Recent Posts

मैं पुरस्कारों को गम्भीरता से नहीं लेता

हाल में ही युवा कथाकार चंदन पांडे का कहानी संग्रह पेंगुइन से आया है ‘इश्कफरेब’. इस अवसर पर प्रस्तुत है उनसे एक बातचीत. यह बातचीत की है युवा कवि त्रिपुरारि कुमार शर्मा ने- जानकी पुल. === === ===  त्रिपुरारि : चंदन जी, पहले तो आपकी नई किताब ‘इश्क़फ़रेब’ के लिए …

Read More »

मैं अन्याय के बारे में बोलना चाहता हूँ

‘कान्हा प्रकरण’ की स्मृतियाँ भले मिट चुकी हों लेकिन हिंदी के दो वरिष्ठ लेखक-कवियों में सवाल जवाब का सिलसिला अभी जारी है. पढ़िए विष्णु खरे का स्पष्टीकरण और एक कविता राजेश जोशी की- जानकी पुल. ===================================================================== कान्हा-शिल्पायन सान्निध्य में शिरकत को लेकर अन्य भागीदारों सहित साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता राजेश …

Read More »

कुछ भी नहीं है पास, एक उम्मीद है

मुकुल सरल हिंदी गजल की यशस्वी परम्परा में आते हैं. कल ‘कवि के साथ’ कार्यक्रम में इण्डिया हैबिटेट सेंटर में उनको सुनने का अवसर होगा. फिलहाल आज यहां उनकी गजलें पढते हैं- जानकी पुल. ========================================================== ग़ज़ल (1) घर में जाले, बाहर जाल क्या बतलाएं अपना हाल? दिन बदलेंगे कहते–सुनते बीते …

Read More »