Recent Posts

ये किसने पुकारा है, ये किसका निमंत्रण है

उपन्यासकार प्रचण्ड प्रवीर कविताएं भी लिखते हैं. क्लासिकी अंदाज की कविताएं. हिंदी कविता के समकालीन चलन से हट कर. लेकिन उनकी इस कविताई का भी आकर्षण सम्मोहक हो जाता है कई बार. आप भी देखिये- मॉडरेटर. =======================  अनामिका और चन्द्रमा चन्द्रमा मुझे देखते उतर आया ! सोने की थाली में …

Read More »

जोहरा सहगल का जीवन ही कला था

102 की उम्र में ज़ोहरा सहगल ने इस दुनिया के रंगमंच को अलविदा कहा. 2 साल पहले उनकी बेटी किरण सहगल ने उनकी जीवनी लिखी थी- ‘Zohra segal: ‘Fatty’. जानकी पुल की ओर से उस महान कलाकार को अंतिम प्रणाम करते हुए उसी किताब के एक छोटे से अंश का …

Read More »

नवजागरणकालीन हिंदी पत्रिकाओं में प्रकाशित विज्ञापनों का एक अध्ययन

जिनको यह लगता है कि हिंदी को लेकर अच्छा शोध या तो विदेश के विश्वविद्यालयों में हो रहा है या फॉरेन फंडिंग से इतिहास वाले कर रहे हैं, तो उनको आशुतोष पार्थेश्वर का यह शोध लेख पढना चाहिए. नवजागरणकालीन पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित विज्ञापनों को लेकर है. इतना दिलचस्प और जानकारी से भरा …

Read More »