Recent Posts

क्या ‘उसने कहा था’ हिंदी की सर्वश्रेष्ठ प्रेम कहानी है?

१९१५ में प्रकाशित ‘उसने कहा था’ हिंदी की एक ऐसी कहानी है जिसके पाठ में आज भी आकर्षण बना हुआ है. चंद्रधर शर्मा ‘गुलेरी’ की इस कहानी का एक नया पाठ किया है दिल्ली विश्वविद्यालय के युवा शोधार्थी अमितेश कुमार ने. रोचक पाठ है- जानकी पुल. =========================================  “ फ़्रास और …

Read More »

वे कहानियां नहीं हुई होती अगर मैं स्त्री नहीं होती

युवा लेखिका कविता का समकालीन हिंदी कथाकारों में अपना खास मुकाम है. उनके आत्मकथ्य के माध्यम से उनके कथा-संसार की रोचक यात्रा पर निकलते हैं- जानकी पुल. ================================================ बात अपनी एक कहानी की कुछ पंक्तियों से ही शुरु करती हूं – ” कुछ अपना बिल्कुल अपना रचने का अहसास औरतों …

Read More »

ओ प्यारी मलाला हम बड़े रंज में हैं

मलाला युसुफजई का नाम आज पकिस्तान में विरोध का प्रतीक बन चुका है. हिंदी की कवयित्री अनीता भारती ने उनके विद्रोह, संघर्ष को सलाम करते हुए कुछ कविताएँ लिखी हैं. पढ़िए, सराहिये- जानकी पुल. 1. ओ सिर पर मंडराते गिद्धोंसुनो!अब आ गई तुम्हारे हमारे फैसले की घड़ीछेड़ी है तुमने जंगतुमने …

Read More »