Recent Posts

इतिहास, स्त्री एवं पवन करण का ‘स्त्री शतक’

वरिष्ठ कवि पवन करण की पुस्तक ‘स्त्री शतक’ की एक विस्तृत समीक्षा लिखी है अमित मंडलोई ने- मॉडरेटर ============================================================== पीढिय़ों का इतिहास पन्नों में दफन हो जाता है। उन्हीं के साथ नेपथ्य में चले जाते हैं शूरवीरों के किस्से और युद्ध की गाथाएं। खत्म हो जाती हैं सारी कही-अनकही कहानियां। …

Read More »

शशिभूषण द्विवेदी की कहानी ‘अभिशप्त’

शशिभूषण द्विवेदी नई-पुरानी कहानी के सीमांत के कथाकार हैं. नए तरह की जीवन स्थितियों-परिस्थितियों की आहट सबसे पहले जिन कथाकारों में सुनाई पड़ने लगी उनमें शशिभूषण सबस अलग हैं. उनकी कहानी ‘अभिशप्त’ मुझे बहुत पसंद है जो एक लम्बे अंतराल के बाद प्रकाशित उनके नए कहानी संग्रह ‘कहीं कुछ नहीं’ …

Read More »

अलेक्सान्द्र पूश्किन की प्रेम कहानी ‘बर्फानी तूफ़ान’

अलेक्सान्द्र पूश्किन को हम एक कवि के रूप में जानते हैं. लेकिन उन्होंने कहानियां भी लिखी. उनकी प्रेम कहानियों का अनुवाद आ. चारुमति रामदास जी किया है, जो पुस्तकाकार प्रकाशित है. उसी पुस्तक से एक कहानी- मॉडरेटर  ===================================================================  सन् 1811  के अंत में, उस अविस्मरणीय कालखण्ड में, नेनारादवा  जागीर में गव्रीला …

Read More »