Recent Posts

भगत सिंह! कुछ सिरफिरे-से लोग तुमको याद करते हैं

भगत सिंह की शहादत को प्रणाम के साथ कुछ कविताएँ युवा कवि त्रिपुरारि कुमार शर्मा की- जानकी पुल. ——————————– भगत सिंह के लिए भगत सिंह! कुछ सिरफिरे-से लोग तुमको याद करते हैं जिनकी सोच की शिराओं में तुम लहू बनकर बहते हो जिनकी साँसों की सफ़ेद सतह पर वक़्त-बेवक़्त तुम्हारे …

Read More »

क्या नाट्यशास्त्र आज भी प्रासंगिक है?

कवयित्री, नाट्यविद, संगीत-विदुषी वंदना शुक्ल हमेशा कला-साहित्य के अनछुए पहलुओं को लेकर बहुत गहराई से विश्लेषण करती हैं. जिसका बहुत अच्छा उदाहरण है यह लेख- जानकी पुल. —————————————————————————————————–  अभिनय का विस्तृत विवेचन करने वाला विश्व का सबसे प्रथम ग्रन्थ आचार्य भरत मुनि कृत ‘’नाट्य शास्त्र’’ है| भरतमुनि का नाट्यशास्त्र ऐसा ग्रन्थ …

Read More »

ऐसे दिक-काल में

हाल में ही युवा लेखक-पत्रकार अनिल यादव का यात्रा-वृत्तान्त आया है ‘यह भी कोई देश है महाराज’. उत्तर-पूर्व भारत के अनदेखे-अनजाने इलाकों को लेकर लिखे गये इस यात्रा-वृत्त में वहां का समाज, वहां की संस्कृति अपनी पूरी जीवन्तता के साथ मौजूद है. यहां पुस्तक का एक अंश जो  अरुणाचल प्रदेश …

Read More »