Recent Posts

जीवन की आपा-धापी (प्रलय) में पिता (की स्मृतियों) का (लय की तरह) होना!

अशोक कुमार पाण्डेय की कविता का पाठ प्रस्तुत है। पिता पर लिखी अशोक कुमार पाण्डेय की इस कविता का यह पाठ किया है जानी-मानी कवयित्री सुमन केसरी ने। पढ़कर राय दीजिएगा- जानकी पुल ========================================== तो पहले कविता पढ़ें फिर पाठ…लौट लौट कविता पर आएँ, बस यही मकसद है इस पाठ …

Read More »

विद्याभूषण जी की पाँच कविताएं

हिन्दी में न जाने कितने कवि-लेखक हुए हैं जिन्होने किसी फल की चिंता के बगैर निस्वार्थ भाव से लेखन किया, साधना भाव से। विद्याभूषण जी ऐसे ही एक लेखक-कवि हैं। आज उनकी पाँच कविताएं प्रस्तुत हैं- मॉडरेटर ======================================================== शब्द शब्द खा़ली हाथ नहीं लौटाते। तुम कहो प्यार और एक रेशमी …

Read More »

सत्य व्यास के बहुप्रतीक्षित उपन्यास ‘चौरासी’ का एक अंश

सत्य व्यास के लेखन ने निस्संदेह हिन्दी के युवा लेखकों-पाठकों में नए उत्साह का संचार किया है। उपन्यास की प्री बुकिंग करवाकर मैं भी बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहा हूँ। फिलहाल उपन्यास के एक पठनीय अंश का आनंद लेते हैं- प्रभात रंजन ================= कहानियों को गंभीर और अलग बनाने के बहुत …

Read More »