Recent Posts

‘हम, तुम और वो ट्रक’ अनुवाद की उपलब्धि की तरह है

चीनी लेखक मो यान को 2012 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला तो उनके उपन्यासों की मांग चीन के बाहर बढ़ गई. नोबेल मिलने से पहले ही भारतीय प्रकाशक सीगल बुक्स ने उनकी किताबें प्रकाशित कर रखी थी. सीगल बुक्स से प्रकाशित ‘चेंज’ नामक उपन्यास का हिंदी अनुवाद यात्रा बुक्स …

Read More »

तेजेंद्र शर्मा की ग़ज़लें

हिंदी प्रवासी कहानी के एक तरह से पर्याय बन चुके तेजेंद्र शर्मा ग़ज़लें भी लिखते हैं हाल में ही पता चला. उनकी गज़लों का छंद, उसकी रवानी इतनी पसंद आई कि सोचा आप लोगों से साझा किया जाए- प्रभात रंजन  ================================================================== 1. थक गया हूं अब तो मैं, दिन रात …

Read More »

सानदार प्रेम, जबरजस्त पहाड़ और जिंदाबाद नवाज़!

फिल्म ‘मांझी: द माउन्टेनमैन’ की एक बढ़िया समीक्षा युवा लेखक नवल किशोर व्यास ने लिखी है. फिल्म के हर पहलू से, हर नजरिये से- मॉडरेटर  =============================== नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी के लाजवाब अभिनय से सजी ‘मांझी- दा माउंटेन मैन’ केतन मेहता की अब तक की सबसे अलग पर बहुत हद तक प्रभावशाली …

Read More »