Recent Posts

हरिहर प्रसाद चौधरी ‘नूतन’ के छह गीत

वैशाली जनपद के कवि हरिहर प्रसाद चौधरी ‘नूतन’ का नाम सुना था। सीतामढ़ी के गीतकार रामचंद्र ‘चंद्रभूषण’ उनका नाम लेते थे। कहते थे मंचों पर आग लगा देता है। लेकिन न उनको कभी पढ़ने का मौका मिला न सुनने का। कुछ दिन पहले मेरे फ़ेसबुक वाल पर कर्मेंदु शिशिर जी …

Read More »

गौतम राजऋषि की ताज़ा नज़्म ‘ये गुस्सा कैसा गुस्सा है’

आज पढ़िए जाने-माने शायर गौतम राजऋषि की ताज़ा नज़्म- ======================   ये ग़ुस्सा कैसा ग़ुस्सा है ये ग़ुस्सा कैसा-कैसा है ये ग़ुस्सा मेरा तुझ पर है ये ग़ुस्सा तेरा मुझ पर है ये जो तेरा-मेरा ग़ुस्सा है ये ग़ुस्सा इसका-उसका है ये ग़ुस्सा किस पर किसका है ये ग़ुस्सा सब …

Read More »

   डॉ.धर्मवीर का  दलित विमर्श: सुरेश कुमार

प्रसिद्ध दलित विचारक डॉक्टर धर्मवीर के जीवन और लेखन पर एक शानदार लेख ‘समकालीन भारतीय साहित्य’ में पढ़ा। युवा आलोचक सुरेश कुमार का लिखा यह लेख सोचा आप लोगों से भी साभार साझा किए जाए- ==========================   दलित चिंतन की स्वतंत्र ज़मीन और डा. आम्बेडकर के विचारों का पुर्नपाठ में …

Read More »