Recent Posts

बोरिस पास्तरनाक की कविताएँ धर्मवीर भारती के अनुवाद में

रूसी कवि-लेखक बोरिस पास्तरनाक की मृत्यु के ५० साल हो गए. उनको नोबेल पुरस्कार मिला था. कविता के अलावा उन्होंने डॉक्टर जिवागो जैसा उपन्यास लिखा. उनकी दो कविताएँ यहाँ प्रस्तुत हैं. अनुवाद धर्मवीर भारती का है, जो विश्व कविता के उनके संचयन ‘देशांतर’ में संकलित है- जानकी पुल   1. …

Read More »

पाकिस्तानी अंग्रेजी साहित्य का बढ़ता रुतबा और बाज़ार

बीसवीं शताब्दी का अस्सी का दशक भारतीय अंग्रेजी उपन्यासों के लिए टर्निंग पॉइंट का दशक माना जाता है. सलमान रुश्दी को बुकर पुरस्कार मिलने के बाद अचानक भारतीय अंग्रेजी लेखक परिदृश्य पर छाने लगे. विक्रम सेठ, अमिताव घोष के लेखन की धमक साहित्यिक हलकों में ही नहीं बाज़ार में भी …

Read More »

मार्खेज़-जीवन प्रसंग: मसीजीवी होने का फैसला और पहला उपन्यास

नोबेल पुरस्कार विजेता लेखक मार्खेज़ के संघर्ष के दिनों के कुछ रोचक और प्रेरक प्रसंगों से हम समय-समय पर आपको रूबरू करवाते रहे हैं. आज आइये उनके पहले उपन्यास ‘लीफ स्टोर्म’ से जुड़े किस्से से रूबरू होते हैं- जानकी पुल. जब 21 साल की उम्र में मार्केज़ ने यह तय …

Read More »