Recent Posts

६० के हुए शिवमूर्ति

अस्सी के दशक में अपनी कहानियों से बड़ी लकीर खींचनेवाले शिवमूर्ति इस साल 60 साल के हो गए। मूलतया ग्रामीण आबोहवा के इस कथाकार की कसाईबाड़ा और तिरिया चरित्तर कहानियों ने गांव के ढहते हुए सामाजिक और राजनीतिक ढांचे की बदलती तस्वीर दिखाई थी। बाद के दौर में तर्पण और …

Read More »

नश्तर खानकाही की चार ग़ज़लें

नश्तर ख़ानकाही की शायरी में फ़कीराना रक्स है। कुछ-कुछ लोकगीतों की सी छंद, खयाल की सादगी। हिन्दी में उनकी ग़ज़लें हो सकती है पहले यदा-कदा कहीं छपी हो। इस गुमनाम शायर की चुनिंदा ग़ज़लें पढ़िए और खयालों में खो जाइए- =============================== 1. धड़का था दिल कि प्यार का मौसम गुज़र …

Read More »

फेसबुक पर फर्जी काशीनाथ सिंह

कल दोपहर बाद हम युवा लेखकों को बड़ा सुखद आश्चर्य हुआ जब हमने वरिष्ठ लेखक काशीनाथ सिंह का फेसबुक पर दोस्ती का रिक्वेस्ट देखा। यही नहीं हिन्दी में फेसबुक पर टाइप करने के संबंध में उन्होंने सुझाव भी मांगे थे। शायद ही कोई युवा लेखक रहा हो जिसकी तरफ उन्होंने …

Read More »