Recent Posts

फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी ‘तीन बिंदियाँ’

सोशल मीडिया पर थ्री डॉट्स की चर्चा की चर्चा गर्म है। याद आई फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी ‘तीन बिंदियाँ’। रेणु जी के कहानी संग्रह ‘ठुमरी’ में यह कहानी शामिल है। संकलन का प्रकाशन राजकमल प्रकाशन से हुआ है- ======================= गीताली दास अपने को सुरजीवी कहती है। नाद-सुर-ताल आदि के सहारे …

Read More »

अभिषेक ओझा के उपन्यास ‘लेबंटी चाह’ का एक अंश

अभिषेक ओझा का उपन्यास आया है ‘लेबंटी चाह’। यह उपन्यास एक ग्लोबल हो चुके बिहारी की स्मृतियों का कोलाज है। एक तरफ़ तेज भागती दुनिया है दूसरी तरफ ठहरा हुआ जीवन। राजपाल एण्ड संज प्रकाशन से प्रकाशित इस उपन्यास का एक अंश पढ़िए- ============================ वक़्त के साथ चीज़ें बदलती हैं। …

Read More »

स्वरांगी साने की कहानी ‘फाइटर’

स्वरांगी साने की कहानी ‘फाइटर’ पढ़िए- ========================== काव्या ने लगभग भागते हुए आँगन का फाटक खोला, घर के दरवाज़े से एक कदम अंदर रखते हुए वही से चिल्ला कर पूछा- आंटी स्वप्निल कहाँ है? ऊपर अपने कमरे में है क्या? और बिना उत्तर की प्रतीक्षा किए दौड़ते हुए ऊपरी मंजिल …

Read More »