Recent Posts

कोई हयात ज़माने को है अज़ीज़ बहुत: फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जीवनी

पंकज पराशर को पढ़ना हर बार कुछ सीखना होता है। इस बार उन्होंने बीसवीं सदी के संभवतः सबसे बड़े शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ पर लिखा है। कुछ समय पहले उनकी जीवनी का हिंदी अनुवाद प्रकाशित हुआ था। उसी बहाने यह सहेजने लायक लेख पढ़िए- ====================================== “इससे पहले कि इस आलेख …

Read More »

अंडे महंगे हो रहे है!

इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में छोड़कर मास कम्यूनिकेशन की पढ़ाई करने वाले युवा लेखक नमन नारायण के लेखन में अंतर्निहित विट है और बहुत परिपक्व नजरिया। इस लेख में ही देखिए- ================== आज मैं छत पर अकेला ही बैठा था। हॉस्टल में आज काफी शांति थी। युद्ध के बाद वाली …

Read More »

ब्रजरतन जोशी की दस कविताएँ

ब्रजरतन जोशी संवेदनशील कवि हैं। लेखक हैं। राजस्थान साहित्य अकादमी की पत्रिका ‘मधुमती’ के संपादक हैं। आज उनकी दस कविताएँ पढ़िए- ===========================   1 अबूझ जिंदगी   अबूझ जिंदगी                  उखड़ी साँसें कभी तीव्र          कभी मंद चल रही हैं अस्तित्त्व          बस पटरी -सा जिस पर          चलते ही …

Read More »