Recent Posts

कवि चोर के लव जिहाद की कथा: मृणाल पाण्डे

चौरपंचाशिका से लेकर उत्तराखंड के लोकगीतों में विस्तृत कथाओं का रस घोल यह कथा तैयार की है जानी मानी लेखक मृणाल पाण्डे ने। बच्चों को न सुनाने लायक़ बाल कथाएँ सीरीज़ की यह 21 वीं कथा ज़रा देर से आई लेकिन लव जिहाद क़ानून की व्यथा के बीच चोर कवि …

Read More »

मुझे दस जूते मार लीजिए लेकिन घर से मत निकालिए

बनारस का नाम आने पर लेखक शिव प्रसाद सिंह का नाम ज़रूर आएगा। उनके ऊपर एक बहुत अलग तरह का गद्य लिखा है बीएचयू की शोध छात्रा रही प्रियंका नारायण ने। आप भी पढ़िए- ==================== मुझे दस जूते मार लीजिए लेकिन घर से मत निकालिए दो पथिक (पहला- आगंतुक, दूसरा …

Read More »

मेरी कवयित्री चाची ‘शैलप्रिया’ – अविनाश

कवयित्री शैलप्रिया जी को याद करते हुए यह संस्मरण लिखा है अविनाश दास ने। वे जाने माने फ़िल्म निर्देशक हैं, लेकिन उससे पहले बहुत अच्छे कवि और गद्यकार हैं। आइए शैलप्रिया जी को याद करते हैं- ======================================= 91-92 की बात है। मैं स्कूल के अपने अंतिम सालों में था। मोरहाबादी …

Read More »