Recent Posts

सोशल मीडिया की ताकत और सिनेमा

युवा लेखक मिहिर पंड्या फिल्मों पर बहुत तैयारी के साथ लिखते हैं. हमेशा कोशिश करते हैं कि कुछ नया कहा जाए. इसलिए उनका लिखा अलग से दिखाई देता है, अलग सा दिखाई देता है. मिसाल के लिए सोशल मीडिया और सिनेमा के रिश्तों को लेकर लिखे गए उनके इस आलेख …

Read More »

लड़की, लड़का, डेट… और घंटे भर का मार्क्सवाद!

हाल के वर्षों में हिंदी में कहानियों की एक शैली नीलेश मिश्र के लोकप्रिय रेडियो प्रोग्राम के लिए लिखने वालों ने भी विकसित की है. ऐसे ही एक लेखक क्षितिज रॉय की कहानियां हाल में पढ़ी. वे वे दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनोमिक्स के विद्यार्थी हैं, छोटी छोटी कहानियां लिखते हैं. …

Read More »

विश्व सिनेमा में वीर रस की फिल्में (भाग- १)

आइआइटी पलट युवा लेखक प्रचण्ड प्रवीर इन दिनों भरतमुनि के रस-सिद्धांत के आधार पर विश्व सिनेमा का अवलोकन प्रस्तुत कर रहे हैं. आज उन्होंने वीर रस के आधार पर विश्व सिनेमा की कुछ नायाब कृतियों का मूल्यांकन किया है. रोचक है. पढ़कर बताइए- मॉडरेटर. ================================================= इस लेखमाला में अब तक …

Read More »