Recent Posts

स्त्री को इस समाज से एक लेखक बतौर सम्मान और पहचान चाहिए

कुछ अर्सा पहले मैत्रेयी पुष्प जी ने युवा लेखिकाओं के ऊपर एक टिप्पणी जनसत्ता में की थी। उसकी आग अभी तक ठंडी नहीं पड़ी है। अभी लखनऊ कथाक्रम में गीताश्री ने एक जोरदार भाषण दिया। फिलहाल पेश है वंदना राग का लेख—- जानकी पुल-  ————————————————-        कितना विचित्र समय है। …

Read More »

मृत्यु तो जीवन का शृंगार है

विजयदान देथा के निधन पर कई अखबारों में लेख, सम्पादकीय आये. आज सुबह दो अखबारों में सम्पादकीय पढ़ा- ‘दैनिक हिन्दुस्तान’ और ‘जनसत्ता’ में. ‘जनसत्ता’ का यह सम्पादकीय ख़ास लगा. कितने कम शब्दों में उनके बारे में कितना कुछ कह जाती है. जिन्होंने न पढ़ा हो उनके लिए- प्रभात रंजन. ========= …

Read More »

जयश्री रॉय की कहानी ‘रेत के फूल’

हाल के वर्षों में जिन लेखिकाओं की कहानियों ने ध्यान खींचा है उनमें जयश्री रॉय का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है. उनकी एक हाल की कहानी- जानकी पुल.==================================== – हिया ने फ़ेसबुक से लॉग आउट किया और बिस्तर पर गिरकर रोने लगी… नील और जेनोभी दोनों ऑन लाइन …

Read More »