Recent Posts

लेखक को बेस्टसेलर की अभिलाषा से मुक्त होना चाहिये

हमारी कोशिश है कि हिन्दी में बेस्टसेलर को लेकर हर तरह के विचार सामने आएं। पहले के दो लेखों में यथार्थवादी बातें आई आज कुछ आदर्श की बातें कर लें। हिन्दी में नए ढंग के लेखन की शुरुआत करने वाले प्रचण्ड प्रवीर ने बेस्टसेलर को लेकर दो-टूक बातें की हैं, …

Read More »

क्या हिंदी में बेस्टसेलर हैं ही नहीं?

हिन्दी में बेस्टसेलर को लेकर ‘हिन्दी युग्म’ की तरफ से पुस्तक मेले में 20 फरवरी को परिचर्चा का आयोजन किया गया था। उसमें लेखिका अनु सिंह चौधरी भी वक्ता थी। आज उन्होने परिचर्चा के दौरान बहस में आए मुखी बिन्दुओं की चर्चा करते हुए लोकप्रिय-बेस्टसेलर को लेकर एक सुचिंतित लेख लिखा …

Read More »

बेस्टसेलर! बेस्टसेलर! कहाँ है बेस्टसेलर?

सुरेन्द्र मोहन पाठक के उपन्यास ‘कोलाबा कोन्सपिरेसी’ को हार्पर हिन्दी ने छापा है। यह हिन्दी के प्रकाशन की एक बड़ी परिघटना है जो यह संकेत देती है कि भविष्य में किताबों की दुनिया का क्या ट्रेंड होने वाला है। एक तरफ इसे हिन्दी किताबों से पाठकों को जोड़ने की मुहिम …

Read More »