Recent Posts

पुरखा पत्रकार का बाइस्कोप की भूमिका

‘पुरखा पत्रकार का बाइस्कोप’ नगेंद्रनाथ गुप्ता की आत्मकथा-संस्मरण पुस्तक है। नगेंद्रनाथ गुप्त पत्रकार थे और 19 वीं सदी के उत्तरार्ध में देश के अनेक महत्वपूर्ण घटनाक्रमों के वे साक्षी रहे। वे स्वामी विवेकानन्द का क्लासमेट, रवि बाबू के मित्र, केशब चन्द्र सेन के रिश्तेदार थे और उस दौरके अनेक महत्वपूर्ण लोगों …

Read More »

राजीव कुमार की कविताएँ

राजीव कुमार की लिखी कई समीक्षाएँ हम लोगों ने पिछले दिनों में पढ़ी हैं। वे कविता लिखते हैं और उपन्यास भी लिख रहे हैं। फ़िलहाल उनकी कविताएँ पढ़िए- ====================   मैं नींद में कभी नहीं था     सुकून का हिस्सा नहीं होती हैं रातें स्मृतियां विप्लव करती हैं कोई …

Read More »

बाघ, बंदर और दढ़ियल खाडू(मेढे) की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे  बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथायें लिख रही हैं, हर कथा में एक सीख होती है, कोई सूझ, जो राज-समाज के बारे में हमें कुछ बता जाती है सिखा जाती है। यह 24 वीं कथा है। आप भी पढ़िए- ================================== (गढवाल की यह लोककथा मूल …

Read More »