’ पढ़ते हुए कई बार लगता है कि इसके लेखक की खूब आलोचना करूं, कई बार लगता है खूब प्यार करूं. हिंदी में एक अलग कैफियत की …

Read More »

दुनिया की सबसे नीरस किताब कौन सी होगी?

नॉर्वे-प्रवासी डॉक्टर प्रवीण झा के लेखन से, लेखन की धार से हम सब अच्छी तरह परिचित हैं. न उनके पास लिखने के लिए विषयों की कमी पड़ती है, न कभी भाषा में झोल पड़ता है. बस एक बात और कि इस बार जानकी पुल पर उनकी चिट्ठी बहुत दिनों बाद …

Read More »