Recent Posts

स्त्रियां किसी भी कीमत पर प्रेम नहीं खोना चाहतीं

आज प्रीति चौधरी की कविताएँ. प्रीति की कविताएँ विमर्श करती बौद्धिक कविताएँ हैं. कई सन्दर्भों को एक अलग ढंग से देखते हुए, स्त्री-विमर्श को एक अलग ऐंगल से देखते हुए. पढ़िए उनकी चार कविताएँ- जानकी पुल. १. मेनोपॉज की दहलीज पर मेनोपॉज की दहलीज पर खड़ी उस प्रौढ़ औरत और …

Read More »

क्यों एक फ़िल्म ज़बरन कल्ट साबित होना चाहती है?

फ़िल्में आती हैं, हफ्ते-दो हफ्ते उनके ऊपर चर्चा होती है, फिर फिल्म विमर्शकार भी उस फिल्म को भूल जाते हैं और किसी अगली फिल्म के हो-हल्ले में लग जाते हैं. लेकिन असली मूल्यांकन तो वह होता है जो उस फिल्म के प्रचार-प्रसार, हो-हल्ले के थम जाने के बाद किया जाए. …

Read More »

का खाएँ का पिएँ का ले परदेस जाएँ

प्रसिद्ध आलोचक-अनुवादक गोपाल प्रधान ने यह लोक कथा भेजते हुए याद दिलाया की आज के सन्दर्भ में इसका पाठ कितना मौजू हो सकता है. सचमुच चिड़िया और दाना की यह कथा लगता है है आज के दौर के लिए ही लिखी गई थी- जानकी पुल. ==================================== एक चिड़िया को दाल …

Read More »