Recent Posts

पुरुष थमाते है स्त्री के दोनों हाथों में अठारह तरह के दुःख

दुर्गा के बहाने कुछ कविताएँ लिखी हैं कवयित्री विपिन चौधरी ने. एक अलग भावबोध, समकालीन दृष्टि के साथ. कुछ पढ़ी जाने वाली कविताएँ- जानकी पुल. ================================== 1 एक युग में ब्रह्मा, विष्णु, शिव थमाते है तुम्हारे अठारह हाथों में अस्त्र शस्त्र राक्षस वध  की अपूर्व सफलता के लिये सौंपते हैं शेर की नायाब सवारी कलयुग  में पुरुष थमाते है …

Read More »

एक शाम बराक मुझे डेट पर लेकर गए

हाल में ही अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला मिशेल ओबामा की आत्मकथा ‘बिकमिंग’ का हिंदी अनुवाद प्रकाशित हुआ है पेंगुइन हिंदी पॉकेट बुक्स से। अनुवाद किया है कुमारी रोहिणी ने। प्रस्तुत है पुस्तक का एक रोचक अंश- मॉडरेटर ============================= मई में शनिवार की एक शाम बराक मुझे डेट पर लेकर …

Read More »

शुभ्रास्था की कुछ कविताएँ

दिल्ली विश्वविद्यालय की पूर्व छात्रा शुभ्रास्था के कई परिचयों के मध्य, केंद्र में, वे मूलतः एक लेखिका, कवियत्री हैं। उनकी कुछ कविताएँ- ================== मैं तुमसे कैसे बात करूँ? मुझे तुम्हारी भाषा नहीं आती तुममें व्याकरण और दोष दोनों कम हैं और मैंने तरकारी में नून कम रखने की की है …

Read More »