Recent Posts

वसन्त में वसंत की याद

वसंत आया तो अपने ही एक पुराने लेख की याद आ गई- प्रभात रंजन ======================================== ‘यह कैसा युवा लेखन है जी? कोनो वसंत पर लिखता ही नहीं है!’ सीतामढ़ी के सनातन धर्म पुस्तकालय के पुराने मेंबर सुशील बाबू ने जब फोन पर पूछा तो अचानक कोई जवाब ही नहीं सूझा. …

Read More »

क्रांतिकारी लेखक मन्मथनाथ गुप्त की याद

आजादी की लड़ाई के दौरान क्रांतिकारी संगठन का हिस्सा रहे मन्मथनाथ गुप्त हिंदी के लेखक भी थे और उन्होंने खूब लिखा, अनेक विधाओं में लिखा. कल यानी 7 फ़रवरी को उनकी जयंती थी. उनको याद करते हुए नवीन शर्मा का यह लेख- मॉडरेटर ==================================== आमतौर पर बंदूक व कलम को …

Read More »

अनुकृति उपाध्याय लिखित वन-यात्रा वृत्तान्त ‘ताडोबा-अंधारी के वन’

युवा लेखिका अनुकृति उपाध्याय का कथा-संग्रह हाल में आया है ‘जापानी सराय‘, जिसकी कहानियां हिंदी की मूल प्रकृति से बहुत भिन्न किस्म की हैं. पशु-पक्षियों के प्रति करुणासिक्त कहानियां भी हैं इसमें. यह शायद कम लोग जानते हैं कि अनुकृति वाइल्ड लाइफ के क्षेत्र में काम करती हैं. उनकी हाल …

Read More »