Recent Posts

जाना एक महान बौद्धिक का इस तरह चुपचाप

कमलेश जी को मीडिया में सबसे अच्छी श्रद्दांजलि आज ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ अखबार ने दी है. उसके बाद ‘जनसत्ता’ में. समाजवादी राजनीति के बौद्धिक हलकों में उनका कद ऊँचा था. वे ‘प्रतिपक्ष’ के संपादक रह चुके थे, प्रसिद्ध बड़ौदा डायनामाईट काण्ड में जॉर्ज फर्नांडीज के साथ्सः-अभियुक्त थे. लेकिन हम हिंदी …

Read More »

अविस्मरणीय पुस्तक है ‘गिरिजा’

सन 2000 के आसपास एक किताब आई थी ‘गिरिजा‘. युवा लेखक, संगीत मर्मज्ञ यतीन्द्र मिश्र की किताब ‘गिरिजा’ कई अर्थों में युगांतकारी है. इससे पहले संगीत पर जो किताबें आती थी वे ऐसी भाषा, ऐसी शब्दावली में होती थीं कि आपको अगर संगीत की जानकारी न हो तो उनको पढने …

Read More »

अमृता प्रीतम की कहानी ‘शाह की कंजरी’

अमृता प्रीतम की यह कहानी तवायफ संस्कृति कुछ सबसे अच्छी कहानियों में है. इसकी नायिका लाहौर के हीरा मंडी की है. समाज पर तवायफों का क्या असर होता था, उनका क्या जलवा होता था- कहानी इसको बड़े अच्छे तरीके से सामने लाती है- मॉडरेटर ======================================= उसे अब नीलम कोई नहीं …

Read More »